Advertisements
zakir khan shayari

Zakir Khan shayari in hindi – जाकिर खान शायरी 2021

मेरी जमीन तुमसे गहरी रही है,
वक़्त आने दो, आसमान भी तुमसे ऊंचा रहेगा।

लूट रहे थे खजाने मां बाप की छाव मे,
हम कुड़ियों के खातिर, घर छोड़ के आ गए।

zakir khan shayari on life

कामयाबी तेरे लिए हमने खुद को कुछ यूं तैयार कर लिया,
मैंने हर जज़्बात बाजार में रख कर एश्तेहार कर लिया ।

यूं तो भूले हैं हमें लोग कई, पहले भी बहुत से
पर तुम जितना कोई उन्मे सें , कभी याद नहीं आया।

zakir khan best shayari

Zakir khan poem

मेरे घर से दफ्तर के रास्ते में
तुम्हारी नाम की एक दुकान पढ़ती हैं
विडंबना देखो,
वहां दवाइयां मिला करती है।

इश्क़ को मासूम रहने दो नोटबुक के आख़री पन्ने पर
आप उसे किताबों म डाल कर मुस्किल ना कीजिए।

Zakir khan poem
मेरी औकात मेरे सपनों से इतनी बार हारी हैं के
अब उसने बीच में बोलना ही बंद कर दिया है।

zakir khan shayari on love

ज़मीन पर आ गिरे जब आसमां से ख़्वाब मेरे
ज़मीन ने पूछा क्या बनने की कोशिश कर रहे थे।

Zakir khan shayaris

हर एक दस्तूर से बेवफाई मैंने शिद्दत से हैं निभाई
रास्ते भी खुद हैं ढूंढे और मंजिल भी खुद बनाई।

Zakir khan shayaris

मेरी अपनी और उसकी आरज़ू में फर्क ये था
मुझे बस वो…
और उसे सारा जमाना चाहिए था।

मेरे इश्क़ से मिली है तेरे हुस्न को ये शोहरत,
तेरा ज़िक्र ही कहां था , मेरी दास्तान से पहले।

zakir khan shayari main shunya pe sawar hu,

गर यकीन ना हों तो बिछड़ कर देख लो
तुम मिलोगे सबसे मगर हमारी ही तलाश में।

zakir khan famous shayari

इश्क़ किया था
हक से किया था
सिंगल भी रहेंगे तो हक से ।

zakir khan shayari sakht launda

Zakir khan shayaris

जिंदगी से कुछ ज्यादा नहीं,
बस इतनी सी फर्माइश है,
अब तस्वीर से नहीं,
तफसील से मिलने की ख्वाइश है ।

zakir khan best shayari in hindi

ये तो परिंदों की मासूमियत है,
वरना दूसरों के घर अब आता जाता कौन हैं।

तुम भी कमाल करते हों ,
उम्मीदें इंसान से लगा कर
शिकवे भगवान से करते हो।

zakir khan shayari in hindi

Zakir khan poems

6 Hair bands.
4 alag alag tarah ki baalon wali Clips.
Woh… uss din jo sandal tuti thi tumhari, Uska Ek strap.
Aur haan Woh kitaab jiske panne mod kar diye they tumne.

Sambhal rakha hai maine sab,
Jab aaogi toh le jaana.

Waise chote bade mila kar,
kuch 23 kapde bhi pade hai tumahre.
Unme se, kuch me tum bala ki haseen lagi.
jaise woh red wala top aur Black wali dress.
Woh baby pink crop top aur woh green jump suit.
Sab yahin pada hai.
toh mai bas yeh keh raha tha ki
kharid lena na waisa sa hi kuch kahi se.. kyunki,
Sach kahu toh Lautane ka Dil nahi karta mera.

Nahi Nahi Mazak kar raha hoon,

Sambhal rakha hai maine sab,
Jab aaogi toh le jaana.

Waise kuch hisab bhi dena tha tumko,

Jo tumhari meri Tasveer wala,
Coffee mug diya tha tumne.
Uska handle tut gaya hai mujhse.
Blue wali shirt bhi pichhle 2 hafton se,
Mil nahi rahi hai kahin par aur..
Perfume khatam ho gaya hai.
Ghadi khoyi nahi hai par band ho gayi thi.
Isliye utar rakhi hai, bas bata raha hoon tumhe.
Woh Green wali check shirt dhobi ne jala di.
Woodland wale joote Zeeshan le gaya.
tumhare diye Earphones aur Chashma,
ek din Airport par jaldbaazi me chhut gaye.
bahut dhunda, nahi mile.

Par

Woh sukha hua Gulaab ke phoolo ka guladasta.
tumhari lipstick ke nishaan wala paper cup.
Woh tissue paper jis par tumne number likh kar diya tha,
tumhari car parking ki parchiyaan.
Woh toote hue clutcher ke dono hisse.
tumhare mor pankh wale jhumke.

Aur mai….

yeh sab kuch jo bhool gayi thi tum,
ya shayad jaankar chhoda tha tumne.
Apni jaan se bhi jayada,

Sambhal rakha hai maine sab,
Jab aaogi toh le jaana.

बड़ी कश्मकश में है ये जिंदगी की,
तेरा मिलना मिलना इश्क़ था या फरेब।

Zakir khan shayari

दिलों की बात करता है ज़माना,
पर आज भी मोहब्बत
चेहरे से ही शुरू होती हैं।

zakir khan shayari one sided love

वो तितली की तरह आयी और ज़िन्दगी को बाग कर गयी
मेरे जितने भी नापाक थे इरादे, उन्हें भी पाक कर गयी।

माना की तुमको भी इश्क़ का तजुर्बा कम् नहीं,
हमने भी तो बागो में है कई तितलियाँ उड़ाई…

ज़िन्दगी से कुछ ज्यादा नहीं बास इतनी सी फरमाइश है ,
अब तस्वीर से नहीं, तफ्सील से मिलने की ख्वाइश है…

ZAKIR KHAN SHAYARI LYRICS IN HINDI

कामयाबी, तेरे लिए हमने खुदको को कुछ यूँ तैयार कर लिया,
मैंने हर जज़्बात बाज़ार में रख कर इश्तेहार कर लिया…

यूँ तो भूले है हमे लोग कई पहले भी बोहोत से,
पर तुम जितना उनमे से कभी कोई याद नहीं आता…

तुझे खोने का खौफ जबसे निकला है बाहर,
तुझे पाने की जिद भी टिक न सकी दिल में…

ZAKIR KHAN SHAYARI SHUNYA

इश्क़ को मासूम रहने दो , नोटबुक के आखरी पन्ने पर,
आप उससे किताबों में डाल के मुश्किल न कीजिये…

रफ़ीक़ों से रक़ीब अच्छे जो जल कर नाम लेते हैं
गुलों से ख़ार बेहतर हैं जो दामन थाम लेते हैं

कितनी पामाल उमंगों का है मदफ़न मत पूछ
वो तबस्सुम जो हक़ीक़त में फ़ुग़ाँ होता है

ZAKIR KHAN SHAYARI QAYAMAT LYRICS

मार डाला मुस्कुरा कर नाज़ से
हाँ मिरी जाँ फिर उसी अंदाज़ से

मैं भी हैरान हूँ ऐ ‘दाग़’ कि ये बात है क्या
वादा वो करते हैं आता है तबस्सुम मुझ को

दिल तो रोता रहे ओर आँख से आँसू न बहे
इश्क़ की ऐसी रिवायात ने दिल तोड़ दिया

ZAKIR KHAN SHAYARI JASHN E REKHTA

ऐ दिल-ए-बे-क़रार चुप हो जा
जा चुकी है बहार चुप हो जा

हम से पूछो न दोस्ती का सिला
दुश्मनों का भी दिल हिला देगा

हम ने सुना था की दोस्त वफ़ा करते हैं “फ़राज़”
जब हम ने किया भरोसा तो रिवायत ही बदल गई

ZAKIR KHAN SHAYARI INSPIRATIONAL

अगर आप जाकिर खान शायरी क़यामत, जाकिर खान शायरी इन हिंदी, मैं शून्य पे सवार हूँ, मेरे कुछ सवाल है जो क़यामत, जाकिर खान पोएट्री, उसे अच्छा नहीं लगता, मेरे कुछ सवाल है जो सिर्फ क़यामत तथा जाकिर खान कविता के बारे में यहाँ से जान सकते है

दुश्मनों की जफ़ा का ख़ौफ़ नहीं
दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं

आशिक़ी हो कि बंदगी ‘फ़ाख़िर’
बे-दिली से तो इब्तिदा न करो

भूली हुई सदा हूँ मुझे याद कीजिए
तुम से कहीं मिला हूँ मुझे याद कीजिए

ZAKIR KHAN SHAYARI MASOOM LADKI

कौन जाने कि इक तबस्सुम से
कितने मफ़्हूम-ए-ग़म निकलते हैं

देखने वालो तबस्सुम को करम मत समझो
उन्हें तो देखने वालों पे हँसी आती है

अब न आएँगे रूठने वाले
दीदा-ए-अश्क-बार चुप हो जा

ZAKIR KHAN SHAYARI ON SUCCESS

ऐ अदम के मुसाफ़िरो होशियार
राह में ज़िंदगी खड़ी होगी

दुश्मनों से क्या ग़रज़ दुश्मन हैं वो
दोस्तों को आज़मा कर देखिए

अपने आप के भी पीछे खड़ा हूँ मई ,
ज़िन्दगी , कितने धीरे चला हूँ मैं…
और मुझे जगाने जो और भी हसीं होकर आते थे ,
उन् ख़्वाबों को सच समझकर सोया रहा हूँ मैं….

ZAKIR KHAN SHAYARI ON BEWAFAI

अब वो आग नहीं रही, न शोलो जैसा दहकता हूँ,
रंग भी सब के जैसा है, सबसे ही तो महेकता हूँ…
एक आरसे से हूँ थामे कश्ती को भवर में,
तूफ़ान से भी ज्यादा साहिल से डरता हूँ…

बस का इंतज़ार करते हुए,
मेट्रो में खड़े खड़े
रिक्शा में बैठे हुए
गहरे शुन्य में क्या देखते रहते हो?
गुम्म सा चेहरा लिए क्या सोचते हो?
क्या खोया और क्या पाया का हिसाब नहीं लगा पाए न इस बार भी?
घर नहीं जा पाए न इस बार भी?

“Bahut Masum ladki hai ishq ki Baat nahi samjhti
Naa jane Kis Din Main khoyi
Rehti meri raat nahi samjhti”.

“Har ek Copy ke peeche kuch na kuch Khaash likha hai
Bas iss tarah tere mere ishq ka itihaas likha hai,
tu duniya main chahe jahan bhi rahe, apni diary mein
maine tujhe apne pass likha hai.”

“Mere Kuch sawal hai joh sirf kayamat ki raat puchunga tumse,
Kyunki uske pehle tumhari or meri baat ho sake
uske layak nahi ho tum..”

“Ab koi haq se haath pakadkar mehfil
mein dobara nahi baithaata
Sitaaron ke beech se suraj banne ke
kuch apne hi nuksaan hua karte hai”

“Jis guldaan ko tum ajj apna kehte ho,
uska phool ek din hamara bhi tha,
Who jo ab tum uske mukthaar ho toh sun lo,
usse acha nahi lagta,

meri jaan ke haqdaar ho to sun lo,
usse acha nahi lagta!

Who jo ab tum uske mukthaar ho toh sun lo,
usse acha nahi lagta,

meri jaan ke haqdaar ho to sun lo,
usse acha nahi lagta,

Ki who jo zulf bikhere toh bikhiri na samjhna,
agar mathe pe aa jaaye toh befikri na samjhna,

darasal usee aise he pasand hai,
Uski Azaadi, Uski Khuli Zulfon meh band hai!

Jante Ho who agar hazar baar julfein na sware toh
uska guzara nahi hota,

Waise dil bohot saaf hai uska inn harkaton
mein koi ishara nahi hota.

Khuda Ke waste, Khuda ke waste use kabhi rok na dena,
Uski azaadi se usee kabhi tok na dena,

ab meh nahi tum uske dildaar ho toh sun lo,
usse acha nahi lagta”

“Bewajeh bewafaaon ko yaad kiya hai,
Galat logon pe bahut waqt Barbaad kiya hai”

Wo Titli ki tarah aayi aur Zindagi ko Baag kar gayi,
Mere jitne Napaak the Iraade, Unhe bhi Paak kar gayi..

Ab woh aag nahi rahi, na sholon sa deheqta hoon.
Rang bhi sabke jaisa hai, sab sa hi mehekta hoon..

Ek arsey se hoon thame, Kashti ko bhawar me.
Toofaan se bhi jayada, sahil se siharta hoon..

zakir khan poetry usse acha nahi lagta lyrics

Jis guldaan ko tum ajj apna kehte ho, uska phool kabhi hamara tha,

Who jo ab tum uske mukthaar ho toh sun lo,
usse acha nahi lagta,
meri jaan ke haqdaar ho to sun lo,
usse acha nahi lagta!

Who jo ab tum uske mukthaar ho toh sun lo,
usse acha nahi lagta,
meri jaan ke haqdaar ho to sun lo,
usse acha nahi lagta,
Ki who jo zulf bikhere toh bikhiri na samjhna,
agar mathe pe aa jaaye toh befikri na samjhna,
darasal usee aise he pasand hai,
Uski Azaadi, Uski Khuli Zulfon meh band hai!

Jante Ho,
Jante Ho who agar hazar baar julfein na sware toh uska guzara nahi hota,
Waise dil bohot saaf hai uska inn harkaton mein koi ishara nahi hota.
Khuda Ke waste, Khuda ke waste use kabhi rok na dena,
Uski azaadi se usee kabhi tok na dena,
ab meh nahi tum uske dildaar ho toh sun lo,
Usse acha nahi lagta!!

-Zakir khan