Wasim Barelvi Shayari | वसीम बरेलवी शायरी

जाहिद हुसैन जिन्हें कलम नाम वसीम बरेलवी के नाम से जाना जाता है. ज़ाहिद हुसैन का जन्म 8  फरवरी 1940  बरेली में हुआ था.  वसीम बरेलवी 10 साल  की उम्र में ही कुछ शेर लिखे . वसीम बरेलवी ने बरेली कालेज से एम्. ऐ उर्दू में गोल्ड मेडल हासिल किया. और उसी कॉलेज में वो उर्दू विभाग के अध्यक्ष भी बने..साठ के दशक में वसीम साहब मुशायरों में जाने लगे और वहा अपने लिखे गज़लों को पढ़ने लगे. और उनका शेरो-शायरी के प्रति और अधिक झुकाव होने लगा.  

जगजीत सिंह द्वारा गाए गए उनकी ग़ज़लें बहुत लोकप्रिय हैं .उन्हें “फ़िराक गोरखपुरी इंटरनेशनल अवार्ड”, कालिदास स्वर्ण पदक  से सम्मानित किया गया है .बरेलवी नेशनल काउंसिल फॉर प्रमोशन ऑफ़ उर्दू लैंग्वेज (NCPUL) के उपाध्यक्ष हैं। उन्होंने कुलव 2012 (NIT इलाहाबाद का सांस्कृतिक कार्यक्रम) में भी प्रदर्शन किया था

वो सबके चहेते बन गए ,आज वसीम बरेलवी  हिंदुस्तान ही नहीं देश विदेशो में भी इनके चाहने वाले हैं . पेश हैं कुछ ऐसे ही चुनिंदा शेर शायरी:

waseem barelvi shayari in hindi love

waseem barelvi shayari in hindi love

दुख अपना अगर हम को बताना नहीं आता
तुम को भी तो अंदाज़ा लगाना नहीं आता

dukh apnā agar ham ko batānā nahīñ aatā
tum ko bhī to andāza lagānā nahīñ aatā

wasim barelvi shayari image
waseem barelvi shayari in hindi love

āsmāñ itnī bulandī pe jo itrātā hai
bhuul jaatā hai zamīñ se hī nazar aatā hai

wasim barelvi shayari image
waseem barelvi shayari on love

ग़म और होता सुन के गर आते न वो ‘वसीम’
अच्छा है मेरे हाल की उन को ख़बर नहीं

ġham aur hotā sun ke gar aate na vo ‘vasīm’
achchhā hai mere haal kī un ko ḳhabar nahīñ

wasim barelvi shayari image
waseem barelvi shayari on love

aise rishte kā bharam rakhnā koī khel nahīñ
terā honā bhī nahīñ aur tirā kahlānā bhī

wasim barelvi shayari image
waseem barelvi shayari in hindi on love

अपने चेहरे से जो जाहिर है छुपाए कैसे
तेरी मर्जी के मुताबिक नजर आए कैसे

apne chehre se jo zāhir hai chhupā.eñ kaise
terī marzī ke mutābiq nazar aa.eñ kaise

मै बोलता गया हु और वो सुनता रहा खामोश
ऐसे भी मेरी हार हुई है कभी कभी

maiñ boltā gayā huuñ vo suntā rahā ḳhāmosh
aise bhī merī haar huī hai kabhī kabhī

wasim barelvi shayari photo
waseem barelvi shayari in hindi on love

तुझे पाने की कोशिश में कुछ इतना खो चुका हूँ मैं
कि तू मिल भी अगर जाए तो अब मिलने का ग़म होगा

tujhe paane kī koshish meñ kuchh itnā kho chukā huuñ maiñ
ki tū mil bhī agar jaa.e to ab milne kā ġham hogā

wasim barelvi romantic shayari

वो मेरे सामने ही गया और मैं
रास्ते की तरह देखता रह गया

wasim barelvi shayari photo
wasim barelvi romantic shayari

Wo mere saamne hi reh gaya aur mai
Raaste ki tarah dekhta rah gaya

तुम आ गए हो तो कुछ चांदनी सी बातें
जमी पर चांद कहां रोज-रोज उतरता है


tum aa ga.e ho to kuchh chāñdnī sī bāteñ hoñ
zamīñ pe chāñd kahāñ roz roz utartā hai

wasim barelvi shayari photo
wasim barelvi romantic shayari

तुम मेरी तरफ देखना छोड़ दो तो बताऊँ हर शख्स तुम्हारी तरफ ही देख रहा है
tum merī taraf dekhnā chhoḌo to batā.ūñ har shaḳhs tumhārī hī taraf dekh rahā hai

वो झूट बोल रहा था बड़े सलीके से
मै ऐतबार ना करता तो क्या करता

आते आते मेरा नाम सा रह गया
उसके होठो पे कुछ काँपता रह गया

aate aate mirā naam sā rah gayā
us ke hoñToñ pe kuchh kāñptā rah gayā

wasim barelvi best sher

wasim barelvi shayari photo
wasim barelvi best sher

जहाँ रहेगा वहीं रौशनी लुटाएगा
किसी चराग़ का अपना मकाँ नहीं होता


jahāñ rahegā vahīñ raushnī luTā.egā
kisī charāġh kā apnā makāñ nahīñ hotā

wasim barelvi shayari in hindi photo
wasim barelvi best sher

बहुत से ख़्वाब देखोगे तो आँखें
तुम्हारा साथ देना छोड़ देंगी

Bahut se khaab dekhohe to aankhe
Tumhara saath dena chod dengi

wasim barelvi shayari in hindi photo
wasim barelvi best sher

na paane se kisī ke hai na kuchh khone se matlab hai
ye duniyā hai ise to kuchh na kuchh hone se matlab hai

रात तो वक़्त की पाबंद है ढल जाएग
देखना ये है चराग़ों का सफ़र कितना है
raat to vaqt kī pāband hai Dhal jā.egī
dekhnā ye hai charāġhoñ kā safar kitnā hai

शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं
किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है
Sharafaton ki yahan koi ahmiyat hi nahi
Kisi ka kuch naa bigaado to kaun darta hai

वैसे तो इक आँसू ही बहा कर मुझे ले जाए
ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता

waise to ek aanshu hi baha kar mujhe le jaaye
Aise koi tufaan hila bhi nahi sakta

wasim barelvi shayari in hindi image
wasim barelvi best sher life

Kisi ne rakh diye mamta bhare to haath kya sar par
Mere andar ka koi baccha bilakh kar rone lagta hai

wasim barelvi on dosti

किसी से कोई भी उम्मीद रखना छोड़ कर देखो
तो ये रिश्ता निभाना किस क़दर आसान हो जाए
kisi se koi bhi ummid rakhna chod kar dekho
Toh ye rishta nibhana kis kadar asaan ho jaaye

कुछ है कि जो घर दे नहीं पाता है किसी को
वर्ना कोई ऐसे तो सफ़र में नहीं रहता
Kuch hai ki jo ghar de nahi pata hai kisi ko
Warna koi aise toh safar me nahi rehta

हर शख़्स दौड़ता है यहाँ भीड़ की तरफ़
फिर ये भी चाहता है उसे रास्ता मिले
Har shaks daudta hai yahan bheed ki taraf
Fir ye bhi chahta hai use raaste milei

अपने अंदाज़ का अकेला था
इसलिए मैं बड़ा अकेला था
apne andaaz ka akela tha
Isliye mai bada akela tha

हादसों की ज़द पे हैं तो मुस्कुराना छोड़ दें
ज़लज़लों के ख़ौफ़ से क्या घर बनाना छोड़ दें
Haadaso ki jidd pe hai to muskarana chod dei
Jaljalon ke khauf se kya ghar banana chod dei

किसी को कैसे बताएं जरूरते अपनी
मदद मिले ना मिले आबरू तो जाती है
kisī ko kaise batā.eñ zarūrateñ apnī
madad mile na mile aabrū to jaatī hai

उसी को जीने का हक़ है जो इस ज़माने में
इधर का लगता रहे और उधर का हो जाए

usī ko jiine kā haq hai jo is zamāne meñ
idhar kā lagtā rahe aur udhar kā ho jaa.e

Leave a Reply

%d bloggers like this: