शिक्षक दिवस शायरी ( Teachers Day Shayari in hindi )

Teachers Day Shayari

दिया ज्ञान का भण्डार हमें
किया भविष्य के लिए तैयार हमें
हैं आभारी उन गुरुओं के हम
जो किया कृतज्ञ अपार हमें।

जो बनाए हमें इंसान,
दे सही-गलत की पहचान,
उन शिक्षकों को प्रणाम।
शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं

गुरु मन में बैठत सदा, गुरु है भ्रम का काल,
गुरु अवगुण को मेटता, मिटें सभी भ्रमजाल।

Advertisements

जल जाता है वो दिए की तरह,
कई जीवन रोशन कर जाता है।
कुछ इसी तरह से हर गुरु,
अपना फर्ज निभाता है।

Teachers Day shayari in Hindi

अज्ञान को मिटा कर,
ज्ञान का दीपक जलाया है।
गुरु कृपा से मैंने,
ये अनमोल शिक्षा पाया है।

जिसे देता है हर व्यक्ति सम्मान,
जो करता है वीरों का निर्माण।
जो बनाता है इंसान को इंसान,
ऐसे गुरु को हम करते हैं प्रणाम।

शिक्षक दिवस शायरी

गुमनामी के अंधेरे में था
पहचान बना दिया
दुनिया के गम से मुझे
अनजान बना दिया
उनकी ऐसी कृपा हुई
गुरू ने मुझे एक अच्छा
इंसान बना दिया।

शिक्षक दिवस शायरी 2021

गुरू बिना ज्ञान कहां,
उसके ज्ञान का आदि न अंत यहां।
गुरू ने दी शिक्षा जहां,
उठी शिष्टाचार की मूरत वहां।

माता गुरु हैं, पिता भी गुरु हैं,
विद्यालय के अध्यापक भी गुरु है
जिससे भी कुछ सिखा हैं हमने,
हमारे लिए हर वो शख्स गुरु हैं

Happy Teachers Day Message in hindi

गुरु तेरे उपकार का,
कैसे चुकाऊं मैं मोल,
लाख कीमती धन भला,
गुरु हैं मेरे अनमोल

आपसे ही सीखा, आपसे ही जाना
आप ही को हमने गुरु हैं माना,
सीखा हैं सब कुछ आपसे हमने,
कलम का मतलब आपसे हैं जाना

Teacher’s day Hindi Shayari

सही और गलत का सबक पढ़ाते हैं आप,
सच और झूठ का फर्क बताते हैं आप
जब कुछ समझ नहीं आता समझाते है आप
आप मार्गदर्शक है राहो को सरल बनाते है आप

शांति का पढ़ाया पढ़ते हैं
अज्ञान का अंधकार मिटाते हैं
गुरु वो प्राणी है जो हम सबको
नफरत से लड़ना बताते हैं

माता-पिता की भगवान् की मूरत है
गुरु पूरे विश्व की जरूरत है

Hindi Shayari on Teachers day 2021

जीवन मजेदार जितना है माँ-बाप के प्यार से,
उतना ही खुसबूदार है गुरू के आशीर्वाद से,

अज्ञानता हटाकर ज्ञान की लौ जलाई है
गुरूवर से ही हमने जीने की शिक्षा पाई है,
गलत राह पर भटकते कभी हम
तो मेरे टीचर ने राह दिखाई है।

Happy Teachers Day Message in hindi

गुरू बिना ज्ञान कहाँ होता है
समझ बिना ध्यान कहाँ होता है
गुरू ने दी जैसी दी शिक्षा
वही दिमाग में व्यक्ति सपने संजोता है

जीवन के धेरे में ज्ञान की लौ दिखाते है आप,
बंद हो जाते है जब सारे दरवाजे नया रास्ते बताते है आप
किताबो में लिखा होगा बहुत कुछ
जीवन को असल ज्ञान से जीना सिखाते है आप

Teachers day wishes in hindi

भगवान ने जिंदगी दी है
मा बाप ने प्यार दिया है
पढ़ने और सीखने का जो गुर है
क किसी और ने नहीं टीचर ने दिया है

टीचर के बिन ये दुनिया कुछ नहीं
केवल हर तरफ बस अंधकार यहाँ,
शत-शत नमन उन शिक्षकों को,
जिनके कारण जीवन में उजियारा है

बिना गुरू नहीं सकता जीवन साकार,
तभी मिलता जीवन को सही आकार,
सर पर होता है जब गुरु का आशीर्वाद
तभी गुरु हैं जीवन जीने का आधार।

Teachers day ki shayari

दिया ज्ञान का भंडार
किया भविष्य के लिए तैयार
है आभारी उनके हम,
जो किया कृतज्ञ अपार ।
हैप्पी टीचर्स डे

बिना गुरू नहीं सकता जीवन साकार,
तभी मिलता जीवन को सही आकार,
सर पर होता है जब गुरु का आशीर्वाद
तभी गुरु हैं जीवन जीने का आधार।

Teachers day par shayari

जो बनाए बच्चो को इंसान
दे सही गलत की पहचान,
देश के सभी गुरुओं को,
हम करते हैं शत-शत प्रणाम।

Shikshak Diwas Par Shayari hindi mai

शिक्षक के बिन ये दुनिया कुछ नहीं
बस अंधकार होगा उजाला कुछ नहीं
शत-शत नमन उन शिक्षकों को,
जिनके कारण दिमाग से रौशन जहां है

Teachers day poem in Hindi language

आदर्शों की मिसाल बनवा कर
बचपन जीवन संवारता है शिक्षक,
सदाबहार फूल सा खिलकर,
जीवन के बागियों को महकाता है शिक्षक,
हरदम नए प्रेरक आयाम लाकर
हर पल सपनो को भव्य बनाता है शिक्षक,
जीवन के मुल धन का ज्ञान हमें देकर,
खुशियाँ खूब बांटता है शिक्षक।

दिया ज्ञान का भंडार
किया भविष्य के लिए तैयार
आभार है उन गुरुओं का
जिन्होंने किया कृतज्ञ बारम्बार

Teachers day Shloka in Sanskrit

गुरुर्ब्रह्मा ग्रुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः।
गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः॥

पन्चाग्न्यो मनुष्येण परिचर्या: प्रयत्नत:।
पिता माताग्निरात्मा च गुरुश्च भरतर्षभ।।

देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरो रुष्टे न कश्चन:।
गुरुस्त्राता गुरुस्त्राता गुरुस्त्राता न संशयः।।

प्रेरकः सूचकश्वैव वाचको दर्शकस्तथा।
शिक्षको बोधकश्चैव षडेते गुरवः स्मृताः॥

किमत्र बहुनोक्तेन शास्त्रकोटि शतेन च।
दुर्लभा चित्त विश्रान्तिः विना गुरुकृपां परम् ॥

धर्मज्ञो धर्मकर्ता च सदा धर्मपरायणः।
तत्त्वेभ्यः सर्वशास्त्रार्थादेशको गुरुरुच्यते॥