Advertisements

तकदीर शायरी -taqdeer shayari in hindi

कुछ हार गयी तकदीर कुछ सपने टूट गए;
कई गैरों ने बर्बाद किया कुछ खामखाह बिगड़ गए !

kuch haar gayi takdir kuch sapne tut gaye
kai gairon ne barbaad kiya kuch khamakhaah bigad gaye

मजबूर किये गए हैं हम तकदीर के हाथ
नहीं समझ सकते जिनके जज़्बात
ना पाने की औकात रखतेँ हैँ,
और ना खोने का हौसला जूता पाते है .!!

खुशीयाँ तकदीर में होनी चाहिये, तस्वीर मे तो हर शख्स मुस्कुराता है..

taqdeer shayari

तकदीर बनाने वाले, तूने भी क्या हद कर दी;
और दिल में मोहब्बत किसी और की भर दी!
तकदीर में किसी और का नाम लिखा था;
मैंने दिल टटोला तेरा चेहरा भी वहां पड़ा था

takdir banaane wale tune bhi kya hadd kar di
aur dil me mohabbat kisi aur ki bhar di
takdir me kisi aur ka naam likha tha
maine dil tatola tera chehra bhi wahan pada tha

तकदीर लिखने वाले एक एहसान लिख,
मेरे इश्क की तकदीर में मुस्कान लिख ,
ना मिले जिंदगी में कभी भी दर्द उनको ,
उनकी किस्मत में मेरी जान लिख ।

takdir likhne wale ek ehsaan likh,
mere ishq ki takdir me muskaan likh
naa mile jindagi me kabhi dard unko,
unki kismat me meri jaan likh

क्या पानी की लकीरो से लिखी थी मेरे तक़दीर
हर ख्वाब मिल जाते हैं, मेरे रंग भरने से पहले ही…

देख मेरा नशीब तकदीर रोने लगी
जज़्बात देखकर दिल की जागीर रोने लगी
इश्क़ में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई
सूरत को देखकर खुद तस्वीर रोने लगी

ज़िन्दगी तस्वीर भी है और तकदीर भी है!
फर्क तो उन एहसासो का है !
मनचले एहसास से बने जाते हैं तस्वीर;
अनजाने रंगों से बन जाते कइयों के तकदीर !

jindagi tasvir bhi hai aur takdir bhi hai
fark to un ehsasso ka hai
manchale ehsaaso se ban jaati hai tasvir
anjaane rango se ban jaate hai kaiyon ki takdir

क्या गजब की तकदीर पायी है उस इंसान ने
जिसने तुझसे मांगा भी नही था और तुझे पा लिया ..

तकदीर शायरी

लिक्खा है जो तक़दीर में होगा वही ऐ दिल
शर्मिंदा न करना मुझे तू दस्त-ए-दुआ का
आग़ा हज्जू शरफ़

likkhaa hai jo taqdeer men hogaa vahii ai dil
sharminda na karnaa mujhe tuu dast-e-duaa kaa
AGHA HAJJU SHARAF

जुस्तुजू करनी हर इक अम्र में नादानी है
जो कि पेशानी पे लिक्खी है वो पेश आनी है
~इमाम बख़्श नासिख़

कब हँसा था जो ये कहते हो कि रोना होगा
हो रहेगा मेरी क़िस्मत में जो होना होगा
अज्ञात

खो दिया तुम को तो हम पूछते फिरते हैं यही
जिस की तक़दीर बिगड़ जाए वो करता क्या है
~फ़िराक़ गोरखपुरी

tahrir badaltii hai taqdeer badaltii hai
maahaul badalne se tadbir badaltii hai
SHAMSII MEENAI

taqdeer badal do mirii hur jaisaa banaa do
hur jaisaa banaa do mirii taqdeer badal do
Zawwar Qamri

ai kaatib-e-taqdeer ye taqdeer men likh de
bas us kii mohabbat mirii jaagiir men likh de
FARHAT NADEEM HUMAYUN

apni taqdeer se bagaawat ki
aaj ham ne bhii ik ibaadat ki
Karrar Noori

kuchh bhii ho taqdeer kaa likkhaa badal
chaahiye tujh ko ki ab rastaa badal
SHAISTA SAHAR

apnii tadbiir na taqdeer pe ronaa aayaa
dekh kar chup tirii tasviir pe ronaa aayaa
Naushad Ali

sitaara kyaa meri taqdeer kii Khabar degaa
vo Khud faraaKHi-e-aflaak men hai Khabar o zubuun
ALLAMA IQBAL

Destiny shayari in hindi

लिक्खा है जो तक़दीर में होगा वही ऐ दिल
शर्मिंदा न करना मुझे तू दस्त-ए-दुआ का
~आग़ा हज्जू शरफ़

मक़्बूल हों न हों ये मुक़द्दर की बात है
सज्दे किसी के दर पे किए जा रहा हूँ मैं
जोश मलसियानी

न तो कुछ फ़िक्र में हासिल है न तदबीर में है
वही होता है जो इंसान की तक़दीर में है
हैरत इलाहाबादी

रोज़ वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने को
मैं जो सोता हूँ तो जाग उठती है क़िस्मत मेरी
जलील मानिकपूरी

तदबीर से क़िस्मत की बुराई नहीं जाती
बिगड़ी हुई तक़दीर बनाई नहीं जाती
~दाग़ देहलवी

वस्ल की बनती हैं इन बातों से तदबीरें कहीं
आरज़ूओं से फिरा करती हैं तक़दीरें कहीं
हसरत मोहानी

हाथ में चाँद जहाँ आया मुक़द्दर चमका
सब बदल जाएगा क़िस्मत का लिखा जाम उठा
~ बशीर बद्र

ghar se nikalnaa jab mirii taqdeer ho gayaa
ik shaKHs mere paanv kii zanjir ho gayaa
AGHAZ BARNI

mujh se ruuThii mirii taqdeer thii vo aaj bhii hai
aah begaana-e-taasiir thii vo aaj bhii hai
SHAMSII MEENAI

jannat-e-kashmir yahi hai
jis Khaak ki hai auj pe taqdeer yahii hai
jo radd-e-Gulaami kii hai iksir yahii hai
ARSH MALSIYANI

baras ja e badal

क़िस्मत तो देख टूटी है जा कर कहाँ कमंद
कुछ दूर अपने हाथ से जब बाम रह गया
~क़ाएम चाँदपुरी
.


बद-क़िस्मती को ये भी गवारा न हो सका
हम जिस पे मर मिटे वो हमारा न हो सका
~शकेब जलाली

बुलबुल को बाग़बाँ से न सय्याद से गिला
क़िस्मत में क़ैद थी लिखी फ़स्ल-ए-बहार में
~ बहादुर शाह ज़फ़र

likhne vaale ne likkhii ye kaisii taqdeer
suunaa hai kamra miraa aur us kii tasviir
SAEED MANZAR

taqdeer-e-vafaa kaa phuuT jaanaa
main bhuulaa na dil kaa TuuT jaanaa
IFTIKHAR RAGHIB

shaam-e-Gam ke rone vaale sabr kar
subh bhii hogii terii taqdeer se
FARHAT KANPURI

taqdeer quotes

taqdeer ke aage kabhii tadbiir kisii kii
chaltii ho to samjhe koii taqsiir kisii kii
TALIB BAGHPATI

taqdeer-e-vafaa kaa phut jaanaa
main bhuulaa na dil kaa tut jaanaa
IFTIKHAR RAGHIB

ik safar phir marii taqdeer huaa jaataa hai
raasta paanv kii zanjiir huaa jaataa hai
MAHTAB ALAM


burii taqdeer ke rone se haasil
talab ho gar to viiraane bahut hain

agar taqdeer siidhii hai to KHud ho jaaoge siidhe
KHafaa baiThe raho tum ko manaane kaun aataa hai
MUZTAR KHAIRABADI

likkhi jab aasmaan ne taqdeer KHaak kii
mujh ko tamaam saunp dii jaagiir KHaak kii
AZMUL HASNAIN AZMI

gar aduu taqdeer hai tadbiir rahne diijiye
dost kaa dil men hamaare tiir rahne diijiye
KISHAN KUMAAR WAQAAR

dar badar kii Khaak thii taqdeer men
ham liye kaandhon pe ghar chalte rahe
BILQIS ZAFIRUL HASAN

KHudi ko kar buland itnaa ki har taqdeer se pahle
KHudaa bande se KHud puuchhe bataa teri razaa kyaa hai
ALLAMA IQBAL

aao taqdeer ko tadbir banaa kar dekhen
in andheron ko ujaalon se milaa kar dekhen
BAKHTIYAR ZIYA

ban gayaa tadbiir se har raasta taqdeer kaa
ab nahiin kuchh Khauf pairon ko kisii zanjiir kaa
ALEENA ITRAT

mehrbaan ham pe jo taqdeer hamaarii hogii
aap kii zulf-e-girah-giir hamaarii hogii
QATEEL SHIFAI

taqdeer shayari

marnaa taqdeer hai zanjiir bajaa lo pahle
kuchh ho sayyaad se aankhen to milaa lo pahle
JAVED LAHORI

छेड़-छाड़ करता रहा मुझ से बहुत नसीब
मैं जीता तरकीब से हारा वही ग़रीब
अख़्तर नज़्मी

hindi film shayari

ख़ुदा तौफ़ीक़ देता है…
ख़ुदा तौफ़ीक़ देता है जिन्हें वो ये समझते हैं
कि ख़ुद अपने ही हाथों से बना करती हैं तक़दीरें
अज्ञात

किसी के तुम हो किसी का ख़ुदा है दुनिया में
मेरे नसीब में तुम भी नहीं ख़ुदा भी नहीं
अख़्तर सईद ख़ान

कितना है बद-नसीब ‘ज़फ़र’ दफ़्न के लिए
दो गज़ ज़मीन भी न मिली कू-ए-यार में
बहादुर शाह ज़फ़र

jab bhii taqdeer kaa halkaa saa ishaara hogaa
aasmaan par kahiin meraa bhii sitaara hogaa
ALOK SHRIVASTAV

main jaan-ba-lab huun ai taqdeer tere haathon se
ki tere aage mirii kuchh na chal sakii tadbiir
SHAIKH ZAHURUDDIN HATIM

दौलत नहीं काम आती जो तक़दीर बुरी हो
क़ारून को भी अपना ख़ज़ाना नहीं मिलता
मिर्ज़ा रज़ा बर्क़

luck shayari in hindi

hijr ke maaron kii taqdeer bhii kyaa hotii hai
dekh sakte hain magar baat nahin ho paatii
AFZAL ALLAHABADI

Ek ham hi nahin taqdeer ke maare saahab
log hain baKHt-zada saare ke saare saahab
NADEEM SIRSIVI

har uqda-e-taqdeer jahaan khol rahii hai
haan dhyaan se sun.naa ye sadii bol rahii hai
FIRAQ GORAKHPURI

taqdeer ke chehre kii shikan dekh rahaa huun
aaina-e-haalaat hai duniyaa terii kyaa hai
SAGHAR SIDDIQUI

laakh taqdeer pe roe koi rone vaalaa
sirf rone se to kuchh bhii nahiin hone vaalaa
Sada Ambalvi

ek patthar kii bhii taqdeer sanvar saktii hai
shart ye hai ki saliiqe se taraashaa jaae
MANZOOR NADEEM BALAPURI

zarra zarra dahr kaa zindaanii-e-taqdeer hai
parda-e-majbuurii o bechaargi tadbir hai
ALLAMA IQBAL

muztarib hain sabhii taqdeer badalne ke liye
koii aamaada ho shoalon pe bhii chalne ke liye
SHAGUFTA YASMEEN

Leave a Comment