dr kumar vishwas shayari in hindi – डॉ कुमार विश्वास शायरी

दोस्तो आज का पोस्ट dr kumar vishwas shayari in hindi – डॉ कुमार विश्वास शायरी है और इस पोस्ट मे आप कुमार विश्वास शायरी पढ़ सकते है डा0 कुमार विश्वास की एक से बढ कर एक शायरियां और कविताओं की चंद लाइनों को जो आप को दिवाना बना देगी.

डॉ. कुमार विश्वास एक महान हिंदी कवि (dr kumar vishwas shayari in hindi ) है इसके अलावा यह राजनैतिक कार्यकर्ता भी है इनका जन्म 0 फ़रवरी 1970 में पिलखुआ, ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश में हुआ था 

kumar vishwas poetry – koi deewana kehta hai

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
,मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है
.मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है.

पनाहों में जो आया हो, उस पर वार क्या करना
जो दिल हारा हुआ हो,
उस पे फिर से अधिकार क्या करना
मोहब्बत का मज़ा तो,
डूबने की कशमकश में है.
जो हो मालूम गहरायी, तो दरिया पार क्या करना.

Panahon Main Jo Aaya Ho,
Us Par War Kya Karna
Jo Dil Hara Hua Ho,
Us Par Adhikar Kya Karna
Mohabbt Ka Maza To Dubne Ki
Kashmkash Main Hain
Jo Ho Malum Gahraayi,
To Dariya Paar Kya Karna.

मेरे जीने मरने में,
तुम्हारा नाम आएगा.
मैं सांस रोक लू फिर भी,
यही इलज़ाम आएगा.
हर एक धड़कन में जब तुम हो,
तो फिर अपराध क्या मेरा,
अगर राधा पुकारेंगी,
तो घनश्याम आएगा.

Mere jeene marne main,
Tumhara naam aayega.
Main saans rok lu phir bhi,
Yahi ilzaam aayegaa.
Har ek dhdkan main jab tum ho,
To phir apradh kya mera.
Agar Radha pukarengi,
To Ghanshyam aayega.

kumar vishwas shayari,
kumar vishwas poem,
dr kumar vishwas shayari in hindi
kumar viswas shayri,
kumar vishwas shayari in hindi,
kumar vishwas latest shayari,
shayari of kumar vishwas,
kumar vishwas ki shayari,
kumar vishwas love shayari,
कुमार विश्वास शायरी,
kumar vishwas poetry,
kumar vishwas shayari lyrics
kumar vishwas love shayari in hindi,
kumar vishwas shayari in hindi free download,
kumar vishwas hindi shayari,
shayari kumar vishwas,
kumar vishvas shayari,
kumar vishwas lyrics in hindi,
kumar viswas shayari,
dr kumar vishwas shayari in hindi free download,
kumar vishwas shayari in hindi font,
kumar vishwas all shayari,
kumar vishwas shayri in hindi,
kumar vishvas shayri,
kumar vishwas best shayari,
shayari by kumar vishwas,
कुमार विश्वास की शायरी,
dr. kumar vishwas shayari,
kumar vishwas poems lyrics in hindi,
kumar vishwas poetry in hindi,
kumar vishwas quotes,
kumar vishwas poem list,
shayri of kumar vishwas,
dr kumar vishwas poems in hindi,
kumar vishwas poem lyrics in hindi,
kumar vishwas lyrics,
kumar vishwas poem in hindi,
dr kumar vishwas shayari in hindi font,
kumar vishwas kavita,
kumar visvas shayri,
kumar vishwas shayari in hindi language,
shayari of kumar vishwas in hindi,
kumar vishwas shayari hindi,
vishwas kumar shayari,
poem of kumar vishwas in hindi,
kumar vishwas quotes in hindi,
shayari kumar vishwas in hindi,
kumar vishwas poem lyrics,
kumar vishwas latest poems,
dr kumar vishwas shayari,
dr vishwas kumar shayari,
dr kumar vishwas poems,
download kumar vishwas shayari,
kumar vishwas famous poem,
kumar vishwas poems,
kumar vishwas all poems lyrics,
dr kumar vishwas shayari download,
kumar vishwas shayari video,
dr kumar vishwas poetry,
kumar vishwas kavita lyrics in hindi,
www kumar vishwas shayari,
kumar vishwas shayari in hindi mp3,
kumar vishwas shayari free download,
kumar vishwas all poems,
lyrics of kumar vishwas,
kumar vishwas poems lyrics,
dr kumar vishwas kavita,
kumar vishwas hindi poem,
kumar vishwas best poem,
kumar vishwas shayari download,
dr kumar vishwas shayari free mp3 download,
dr kumar vishwas shayari mp3 download,
vishwas status in hindi,
vishwas shayari in hindi,
कुमार विश्वास की कविता डाउनलोड,
poem of kumar vishwas in hindi,
kumar vishwas kavita in hindi,
kumar vishwas poem in hindi pdf,
kumar vishvas poem,
vishwas status hindi,
vishwas shayri in hindi,
kumar vishwas all poem,
kumar vishwas kavita lyrics,
mp3 shayari of kumar vishwas,
visvas shayri,
romantic poems in hindi by kumar vishwas,
dr kumar viswas poem,
kavita of kumar vishwas,
kumar vishvas kavita,
kumar viswas ki kavita,
kumar vishwas shayari mp3,
kumar viswas poem in hindi,
vishwas shayri,
dr kumar vishwas shayari free download,
poem by kumar vishwas,
kumar vishwas hindi kavita,
best of kumar vishwas,
विश्वास शायरी,
kumar viswas kavita,
kumar viswas poetry,
kumar vishwas latest poem,
poem of kumar vishwas,
shayari on vishwas,
kumar vishwas ghazal,
vishwas shayari,
vishwas ki shayari,
kumar vishwas poems lyrics in hindi pdf,
biswas shayari in hindi,
hindi kavita kumar vishwas,
vishwas status,
kumar vishwas new poem,
shayari vishwas ki,
kumar vishwas shayari video free download,
vishwas kumar poem,
vishwas shayari hindi,
vishwas shayari sms hindi,
kumar vishwas gazal,
vishwas sms in hindi,
latest poem of kumar vishwas,
dr.kumar vishwas kavita,
poem of dr kumar vishwas,
कुमार विश्वास mp3,
kumar vishwas love story,
tum bin imdb,
kumar vishwas shayari in hindi mp3,
kumar vishwas ki kavita in hindi,
famous shayri,
kumar vishwas ki kavita,

कहीं पर जग लिए तुम बिन,
कहीं पर सो लिए तुम बिन.
भरी महफिल में भी अक्सर,
अकेले हो लिए तुम बिन
ये पिछले चंद वर्षों की कमाई साथ है अपने
कभी तो हंस लिए तुम बिन, कभी तो रो लिए तुम बिन.

Kahi par jag liye tum bin,
kahi par so liye tum bin
Bhari mahfil main bhi aksar,
Akele ho liye tum bin
Ye pichle chand varshon ki,
kamai saath hain apne
Kabhi to hans liye tum bin,
Kabhi to ro liye tum bin.

गिरेबां चाक करना क्या है,
सीना और मुश्किल है.
हर एक पल मुस्कुरा के,
अश्क पीना और मुश्किल है.
हमारी बदनसीबी ने,
हमें इतना सीखाया है.
किसी के इश्क में मरने से,
जीना और मुश्किल है.

Girebaan chaak karna kya hain,
Seena aur mushkil hain
Har ek pal muskura ke,
Ashq peena aur mushkil hain
Humari badnaseebee ne,
Hume itna shikhaya hain
Kisi ke ishq main marne se,
Jeena aur mushkil hain.

यह चादर सुख की मोल क्यू,
सदा छोटी बनाता है.
सीरा कोई भी थामो,
दूसरा खुद छुट जाता है.
तुम्हारे साथ था तो मैं,
जमाने भर में रुसवा था.
मगर अब तुम नहीं हो तो,
ज़माना साथ गाता है.

Yah chadar sukh ki mola kyu,
Sada choti banata hain.
Seera koi bhi thamo,
Dusra khud chut jaata hain.
Tumhare saath tha to main,
zamaane bhar main ruswa tha.
Magar ab tum nahi ho to,
Zamana sath gata hain.

कोई कब तक महज सोचे,
कोई कब तक महज गाए.
ईलाही क्या ये मुमकिन है कि
कुछ ऐसा भी हो जाऐ.
मेरा मेहताब उसकी रात के
आगोश मे पिघले
मैँ उसकी नीँद मेँ जागूँ
वो मुझमे घुल के सो जाऐ.

Koi kab tak mahaz soche,
Koi kab tak mahaz gaaye.
Llaahi kya ye mumkin hai ki,
Kuchh aesa bhi ho jaaye.
Mera mehtaab uski raat ke,
Aagosh mein pighale.
Main uski neend mein jaagun,
Wo mujhme ghul ke so jaaye

तुझ को गुरुर ए हुस्न है
मुझ को सुरूर ए फ़न.
दोनों को खुद पसंदगी की
लत बुरी भी है.
तुझ में छुपा के खुद को
मैं रख दूँ मग़र मुझे.
कुछ रख के भूल जाने की
आदत बुरी भी है.

हर इक खोने में हर इक पाने में
तेरी याद आती है
नमक आँखों में घुल जाने में तेरी याद आती है.
तेरी अमृत भरी लहरों को क्या मालूम गंगा माँ
समंदर पार वीराने में तेरी याद आती है.

घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे
देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा ?
मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है
दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा.

dr kumar vishwas shayari in hindi free download

सखियों संग रंगने की धमकी सुनकर
क्या डर जाऊँगा?
तेरी गली में क्या होगा ये मालूम है पर आऊँगा,
भींग रही है काया सारी खजुराहो की मूरत सी,
इस दर्शन का और प्रदर्शन मत करना, मर जाऊँगा.

उम्मीदों का फटा पैरहन,
रोज़-रोज़ सिलना पड़ता है,
तुम से मिलने की कोशिश में,
किस-किस से मिलना पड़ता है.

घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे,
देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा ?
मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है,
दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा .

हिम्मत ए रौशनी बढ़ जाती है,
हम चिरागों की इन हवाओं से,
कोई तो जा के बता दे उस को,
चैन बढता है बद्दुआओं से.

अजब है कायदा दुनिया ए इश्क का मौला
फूल मुरझाये तब उस पर निखार आता है
अजीब बात है तबियत ख़राब है जब से
मुझ को तुम पे कुछ ज्यादा प्यार आता है.

तुम्हारा ख़्वाब जैसे ग़म को अपनाने से डरता है
हमारी आखँ का आँसूं , ख़ुशी पाने से डरता है
अज़ब है लज़्ज़ते ग़म भी, जो मेरा दिल अभी कल तक़
तेरे जाने से डरता था वो अब आने से डरता है.

बस्ती – बस्ती घोर उदासी,
पर्वत – पर्वत सुनापन.
मन हीरा बेमोल लुट गया,
घिस -घिस रीता मन चंदन.
इस धरती से उस अम्बर तक,
दो ही चीज़ गजब की है.
एक तो तेरा भोलापन है,
एक मेरा दीवानापन.

समंदर पीर का अन्दर है,
लेकिन रो नहीं सकता
यह आंसू प्यार का मोती है,
इसको खो नहीं सकता.
मेरी चाहत को दुल्हन तू,
बना लेना मगर सुन ले.
जो मेरा हो नहीं पाया,
वो तेरा हो नहीं सकता.

स्वयं से दूर हो तुम भी, स्वयं से दूर है हम भी
बहुत मशहुर हो तुम भी, बहुत मशहुर है हम भी
बड़े मगरूर हो तुम भी, बड़े मगरूर है हम भी
अत : मजबुर हो तुम भी, अत : मजबुर है हम भी.

dr kumar vishwas shayari in hindi font

हमारे शेर सुनकर भी जो खामोश इतना है,
खुदा जाने गुरुर ए हुस्न में मदहोश कितना है.
किसी प्याले से पूछा है सुराही ने सबब मय का,
जो खुद बेहोश हो वो क्या बताये होश कितना है.

ना पाने की खुशी है कुछ,
ना खोने का ही कुछ गम है.
ये दौलत और शोहरत सिर्फ,
कुछ ज़ख्मों का मरहम है.
अजब सी कशमकश है,
रोज़ जीने, रोज़ मरने में.
मुक्कमल ज़िन्दगी तो है,
मगर पूरी से कुछ कम है.

kumar vishwaas,
dr kumar vishwas facebook,
dr kumar vishwas shayari in hindi,
कुमार विश्वास की कविता,
vishwas shayari image,
koi deewana kehta hai lyrics in hindi font,
famous shayari in hindi,
shayari of,
tum ho toh gaata hai dil mp3 free download,
is dharti se us ambar tak lyrics,
kumar vishwas ki kavita free download,
कुमार विश्वास कविता,
dr kumar vishwas latest,
political shayari in hindi font,
poems of kumar vishwas mp3,
dr vishwas kumar shayari video,
विश्वास पर शायरी,
kumar vishwas latest,
kavita kumar vishwas,
kumar vishwas mp3 collection,
dr kumar vishwas,
kumar vishwas facebook,
hindi famous shayari,
kumar vishwas holi kavita,
kumar vishwas in hindi,
doctor kumar vishwas,
famous shayari,
shero shayari on doctors,
kumar vishwas new,
dr.kumar vishwas,
vishwas kumar,
dr. kumar vishwas,
famous shayari of famous shayar,
kumarvishwas,
kumar vishwas latest kavita,
kumar biswas,
vishwas quotes in hindi,
डॉ कुमार विश्वास,
koi pagal samajhta hai lyrics,
kumar vishwas books pdf,
kumar vishwas shayari koi deewana kehta hai lyrics,
tum bin 2 line shayri,
kavi kumar vishwas kavita,
kavi kumar vishwas ki kavita,
kumar vis,
dr kumar vishwas ki kavita,
kumar visvas,
dr vishwas kumar,
dr kumar vishwas poetry download,
latest kumar vishwas,
kumar vishwas comedy,
famous sher,
kumar vishwas wife,
famous shayari on love,
all shayri,
vishwas quotes,
dr kumar vishwas wife,
राजनीति शायरी,
vishwas in hindi,
kumar vishwas education,
kumar vishwas wikipedia,
dr kumar vishvas,
kumar viswas comedy,
magroor meaning in hindi,
basti basti ghor udasi,
kumar vishwas ki kavita download,
sher shayari judai,
kumar vishwas book,
kumar viswas,
tere bin shayri,
tum bin shayari,
gandi shayari in hindi language,
wife of kumar vishwas,
kumar vishwas kavita video,
dr kumar vishwas kavi,
popular shayari,
विश्वास पर कविता,
ajab gajab shayari hindi,
doctor shayari in hindi,
kumar vishwas new book,
viswasam imdb,
poet kumar vishwas,
लेटेस्ट शायरी,
राजनीतिक शायरी,
kumar vishwas image,
love poetry in hindi language,
hindi gandi shayari,
kavita by kumar vishwas,
tum bin 2 imdb,
dr vishwas,
gandi shayari hindi language,
quotes on vishwas,
gandi sayri,
popular shayari in hindi,
kumar vishwas biography in hindi,
kumar vishwas family,
political sher o shayari in hindi,
famous status,
comedy kumar vishwas,
vishwas kavita,
maa whatsapp status,
all shayri in hindi,
vishvas in hindi,
tere bin shayari,
imdb viswasam,
political shayari in hindi,
kavi sammelan shayari in hindi,
famous love shayari in hindi,
famous love shayari,
famous fb status,
kuhu vishwas,
doctor poem in hindi,
kumar vishwas books,

इस उड़ान पर अब शर्मिंदा,
में भी हूँ और तू भी है.
आसमान से गिरा परिंदा,
में भी हूँ और तू भी है.
छुट गयी रस्ते में,
जीने मरने की सारी कसमे.
अपने – अपने हाल में जिंदा,
में भी हूँ और तू भी है.

तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है,
समझता हूँ.
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है,
समझता हूँ.
तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये
मुमकिन है नहीं लेकिन.
तुम्हीं को भूलना सबसे जरूरी है,
समझता हूँ.

फ़लक पे भोर की दुल्हन यूँ सज के आई है,
ये दिन उगा है या सूरज के घर सगाई है,
अभी भी आते हैं आँसू मेरी कहानी में,
कलम में शुक्र-ए- खुदा है कि रौशनाई है.

क़लम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा,
गिरेबां अपना आँसू में भिगोता हूँ तो हंगामा.
नहीं मुझ पर भी जो खुद की ख़बर वो है ज़माने पर,
मैं हँसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा.

dr kumar vishwas shayari in hindi pdf

भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का
मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा.

वो जिसका तीर चुपके से जिगर के पार होता है
वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है
किसी से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से
यहाँ ख़त भी थोड़ी देर में अखबार होता है.

कोई पत्थर की मूरत है, किसी पत्थर में मूरत है
लो हमने देख ली दुनिया, जो इतनी खुबसूरत है
जमाना अपनी समझे पर, मुझे अपनी खबर यह है
तुझे मेरी जरुरत है, मुझे तेरी जरुरत है.

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
मगर धरती की बैचेनी तो, बस बादल समझता है
मैं तुमसे दूर कितना हु , तू मुझसे दूर कितनी है
ये तेरा दिल समझता है , या मेरा दिल समझता है.

उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे
वो मेरा होने से ज्यादा मुझे पाना चाहे
मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा
ये मुसाफिर तो कोई ठिकाना चाहे.

बदलने को तो इन आखोँ के मंज़र कम नहीं बदले ,
तुम्हारी याद के मौसम,हमारे ग़म नहीं बदले ,
तुम अगले जन्म में हम से मिलोगी,तब तो मानोगी ,
ज़माने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले.

ये वो ही इरादें हैं, ये वो ही तबस्सुम है
हर एक मोहल्लत में, बस दर्द का आलम है
इतनी उदास बातें, इतना उदास लहजा ,
लगता है की तुम को भी, हम सा ही कोई गम है.

ना पाने की खुशी है कुछ,ना खोने का ही कुछ गम है…
ये दौलत और शौहरत सिर्फ कुछ जख्मों का मरहम है…
अजब सी कशमकश है रोज जीने ,रोज मरने में…
मुक्कमल जिंदगी तो है,मगर पूरी से कुछ कम है…”

गिरेबान चेक करना क्या है सीना और मुश्किल है,
हर एक पल मुस्कुराकर अश्क पीना और मुश्किल है,
हमारी बदनसीबी ने हमें बस इतना सिखाया है,
किसी के इश्क़ में मरने से जीना और मुश्किल है.

तुम्ही पे मरता है ये दिल अदावत क्यों नहीं करता
कई जन्मो से बंदी है बगावत क्यों नहीं करता..
कभी तुमसे थी जो वो ही शिकायत हे ज़माने से
मेरी तारीफ़ करता है मोहब्बत क्यों नहीं करता..

मिले हर जख्म को मुस्कान को सीना नहीं आया
अमरता चाहते थे पर ज़हर पीना नहीं आया
तुम्हारी और मेरी दस्ता में फर्क इतना है
मुझे मरना नहीं आया तुम्हे जीना नहीं आया

मेरा अपना तजुर्बा है तुम्हे बतला रहा हूँ मैं
कोई लब छू गया था तब के अब तक गा रहा हु मैं
बिछुड़ के तुम से अब कैसे जिया जाए बिना तड़पे
जो में खुद हे नहीं समझा वही समझा रहा हु मैं..

नज़र में शोखिया लब पर मुहब्बत का तराना है
मेरी उम्मीद की जद़ में अभी सारा जमाना है
कई जीते है दिल के देश पर मालूम है मुझकों
सिकन्दर हूं मुझे इक रोज खाली हाथ जाना है।

मै तेरा ख्वाब जी लून पर लाचारी है,
मेरा गुरूर मेरी ख्वाहिसों पे भरी है…!
सुबह के सुर्ख उजालों से तेरी मांग से,
मेरे सामने तो ये श्याह रात सारी है….!!

सब अपने दिल के राजा है, सबकी कोई रानी है,
भले प्रकाशित हो न हो पर सबकी कोई कहानी है.
बहुत सरल है किसने कितना दर्द सहा,
जिसकी जितनी आँख हँसे है, उतनी पीर पुराणी है.

वो जो खुद में से कम निकलतें हैं
उनके ज़हनों में बम निकलतें हैं
आप में कौन-कौन रहता है
हम में तो सिर्फ हम निकलते हैं।

मेरे जीने में मरने में, तुम्हारा नाम आएगा
मैं सांस रोक लू फिर भी, यही इलज़ाम आएगा
हर एक धड़कन में जब तुम हो, तो फिर अपराध क्या मेरा
अगर राधा पुकारेंगी, तो घनश्याम आएगा

वो जिसका तीरे छुपके से जिगर के पार होता है
वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है
किसी से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से
यहां खत भी जरा सी देर में अखबार होता है।

dr kumar vishwas shayari in hindi free download pdf

मिल गया था जो मुक़द्दर वो खो के निकला हूँ.
में एक लम्हा हु हर बार रो के निकला हूँ.
राह-ए-दुनिया में मुझे कोई भी दुश्वारी नहीं.
में तेरी ज़ुल्फ़ के पेंचो से हो के निकला हूँ .

गाँव-गाँव गाता फिरता हूँ, खुद में मगर बिन गाय हूँ,
तुमने बाँध लिया होता तो खुद में सिमट गया होता मैं,
तुमने छोड़ दिया है तो कितनी दूर निकल आया हूँ मैं…!!
कट न पायी किसी से चाल मेरी, लोग देने लगे मिसाल मेरी…!
मेरे जुम्लूं से काम लेते हैं वो, बंद है जिनसे बोलचाल मेरी…!!

ये दिल बर्बाद करके, इसमें क्यों आबाद रहते हो
कोई कल कह रहा था तुम अल्लाहाबाद रहते हो.
ये कैसे शोहरते मुझे अता कर दी मेरे मौला
में सब कुछ भूल जाता हु मगर तुम याद रहते हो.

जब आता है जीवन में खयालातों का हंगामा
हास्य बातो या जज़्बातो मुलाकातों का हंगामा
जवानी के क़यामत दौर में ये सोचते है सब
ये हंगामे की राते है या है रातो का हंगामा

हमने दुःख के महासिंधु से सुख का मोती बीना है
और उदासी के पंजों से हँसने का सुख छीना है
मान और सम्मान हमें ये याद दिलाते है पल पल
भीतर भीतर मरना है पर बाहर बाहर जीना है।

र एक नदिया के होंठों पे समंदर का तराना है,
यहाँ फरहाद के आगे सदा कोई बहाना है !
वही बातें पुरानी थीं, वही किस्सा पुराना है,
तुम्हारे और मेरे बिच में फिर से जमाना है…!!

कोई खामोश है इतना बहाने भूल आया हु
किसी की एक तरन्नुम में तराने भूल आया हु
मेरी अब राह मत ताकना कभी ऐ आसमा वालो
में एक चिड़िआ की आँखों में उड़ाने भूल आया हु.

पुकारे आँख में चढ़कर तो खू को खू समझता है
अँधेरा किसको कहते है ये बस जुगनू समझता है
हमें तो चाँद तारो में तेरा ही रूप दिखता है
मोहब्बत में नुमाइश को अदाए तू समझता है

मेहफिल-महफ़िल मुस्काना तो पड़ता है,
खुद ही खुद को समझाना तो पड़ता है
उनकी आँखों से होकर दिल जाना.
रस्ते में ये मैखाना तो पड़ता है.

allama iqbal shayari in hindi -अल्लामा इक़बाल की शायरी

प्रश्तुत है इक़बाल के प्रसिद्द शेर और शायरी, iqbal shayari in hindi,allama iqbal love shayari,iqbal ke sher, allama iqbal quotes in hindi,अल्लामा इक़बाल की शायरी जो की पाठकों को पसंद आएगा

इकबाल – मतलब हिंदी में Iqbal meaning in hindi

प्रताप,तेज, किस्मत,भाग्य ,धनदौलत, वैभव,अपराध आदि स्वीकार करने की क्रिया या भाव स्वीकृति,इकरार।

allama iqbal shayari

दिल की बस्ती अजीब बस्ती है,
लूटने वाले को तरसती है।

Dil ki basti ajeeb hai
Lootne waale ko tarsati hai

ढूंढता रहता हूं ऐ ‘इकबाल’ अपने आप को,
आप ही गोया मुसाफिर, आप ही मंजिल हूं मैं।

Doondta rahta hoon ae ‘Iqbal’ apne aap ko
Aap hi goya musafir, aap hi manjil hoon main

allama iqbal quotes in hindi

मुझे रोकेगा तू ऐ नाखुदा क्या गर्क होने से
कि जिसे डूबना हो, डूब जाते हैं सफीनों  में

Mujhe rokega tu ae nakhuda kya gark hone se
Ki jise doobna ho, doob jaate hai safeenon mein

उम्र भर तेरी मोहब्बत मेरी खिदमत रही
मैं तेरी खिदमत के क़ाबिल जब हुआ तो तू चल बसी

Umr bhar teri mohabbat meri khidmat rahi
Mai teri khidmat ke kabil jab hua tu chal basi

allama iqbal sher in hindi

साकी की मुहब्बत में दिल साफ हुआ इतना
जब सर को झुकाता हूं शीशा नजर आता है

Saaqi ki muhabbat mein dil saaf hua itna
Jab sar ko jhukaata hoon sheesha nazar aata hai

iqbal poetry in hindi

साकी की मुहब्बत में दिल साफ हुआ इतना
जब सर को झुकाता हूं शीशा नजर आता है

Saaqi ki muhabbat mein dil saaf hua itna
Jab sar ko jhukaata hoon sheesha nazar aata hai

और भी कर देता है दर्द में इज़ाफ़ा
तेरे होते हुए गैरों का दिलासा देना

Aur bhi kar deta hai dard me ijafa
Tere hote hue gairon ka dilasa dena

allama iqbal shayari on imam hussain in hindi

कभी छोड़ी हुई मंज़िल भी याद आती है राही को
खटक सी है जो सीने में ग़म-ए-मंज़िल न बन जाए

ख़ुदी वो बहर है जिस का कोई किनारा नहीं
तू आबजू इसे समझा अगर तो चारा नहीं

आईन-ए-जवाँ-मर्दां हक़-गोई ओ बे-बाकी
अल्लाह के शेरों को आती नहीं रूबाही

किसे ख़बर कि सफ़ीने डुबो चुकी कितने
फ़क़ीह ओ सूफ़ी ओ शाइर की ना-ख़ुश-अंदेशी

कभी हम से कभी ग़ैरों से शनासाई है
बात कहने की नहीं तू भी तो हरजाई है

shayari iqbal in hindi

किसी की याद ने ज़ख्मो से भर दिया सीना
हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी

Kisi ki yaad ne jakhmo se bhar diya sina
Har ek saans par shaq hai ke akhiri hoga

मिटा दे अपनी हस्ती को गर कुछ मर्तबा* चाहिए
कि दाना खाक में मिलकर, गुले-गुलजार होता है

ALLAMA IQBAL SHAYARI ON NAMAZ

उरूज-ए-आदम-ए-ख़ाकी से अंजुम सहमे जाते हैं
कि ये टूटा हुआ तारा मह-ए-कामिल न बन जाए

ज़मीर-ए-लाला मय-ए-लाल से हुआ लबरेज़
इशारा पाते ही सूफ़ी ने तोड़ दी परहेज़

अज़ाब-ए-दानिश-ए-हाज़िर से बा-ख़बर हूँ मैं
कि मैं इस आग में डाला गया हूँ मिस्ल-ए-ख़लील

ज़िंदगानी की हक़ीक़त कोहकन के दिल से पूछ
जू-ए-शीर ओ तेशा ओ संग-ए-गिराँ है ज़िंदगी

उसे सुब्ह-ए-अज़ल इंकार की जुरअत हुई क्यूँकर
मुझे मालूम क्या वो राज़-दाँ तेरा है या मेरा

Allama iqbal shayari on karabali in hindi

अगर हंगामा-हा-ए-शौक़ से है ला-मकाँ ख़ाली
ख़ता किस की है या रब ला-मकाँ तेरा है या मेरा

नहीं इस खुली फ़ज़ा में कोई गोशा-ए-फ़राग़त
ये जहाँ अजब जहाँ है न क़फ़स न आशियाना

जब इश्क़ सिखाता है आदाब-ए-ख़ुद-आगाही
खुलते हैं ग़ुलामों पर असरार-ए-शहंशाही

नहीं तेरा नशेमन क़स्र-ए-सुल्तानी के गुम्बद पर
तू शाहीं है बसेरा कर पहाड़ों की चटानों में

इश्क़ तिरी इंतिहा इश्क़ मिरी इंतिहा
तू भी अभी ना-तमाम मैं भी अभी ना-तमाम

Mita de apni hasti ko gar kuchh martba chaahiye
Ki daana khaak meinmilkar, gule-gulzaar hota hai

allama iqbal shayari in urdu

तेरी दुआ से कज़ा तो बदल नहीं सकती
मगर है इस से यह मुमकिन की तू बदल जाये

Teri dua se kaza to badal nahi sakti
Magar hai is se yeh mumkin ki tu badal jaye

allama iqbal shayari in hindi font

जफा जो इश्क में होती है वह जफा ही नहीं,
सितम न हो तो मुहब्बत में कुछ मजा ही नही

Jafa jo ishq mein hoti hai wah zafa hi nahin
Sitam na ho to muhabbat mein kuchh maza hi nahin

हया नहीं है ज़माने की आँख में बाक़ी
ख़ुदा करे कि जवानी तिरी रहे बे-दाग़

Haya nahi hai jamaane ki aankh mein baki
Khuda kare ki jawaani teri bedaag rahe

allama iqbal motivational shayari in hindi

हंसी आती है मुझे हसरते इंसान पर
गुनाह करता है खुद और लानत भेजता है सैतान पर

Hansi Aati Hai Mujhe Hasrate Insaan Par
Gunah Karta Hai Khud Aur Lanat Bhejta Hai Saitan Par.. …
.

dr iqbal shayari in hindi

फूल की पती से कट सकता है हीरे का जिगर
मर्दे नादाँ पर कलाम-ऐ-नरम-ऐ-नाज़ुक बेअसर

Phool Ki Patti Sy Cut Sakta He Heeray Ka Jigar
Kalam E Narm O Nazuk Mard E Nadan Pr By Asar..

iqbal ki shayari

हजारों साल नर्गिस अपनी बेनूरी पे रोती है
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा

Hazaron saal nargis apni benoori pe roti hai
Badi mushkil se hota hai chaman mein deedawar paida

न पूछो मुझ से लज़्ज़त ख़ानमाँ-बर्बाद रहने की
नशेमन सैकड़ों मैं ने बना कर फूँक डाले हैं

इश्क़ भी हो हिजाब में हुस्न भी हो हिजाब में
या तो ख़ुद आश्कार हो या मुझे आश्कार कर

न समझोगे तो मिट जाओगे ऐ हिन्दोस्ताँ वालो
तुम्हारी दास्ताँ तक भी न होगी दास्तानों में

गुज़र जा अक़्ल से आगे कि ये नूर
चराग़-ए-राह है मंज़िल नहीं है

नहीं है ना-उमीद ‘इक़बाल’ अपनी किश्त-ए-वीराँ से
ज़रा नम हो तो ये मिट्टी बहुत ज़रख़ेज़ है साक़ी

  allama iqbal shayari in english  image,
allama iqbal ki shayari in hindi, allama iqbal love shayari, allama iqbal motivational shayari in hindi, allama iqbal poetry,
allah ma iqbal shayari in hindi
allama iqbal shayari in english  image
iqbal quotes in hindi
allama iqbal best poetry
allama iqbal shayari in english  image
allama iqbal ki shayari in hindi
allama iqbal shayari in english  image
iqbal ki shayari in hindi
अल्लामा इकबाल शायरी इन हिंदी

एक सरमस्ती ओ हैरत है सरापा तारीक
एक सरमस्ती ओ हैरत है तमाम आगाही

बुतों से तुझ को उमीदें ख़ुदा से नौमीदी
मुझे बता तो सही और काफ़िरी क्या है

गला तो घोंट दिया अहल-ए-मदरसा ने तिरा
कहाँ से आए सदा ला इलाह इल-लल्लाह

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है
पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है

अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे

allama iqbal shayari in english  image
allama iqbal love shayari in hindi
allama iqbal shayari in english  image
allama iqbal ki shayari hindi mai

Click here to read more Allama Iqbal shayari in english

islamic shayari by allama iqbal in urdu

Rahat Indori Shayari in hindi – राहत इंदौरी शायरी

ग़ज़ल अगर शब्दों से खेलने की कला है तो मान लीजिए कि राहत इंदौरी वो कलाकार हैं जो अपने अंदाज में इस कला के माहिर खिलाडी है । Rahat Indori Shayari in hindi ,डाॅ. राहत इंदौरी के शायरी शेर हर लफ्ज में मोहब्बत की नई शुरुआत करते हैं. वह सरकार और सामजिक व्यवस्था को आइना भी दिखाते हैं।

हम डॉ राहत इंदौरी के सबसे ताज़ा और मशहूर शायरियां अंग्रेजी और हिंदी में प्रश्तुत कर रहे हैं .उम्मीद है की पाठको को हमारा Rahat Indori Shayari ,rahat indori shayri,राहत इंदौरी शायरी संग्रह कलेक्शन पसंद आये |

Rahat Indori Shayari

shayari indori

फूलों की दुकानें खोलो,
खुशबु का ब्योपार करो…
इश्क़ खता है, तो ये खता,
इक बार नहीं…. सौ बार करो….

Phoolo.n ki dukaane.n kholo,
Khushbu ka byopaar karo
Ishq khataa hai, to ye khataa,
Ik baar nahi, Sou baar karo

कौन खरीदेगा तुझको,
उर्दू का अख़बार ना बन

rahat indori best shayari whatsapp status,
sher rahat indori

रोज तारों को नुमाइश में खलल पता है
चांद पागल है अंधेरे में निकल पड़ता है

roz taron ko numaish men khalal padta hai
chand pagal hai andhere men nikal padta hai

rahat indori romantic shayari in hindi | sayri hinde

love shayari by rahat indori

आग का क्या है पल दो पल में लगती है,
बुझाते बुझाते एक ज़माना लगता है’

Aag ka kya hai pal do pal me lagti hai,
Bujhate bujhaate ek jamana lagta hai

, rahat indori shayari wallpaper,

आंख में पानी रखो होठों पर चिंगारी रखो
जिंदा रहना है तो तक़रीबें बहुत सारी रखो

Rahat indori hindi Shayari in english

aankh men paani rakho honthon pe chingari rakho
zinda rahna hai to tarkiben bahut saari rakho

घर के बाहर ढूंढता रहता हूं दुनिया
घर के अंदर दुनिया डेरी रहती है

ghar ke bahar dhundhta rahta huun duniya
ghar ke andar duniya-dari rahti hai

rahat indori sad shayari

हम से पहले पहले भी मुसाफिर कई गुजरे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

ham se pahle bhi musafir kai guzre honge
kam se kam raah ke patthar to hatate jaate

rahat indori shayri images
Rahat Indori Shayari | राहत इंदौरी शायरी

माँ के क़दमों के निशाँ हैं के दिये रोशन हैं,
ग़ौर से देख यहीं पर कहीं जन्नत होगी….

Maa ke kadamo ke nishan hai ke din roshan hain
Gair se dekh yahi par kahin jannat hogi

rahat indori whatsapp status
rahat indori desh bhakti shayari in hindi

rahat indori love shayari

मैं जब मर जाऊं तो मेरी अलग पहचान लिख देना,
लहू से मेरी पेशानी पे हिन्दुस्तान लिख देना…..

Mai jab mar jaaun to meri alag pehchaan likh dena,
Lahu se meri peshaani pe hindustaan likh dena

ना हमसफ़र सी हमनशि से निकलेगा
हमारे पांव का कांटा हमीं से निकलेगा

na hamsafar na kisi hamnashin se niklega
hamare paanv ka kanta hamin se niklega

Rahat Indori Shayari images
best shayari rahat indori

नफरत का बाज़ार ना बन,
फूल खिला तलवार ना बन….

rahat indori shayari on politics in hindi

Nafrat ka bajaar naa ban,
Ful khilaa talwar naa ban

rahat indori shayri image
best shayari rahat indori

राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना,
हाथ जब उससे मिलाना तो दबा भी देना

Raaj jo kuch ho isshare me bata bhi dena
Haath jab usase milana toh daba bhi dena

rahat indori shayri image
rahat indori all shayari

रिश्ता रिश्ता लिख मंज़िल,
रस्ता बन दीवार ना बन

rahat indori sher in hindi

Rishta rishta likh manjil,
Raasta ban diwaar naa ban.

शाखों से टूट जाएं वह पत्ते नहीं हैं हम
आंधी से कोई कह दे कि औकात में रहे

shaḳhon se tuut jaaen vo patte nahin hain ham
andhi se koi kah de ki auqat men rahe

rahat indori shayri

rahat indori shayari hindi

थोड़ी पी ली है….. के कुछ देख सकूँ ये दुनिया,
होश उड़ जाएँ….. अगर होश में आकर देखूं…..

Thodi pi li hai ….ke kuch dekh sakun ye duniya,
Hosh udd jaayei ….agar hosh me aakar dekhu

उसकी याद आई है सांसों जरा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में खलल पड़ता है

us ki yaad aai hai sanso zara ahista chalo
dhadkanon se bhi ibadat men ḳhalal padta hai

rahat indori love shayari in hindi

रोज तारों को नुमाइश में खलल पता है
चांद पागल है अंधेरे में निकल पड़ता है

roz taron ko numa.ish men khalal padta hai
chand pagal hai andhere men nikal padta hai

अक़्ल ये सोच के थक जाती है
इतनी नफ़रत कहाँ से आती है !!!

Akl ye soch ke thak jaati hai
Itni nafrat kahan se aati hai …

rahat indori motivational shayari

यक़ीन हो कि न हो, बात तो यक़ीन की है ।
हमारे जिस्म की मिट्टी इसी ज़मीन की है ।
हमारे मुल्क के सब लोग भाई भाई हैं
ये दूरियों की सियासत किसी कमीन की है..

दोस्ती जब किसी से की जाए दुश्मनों की भी राय ली जाए

dosti jab kisi se ki jaae
dushmanon ki bhi raae li jaae

बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरे प्यार से उलझे तो धज्जियां उड़ा जाएं

bahut ghurur hai dariya ko apne hone par
jo meri pyaas se uljhe to dhajjiyan ud jaaen

नए किरदार आते जा रहे हैं
मगर नाटक पुराना चल रहा है

na.e kirdar aate ja rahe hain
magar natak purana chal raha hai

rahat indori shayri image

इन्हे भी पढ़ें :

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी, गुलजार शायरी,मुन्नवर राणा शायरी

rahat indori romantic shayari

[su_quote cite=” राहत इंदौरी “] [/su_quote][su_quote cite=” राहत इंदौरी “] [/su_quote]

vo chahta tha ki kaasa ḳharid le mera
main us ke taaj ki qimat laga ke lauT aaya

बीमार को मर्ज की दवा देनी चाहिए
मैं पीना चाहता हूं पीला देनी चाहिए


bimar ko maraz ki dava deni chahiye
main piina chahta huun pila deni chahiye

[su_quote cite=” राहत इंदौरी “] ख्याल था कि यह पथराव रोक दें चलकर, जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे [/su_quote]

मेरी ख्वाहिश है कि आंगन में है ना दीवार उठे
मेरे भाई की जमीन तू रख ले

miri ḳhvahish hai ki angan men na divar uthe
mire bhaai mire hisse ki zamin tū rakh le

rahat indori shayari lyrics

बोतलें खोल कर दो
आज दिल खोल कर भी पी जाए

botalen khol kar to pi barson
aaj dil khol kar bhi pi jaae

घर के बाहर ढूंढता रहता हूं दुनिया
घर के अंदर दुनिया डेरी रहती है

ghar ke bahar dhundhata rahta huun duniya
ghar ke andar duniya-dari rahti hai

dr rahat indori shayari in hindi

मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता
हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी

main aḳhir kaun sa mausam tumhare naam kar deta
yahan har ek mausam ko guzar jaane ki jaldi thi

[su_quote cite=” राहत इंदौरी “]यह जरूरी है कि आंखों की भरम कायम रहे नींद रखो या ना रखो ख्वाब में यारी रखो [/su_quote]

ye zarūri hai ki ankhon ka bharam qaaem rahe
nind rakkho ya na rakkho ḳhvab meyari rakho

[su_quote cite=” राहत इंदौरी “]अब तो हर हाथ के पत्थर हमें पहचानता है है उम्र गुजरी है शहर में [/su_quote]

rahat indori ki shayari

ab to har haath ka patthar hamen pahchanta hai
umr guzri hai tire shahr men aate jaate

मैं पर्वतों से लड़ता रहा और चंद लोग
गीली जमीन खोद के फरहाद हो गए

main parbaton se ladta raha aur chand log
giili zamin khod ke farhad ho gae

यह हवाएं उड़ ना जाए लेकर कागज का बदन
दोस्तों तुम मुझ पर कोई पत्थर जरा भारी रखो

rahat indori sher in hindi

ye havaen ud na jaaen le ke kaġhaz ka badan
dosto mujh par koi patthar zara bhari rakho

rahat indori shayri image
rahat indori status in hindi

एक ही नदी के हैं यह दो किनारे दोस्तों
दोस्ताना जिंदगी से मौत से यारी रखो

ek hi nadi ke hain ye do kinare dosto
dostana zindagi se maut se yaari rakho

rahat indori hindi shayari

मैंने अपनी खुशबू आंखों से लहू छलका दिया
एक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए

main ne apni khushk ankhon se lahu chhalka diya
ik samundar kah raha tha mujh ko paani chahiye

मजा चखा के ही माना हूं मैं भी दुनिया को
समझ रही थी ऐसे ही छोड़ दूंगा उसे

rahat indori shayari status

maza chakha ke hi maana huun main bhi duniya ko
samajh rahi thi ki aise hi chhod dūnga use

रोज पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं
रोज शीशों से कोई काम निकल पड़ता है

roz patthar ki himayat men ġhazal likhte hain
roz shishon se koi kaam nikal padta hai

मैं आकर दुश्मनों में बस गया हूं
यहां हमदर्द चार

main aa kar dushmanon men bas gaya huun
yahan hamdard hain do-char mere

rahat indori shayari on love

सूरज सितारे चांद साथ मेरे साथ में रहे
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे

suraj sitare chand mire saat men rahe
jab tak tumhare haat mire haat men rahe

ख्याल था कि यह पथराव रोक दें चलकर,
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे

khayal tha ki ye pathrav rok den chal kar
jo hosh aaya to dekha lahū lahū ham the

कॉलेज के बच्चे चुप हैं एक कागज की नाव के लिए
चारों तरफ दरिया की सूरत हुई बेकारी है

collage ke sab bachche chup hain kaġhaz ki ik naav liye
charon taraf dariya ki sūrat phaili hui bekari hai

शहर क्या देखें की मंजर में जाले पड़ गए हैं
ऐसी गर्मी है कि पीले फूल काले पड़ गए

rahat indori best shayari in hindi

shahr kya dekhen ki har manzar men jaale pad gae
aisi garmi hai ki piile phuul kaale pad gae

हम अपनी जान के दुश्मन को अपनी जान कहते हैं
मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिंदुस्तान कहते हैं

ham apni jaan ke dushman ko apni jaan kahte hain
mohabbat ki isi miTTi ko hindustan kahte hain

एक मुलाकात का जादू की उतरता ही नहीं
तेरी खुशबू मेरी चादर से नहीं जाती है

ik mulaqat ka jaadu ki utarta hi nahin
tiri khusbu miri chadar se nahin jaati hai

rahat indori shayari in hindi love

सच बात कौन है जो सरेआम कह सकें
मैं कह रहा हूं मुझको सजा देनी चाहिए

sach baat kaun hai jo sar-e-am kah sake
main kah raha huun mujh ko saza deni chahiye

rahat indori shayari images

rahat indori shayri image

सिर्फ खंजर ही नहीं आंखों में पानी चाहिए
ए खुदा दुश्मन भी मुझको खानदानी चाहिए


शहर की सारी अलिफ लैला बुड्ढी हो चुकी हैं
शहजादे को कोई ताजा कहानी चाहिए

rahat indori quotes in hindi


मैंने ने सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए


मेरी कीमत कौन दे सकता है इस बाजार में
तुम जुलेखा हो तुम्हें कीमत लगानी चाहिए


जिंदगी है एक सफर और जिंदगी की राह में
ज़िन्दगी भी आये तो ठोकर लगानी चाहिए


मैंने अपनी खुश्क आंखों से लहू छलका दिया
एक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए

sirf ḳhanjar hi nahin ankhon men paani chahiye
ai ḳhuda dushman bhi mujh ko ḳhandani chahiye

shahr ki saari alif-laila.en būḌhi ho chukin
shahzade ko koi taaza kahani chahiye

rahat indori shayari lyrics

main ne ai sūraj tujhe puuja nahin samjha to hai
mere hisse men bhi thoḌi dhuup aani chahiye
meri qimat kaun de sakta hai is bazar men

tum zuleḳha ho tumhen qimat lagani chahiye

zindagi hai ik safar aur zindagi ki raah men, zindagi bhi aa.e to Thokar lagani chahiye


main ne apni ḳhushk ankhon se lahū chhalka diya
ik samundar kah raha tha mujh ko paani chahiye

shayari of rahat indori in hindi

rahat indori whatsapp status

rahat indori poetry in hindi

अंदर का जहर चूम लिया धूल के आ गए
कितने शरीफ लोग थे सब खुल के आ गए


सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवकूफ
सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए


मस्जिद में दूर-दूर कोई दूसरा ना था
आईने को मजे भी तकबुल के आ गए


अनजाने से फिरने लगे हैं इधर-उधर
मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए

andar ka zahr chuum liya dhul ke aa ga.e
kitne sharif log the sab khul ke aa ga.e


sūraj se jang jitne nikle the bevaquf
saare sipahi mom ke the ghul ke aa gae

dr rahat indori ki shayari


masjid men duur duur koi dusra na tha
ham aaj apne aap se mil-jul ke aa ga.e


nindon se jang hoti rahegi tamam umr
ankhon men band ḳhvab agar khul ke aa ga.e


suraj ne apni shakl bhi dekhi thi pahli baar
aine ko maze bhi taqabul ke aa ga.e


anjane saa.e phirne lage hain idhar udhar
mausam hamare shahr men kabul ke aa gae

rahat indori status in hindi

ग़ालिब की मशहूर शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करें

rahat indori shayari pic
dr rahat indori ki shayari

बुलाती है…..मगर जाने का नई,
ये दुनिया है, इधर जाने का नई…..

rahat indori shayari on politics in hindi


कुशादा ज़र्फ़ होना चाहिए,
छलक जाने का भर जाने का नई….


सितारे नोंच कर ले जाऊँगा,
मैं खाली हाथ घर जाने का नई….


मेरे बेटे…..किसी से इश्क़ कर,
मगर हद से गुज़र जाने का नई…..

rahat indori latest shayari


वो गर्दन नापता है….नाप ले,
मगर ज़ालिम से डर जाने का नई…..


वबा फैली हुई है हर तरफ,
अभी माहौल मर जाने का नई……

Bulati hai ….magar jaane ka nai,
Ye dunia hai ,idhar jaane ka nai.

rahat indori poetry in hindi


Kushad jarf hona chahiye
Chalak jaane ka bhar jaane ka nai


Sitaare noch kar le jaunga
Mai khali haath ghar jaane ka nai

rahat indori ghazal in hindi


Mere bête…kisi se ishq kar,
Magar had se gujar jaane ka nai


Wo garden naapta hai..naap le,
Magar jaalim se dar jaane ka nai


Wafa faili hui hai har taraf
Abhi mahaul mar jaane ka nai

rahat indori motivational shayari in hindi
rahat indori shayari pic
rahat indori shayri lyrics

मैं लाख कह दूं कि आकाश हूं जमीन हूं मैं
मगर उसे तो खबर कि कुछ नहीं हूं मैं


अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको
वहां पर ढूंढ रहे हैं जहां नहीं हूं मैं

rahat indori desh bhakti shayari in hindi


मैं से तो मायूस लौट आया था
मगर किसी ने बताया बहुत हसीन हूं मैं


वह एक किताब जो मनसुख तेरे नाम से है
उसी किताब के अंदर कहीं-कहीं हूं मैं


सितारों आओ मेरी राह में बिखर जाओ
यह मेरा हुक्म है हालांकि कुछ नहीं हूं मैं


यही हुसैन भी गुजरे यही याजिद भी था
हजार रंग में डूबी कोई जमीन हूं मैं

best shayari rahat indori


यह बुड्ढी खबरें तुम्हें कुछ नहीं बताएंगे
मुझे तलाश करो दोस्तों यहीं हूं

Mai laakh kah dun ki akash huun zamin hu mai
magar use to khabar hai ki kuchh nahin hu mai

hindi shayari rahat indori


ajiib log hain meri talash men mujh ko
vahan pe dhund rahe hain jahan nahin hu mai


main a.inon se to mayūs laut aaya tha
magar kisi ne bataya bahut hasin hu mai


vo zarre zarre men maujūd hai magar main bhi
kahin kahin huun kahan huun kahin nahin hu mai

rahat indori attitude shayari


vo ik kitab jo mansūb tere naam se hai
usi kitab ke andar kahin kahin hu mai


sitaro aao miri raah men bikhar jaao
ye mera hukm hai halanki kuchh nahin hu mai


yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha
hazar rang men Duubi hui zamin hu mai


ye budhhi qabren tumhen kuchh nahin bataengi
mujhe talash karo dosto yahin hu mai

rahat indori shayari photo
shayari of rahat indori in hindi

घर से यह सोचकर निकला हूं कि मर जाना है
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है


जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो
इस मुसाफिर को तो रास्ते में ठहर जाना है

rahat indori ke sher


मौत लम्हे की सदा जिंदगी उम्र ओं की पुकार
मैं यही सोच कर जिंदा हूं कि मर जाना है


नशा ऐसा था कि मैंखाने को दुनिया समझा
होश आया तो ख्याल आया कि घर जाना है
मेरे जज्बे की बड़ी कदर है लोगों में मगर
जज्बे को मेरे साथ ही मर जाना है

ghar se ye soch ke nikla huun ki mar jaana hai
ab koi raah dikha de ki kidhar jaana hai


jism se saath nibhane ki mat ummid rakho
is musafir ko to raste men Thahar jaana hai
maut lamhe ki sada zindagi umron ki pukar
main yahi soch ke zinda huun ki mar jaana hai
nashsha aisa tha ki mai-ḳhane ko duniya samjha


hosh aaya to ḳhayal aaya ki ghar jaana hai
mire jazbe ki badi qadr hai logon men magar
mere jazbe ko mire saath hi mar jaana hai

love shayari by rahat indori

rahat indori shayari photo
rahat indori shayari images

अंदर का जहर चूम लिया धूल के आ गए
कितने शरीफ लोग थे सब खुल के आ गए
सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवकूफ
सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए


मस्जिद में दूर-दूर कोई दूसरा ना था
आईने को मजे भी तकबुल के आ गए
अनजाने से फिरने लगे हैं इधर-उधर
मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए

andar ka zahr chuum liya dhul ke aa gae
kitne sharif log the sab khul ke aa gae
suraj se jang jitne nikle the bevaquf
saare sipahi mom ke the ghul ke aa gae
masjid men duur duur koi dūsra na tha


ham aaj apne aap se mil-jul ke aa aa gae
nindon se jang hoti rahegi tamam umr
ankhon men band khvab agar khul ke aaaa gae
suraj ne apni shakl bhi dekhi thi pahli baar
aine ko maze bhi taqabul ke aa aa gae


anjane saa.e phirne lage hain idhar udhar
mausam hamare shahr men kabul ke aa gae

rahat indori shayari in hindi

सभी का ख़ून है शामिल यहां की मिट्टी में,
किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है

अजनबी ख़्वाहिशें , सीने में दबा भी न सकूँ |
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे ,  कि उड़ा भी न सकूँ ||

आँख में पानी रखो , होंटों पे चिंगारी रखो |
ज़िंदा रहना है तो , तरकीबें बहुत सारी रखो ||

रोज़ तारों को नुमाइश  में , खलल पड़ता हैं |
चाँद पागल हैं , अंधेरे में निकल पड़ता हैं ||

उसकी याद आई हैं , साँसों ज़रा धीरे चलो |
धड़कनो से भी इबादत में ,  खलल पड़ता हैं ||

ये हादसा तो किसी दिन , गुज़रने वाला था |
मैं बच भी जाता तो , इक रोज़ मरने वाला था ||

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं , मगर दिल अक्सर |
नाम सुनता हैं , तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं ||

अंदर का ज़हर चूम लिया , धुल के आ गए |
कितने शरीफ़ लोग थे , सब खुल के आ गए ||

दो गज सही ये  , मेरी मिलकियत तो हैं |
ऐ मौत तूने मुझे  , ज़मीदार कर दिया ||

rahat indori shayari on love

मुझसे पहले वो किसी और की थी , मगर कुछ शायराना चाहिए था |
चलो माना ये छोटी बात है , पर तुम्हें सब कुछ बताना चाहिए था ||

अब हम मकान में ताला लगाने वाले हैं
पता चला हैं की मेहमान आने वाले हैं

आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो
जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो
राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिलें
रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो

जागने की भी, जगाने की भी, आदत हो जाए
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए
दूर हम कितने दिन से हैं, ये कभी गौर किया
फिर न कहना जो अमानत में खयानत हो जाए

rahat indori sher shayari

गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम  क्या क्या हैं
में आ गया हु बता इंतज़ाम क्या क्या हैं
फ़क़ीर, शाह, कलंदर, इमाम क्या क्या हैं
तुझे पता नहीं तेरा गुलाम क्या क्या हैं

कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते  हैं
कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं
ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी
की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं

हर एक हर्फ़ का अंदाज़ बदल रखा हैं
आज से हमने तेरा नाम ग़ज़ल रखा हैं
मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया
मेरे कमरे में भी एक “ताजमहल” रखा हैं

rahat indori shayari lyrics in hindi

जवानिओं में जवानी को धुल करते हैं
जो लोग भूल नहीं करते, भूल करते हैं
अगर अनारकली हैं सबब बगावत का
सलीम हम तेरी शर्ते कबूल करते हैं

इश्क ने गूथें थे जो गजरे नुकीले हो गए
तेरे हाथों में तो ये कंगन भी ढीले हो गए
फूल बेचारे अकेले रह गए है शाख पर
गाँव की सब तितलियों के हाथ पीले हो गए


सरहदों पर तनाव हे क्या
ज़रा पता तो करो चुनाव हैं क्या
शहरों में तो बारूदो का मौसम हैं
गाँव चलों अमरूदो का मौसम हैं

shayari rahat indori in hindi

लवे दीयों की हवा में उछालते रहना
गुलो के रंग पे तेजाब डालते रहना
में नूर बन के ज़माने में फ़ैल जाऊँगा
तुम आफताब में कीड़े निकालते रहना


जुबा तो खोल, नज़र तो मिला,जवाब तो दे
में कितनी बार लुटा हु, मुझे हिसाब तो दे
तेरे बदन की लिखावट में हैं उतार चढाव
में तुझको कैसे पढूंगा, मुझे किताब तो दे


सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे
चले चलो की जहाँ तक ये आसमान  रहे
ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे

dr rahat indori shayari in hindi lyrics

उसकी कत्थई आंखों में हैं जंतर मंतर सब
चाक़ू वाक़ू, छुरियां वुरियां, ख़ंजर वंजर सब


जिस दिन से तुम रूठीं,मुझ से, रूठे रूठे हैं
चादर वादर, तकिया वकिया, बिस्तर विस्तर सब


मुझसे बिछड़ कर, वह भी कहां अब पहले जैसी है
फीके पड़ गए कपड़े वपड़े, ज़ेवर वेवर सब

जा के कोई कह दे, शोलों से चिंगारी से
फूल इस बार खिले हैं बड़ी तैयारी से

shayari by rahat indori in hindi


बादशाहों से भी फेके हुए सिक्के ना लिए
हमने खैरात भी मांगी है तो खुद्दारी से


बन के इक हादसा बाज़ार में आ जाएगा
जो नहीं होगा वो अखबार में आ जाएगा

चोर उचक्कों की करो कद्र, की मालूम नहीं
कौन, कब, कौन सी  सरकार में आ जाएगा

rahat indori shayari in hindi lyrics

लोग हर मोड़ पे रुक रुक के संभलते क्यों हैं
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं
मोड़  होता हैं जवानी का संभलने  के लिए
और सब लोग यही आके फिसलते क्यों हैं


साँसों की सीडियों से उतर आई जिंदगी
बुझते हुए दिए की तरह, जल रहे हैं हम
उम्रों की धुप, जिस्म का दरिया सुखा गयी
हैं हम भी आफताब, मगर ढल रहे हैं हम


इश्क में पीट के आने के लिए काफी हूँ
मैं निहत्था ही ज़माने  के लिए काफी हूँ
हर हकीकत को मेरी, खाक समझने वाले
मैं तेरी नींद उड़ाने के लिए काफी हूँ
एक अख़बार हूँ, औकात ही क्या मेरी
मगर शहर में आग लगाने के लिए काफी हूँ

shayari rahat indori hindi


दिलों में आग, लबों पर गुलाब रखते हैं
सब अपने चहेरों पर, दोहरी नकाब रखते हैं
हमें चराग समझ कर भुझा ना पाओगे
हम अपने घर में कई आफ़ताब रखते हैं

Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere,
Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,
Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,
Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere.

rahat indori dosti shayari


अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

Loo Bhi Chalti Thi Toh Baad-e-Shaba Kehte The,
Paanv Failaye Andheron Ko Diya Kehte The,
Unka Anjaam Tujhe Yaad Nahi Hai Shayad,
Aur Bhi Log The Jo Khud Ko Khuda Kehte The.


लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे,
पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे,
उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।

Haath Khali Hain Tere Shahar Se Jate Jate,
Jaan Hoti Toh Meri Jaan Lutate Jate,
Ab Toh Har Haath Ka Patthar Humein Pehchanta Hai,
Umr Gujri Hai Tere Shahar Mein Aate Jate.

shayari of rahat indori


हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।

Chehron Ke Liye Aayine Kurbaan Kiye Hain,
Iss Shauk Mein Apne Bade Nuksaan Kiye Hain,
Mehfil Mein Mujhe Gaaliyan Dekar Hai Bahut Khush,
Jis Shakhs Par Maine Bade Ehsaan Kiye Hain.

rahat indori sad shayari in hindi


चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,​
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​,
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।

Teri Har Baat Mohabbat Mein Ganwara Karke,
Dil Ke Bajaar Mein Baithe Hain Khasaara Karke,
Main Woh Dariya Hun Ke Har Boond Bhanwar Hai Jiski,
Tumne Achha Hi Kiya Hai Mujhse Kinaara Karke.


​तेरी हर बात ​मोहब्बत में गँवारा करके​,
​दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके​,
​मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी​,​​
​तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

rahat indori shayari in hindi pdf

rahat indori shayari in hindi pdf download

इन्हे भी पढ़ें

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी, गुलजार शायरी,मुन्नवर राणा शायरी

दोस्ती शायरी
हैप्पी बर्थडे शायरी
रोमांटिक शायरी
लव शायरी
Sad Shayari