Harivansh Rai Bachchan Poems | हरिवंश राय बच्चन कविता संग्रह

Harivansh Rai Bachchan Poems कोई पार नदी के गाता | हरिवंश राय बच्चन Harivansh Rai Bachchan  कोई पार नदी के गाता!भंग निशा की नीरवता कर,इस देहाती गाने का स्वर,ककड़ी के खेतों से उठकर,आता जमुना पर लहराता!कोई पार नदी के गाता!होंगे भाई-बंधु निकट ही,कभी सोचते होंगे यह भी,इस तट पर भी बैठा कोईउसकी तानों से सुख पाता!कोई …

Harivansh Rai Bachchan Poems | हरिवंश राय बच्चन कविता संग्रह Read More »