Advertisements

Best Sufi shayari in hindi -सूफी शायरों की शायरी

सूफी का मूल अर्थ “एक जो ऊन (ṣūf) पहनता है”) है,  Best Sufi Shayari in hindi – सूफी शायरी  और इस्लाम का विश्वकोश अन्य व्युत्पन्न परिकल्पनाओं को “अस्थिर” कहता है। ऊनी कपड़े पारंपरिक रूप से तपस्वियों और मनीषियों से जुड़े थे। सूफ़ी का संदर्भ आत्मा के परमात्मा से मिलन से है। प्रेम का ऐसा चरम जहां प्रेमी और उसके महबूब में कोई अंतर ही न रह जाए इसे तो कोई विरले ही पा सकता है। इसलिए प्रेम भी सर्वोच्च ही होगा। आइए चलते हैं सूफी शायरों की शायरी

sufi shayari on life

अपनी छवी बनाय के जो मैं पी के पास गई
जब छवी देखी पीहू की तो अपनी भूल गई
अमीर खुसरो

apni chavi banay ke jo mai pi ke pass gayi
jab dekhu pihu ki to apne bhul gayi
amir khusro

मन लागो मेरो यार फकीरी में
जो सुख पावो राम भजन में
सो सुख नाही अमीरी में
कबीर

man laago mero yaar fakiri me
jo sukh paavo raam bhajan me
so sukh naahi amiri me
kabir

sufi lines in hindi,
amir khusro ki shayari,
baba bulleh shah shayari in hindi
sufi shayari in hindi language,
sufi love quotes in hindi,
amir khusro shayari hindi,
sufi quotes on love in hindi,
sufi quotes on life in hindi,
sufi shayari in hindi font,
sufi love shayari,
sufi sad shayari,
amir khusro in hindi shayari


यार को हमने जा ब जा देखा
कभी ज़ाहिर कभी छुपा देखा
नियाज़ बरेलवी

yaar ko hamne jaa b jaa dekha
kabhi jaahir kabhi chupa dekha
niyaz barelvi

sufi shayari hindi mai

जब से तूने मुझे दीवाना बना रखा है
संग हर शख़्स ने हाथों में उठा रखा है
नसीर हाक़िम

jab se tune mujhe diwana bana hai
sang har saksh ne haathon me utha rakha hai
nasir haakim

Khuda Moujud Hai Puri Duniya Me, Kahin Bhi Jagah Nahi,
Tu Jannat Me Jaa Wahan Peena Mana Nahi”


किस तरह छोड़ दूँ ऐ यार मैं चाहत तेरी
मेरे ईमान का हासिल है मोहब्बत तेरी
फ़ना बुलंदशहरी

Peeta Hun Gham-E-Duniya Bhulane Ke Liye Aur Kuch Nahi,
Jannat Me Kahan Gham Hai Wahan Peene Me Maja Nahi

अब काहे की लाज सजनी परगट होवे नाची
दिवस भूख न चैन कबहिन नींद निसु नासी
मीरा

वो आएँगे वो आते हैं वो आने को हैं वो आए
तसव्वुर को वो बहलाएँ तसव्वुर हम को बहलाए
ज़हीन शाह ताजी

wo ayenge wo aate hai wo aane ko hai wo aaye
tasaavur ko wo behlaaye tasavvur hum ko behlaaye
jahin shah taazi

तिरी चाहत के भीगे जंगलों में
मिरा तन मोर बन कर नाचता है

Teri Chahat Ke Begair Jangalon Mai
Mera Tan Mor Ban Kar Nachta Hai

sufi shayari on god in hindi

इश्क़ है तर्ज़ ओ तौर इश्क़ के तईं
कहीं बंदा कहीं ख़ुदा है इश्क़

Ishq Hai Tarz O Taur Ishq K Taiin
Kahin Banda Kahin Khuda Hai Ishq

वाइ’ज़ न तुम पियो न किसी को पिला सको
क्या बात है तुम्हारी शराब-ए-तहूर की

Waaiz Na Tum Piyo Na Kisi Ko Pila Sako
Kya Baat Hai Tumhari Sharab-e-Tuhur Ki

मुझ तक कब उन की बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में

Mujh Tak Kab Un Ki Bazm Mai Aata Tha Daur-e-Jam
Saaqi Ne Kuch Mila Na Diya Ho Sharab Mai

Sharab Peene De Masjid Me Baith Kar
Ya Wo Jagah Bata Jaha Par Khuda Nahi

Masjid Khuda Ka Ghar Hai, Koi Peene Ki Jagah Nahi,
Kafir Ke Dil Me Ja, Wahan Par Khuda Nahi

तुम जानते नहीं मेरे दर्द का कमाल ,
तुम को जहाँ मिला सारा ,मुझे बस खुदा

Leave a Comment

Your email address will not be published.