greedy wolf story in hindi | हाथी और सियार

wolf story in hindi

एक जंगल में एक विशालकाय जंगल था | जंगल में सभी प्रकार के जानवर रहते थे| जंगल में गणेश नाम का एक हाथी भी रहता था| गणेश हाथी का शरीर काफी विशाल था| एक बार चंदनवन में दूसरे वन से घूमते -घूमते एक सियार आया| सियार ने जैसे ही गणेश हाथी को देखा, वैसे ही सियार के मुँह में पानी आने लगा|

greedy wolf story in hindi | हाथी और सियार -

सियार, गणेश हाथी को खाने के बारे में सोचने लगा और मन ही मन सियार हाथी के शिकार करने की योजना बनाने लगा| सियार सोचने लगा कि यह हाथी बहुत बड़ा है, अगर मैं इसका शिकार कर लूँ, तब मुझे कई दिनों तक भोजन की तलाश में भटकना नहीं पड़ेगा| ऐसा सोचकर सियार हाथी के पास गया और उससे बोला, ” हाथी भाई हमारे जंगल में कोई राजा नहीं है, हमारे जंगल में अधिकतर जानवर चाहते हैं, कि कोई बड़ा और समझदार जानवर हमारे जंगल का राजा बने”, आप बड़े और समझदार दोनों है, क्या आप हमारे जंगल का राजा बनना पसंद करोगे ?

सियार की बात सुनकर हाथी बहुत खुश हुआ | उसने राजा बनने के लिए सियार हाँ बोल दिया| इसपर सियार ने हाथी को अपने साथ चलने के लिए बोला| गणेश राजा बनने की ख़ुशी में झूमते हुए सियार के साथ जाने लगा। सियार हाथी को ऐसे तालाब में ले गया, जिस तालाब में दलदल था| हाथी राजा बनने की ख़ुशी में इतना मस्त था कि वह बिना सोचे तालाब में नहाने के लिए उतर गया|

Advertisements

जैसे ही हाथी दलदल वाले तालाब में उतरा, हाथी के पैर दलदल में धंसने लगे | उसने सियार से बोला, “तुम मुझे कैसे तालाब में ले आये, मेरी मदद करो मेरे पैर दलदल में धंस गए हैं”|

moral story in hindi

हाथी की बात सुनकर सियार जोर जोर से हंसने लगा और हाथी से बोला, “मैं तुम्हारा शिकार करना चाहता था, इसलिए मैंने तुमसे राजा बनने की बात का झूठ बोली| अब तुम दलदल में फंसकर मर जाओगे और मैं तुमको अपना भोजन बनाऊंगा”|

सियार की बात सुनकर हाथी जोर जोर से रोने आने लगे| उसने बाहर निकलने के बहुत प्रयास किया , बहुत बार सियार से बाहर निकालने की विनती की, लेकिन सियार ने उसकी कोई मदद नहीं की और हाथी कुछ देर के प्रयत्न के बाद मर गया | हाथी के मरने के बाद सियार हाथी का मांस खाने के लालच में उसकी पीठ पर कूद कर चढ़ गया। हाथी को खाने के लालच में सियार यह भूल गया कि वह भी हाथी के साथ दलदल में नीचे जाता जा रहा है| और अंत में, सियार भी हाथी के साथ धीरे धीरे दलदल में धंसकर मर गया|

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है, कि जो दूसरों के लिए बुरा करता है, उसके साथ भी बुरा होता है| इसलिए हमें जीवन में कभी भी किसी के साथ बुरा नहीं करना चाहिए, अगर हम किसी के लिए बुरा करते हैं, तब हमें भी अपने साथ ऐसा होने के लिए तैयार रहना चाहिए| क्यूंकि बुरे कर्म का फल हमेशा बुरा होता है, इसलिए किसी के साथ कभी बुरा ना करें| आपको हमारी ये कहानी कैसी लगी और आपने इससे क्या सीखा, हमें कमेंट करके जरूर बतायें|