Sardi Shayari in Hindi | Winter Shayari in Hindi

winter shayari Sardi Shayari in Hindi | Best Winter Shayari in Hindi | Shardi Shayari 2 Lines | Romantic Winter Shayari

Sardi Shayari in Hindi

sardi shayari ठंड के मौसम में लोग रजाई या आग के पास रहना पसंद करते है sardi shayari in hindi वहीं कुछ लोग बर्फ़ की वादियों में घूमने का भी मजा लेते है. best winter shayari in hindi  बहुत से लोग ठंड में आइसक्रीम खाने का आनंद लेते है. shayari 2 lines और हर मौसम को कोसते रहते है. रोना और कोसना छोड़िए और इस ठंड का खुले बाहों से स्वागत कीजिये। आनंद लीजिये। 

निकाल लो रजाई, पहन लो स्वेटर
ये हैं हमारी प्यारी सी गुजारिश,
मुबारक हो आपको सर्दी की पहली बारिश।

Sardi Shayari

हवा का झोंका आया तेरी खुशबू साथ लाया,
मैं समझ गया की तू आज फिर नहीं नहाया।
हैप्पी विंटर

ऐसी सर्दी है कि सूरज भी दुहाई मांगे
जो हो परदेश में वो किससे रजाई मांगे
-राहत इंदौरी

गर्मी लगी तो ख़ुद से अलग हो के सो गए
सर्दी लगी तो ख़ुद को दोबारा पहन लिया

सूरज लिहाफ़ ओढ़ के सोया तमाम रात
सर्दी से इक परिंदा दरीचे में मर गया

वो सर्दियों की धूप की तरह ग़ुरूब हो गया
लिपट रही है याद जिस्म से लिहाफ़ की तरह

Shardi Shayari 2 Lines

इश्क़ के शोले को भड़काओ कि कुछ रात कटे
दिल के अंगारे को दहकाओ कि कुछ रात कटे

ये सर्द रात ये आवारगी ये नींद का बोझ
हम अपने शहर में होते तो घर चले जाते- उम्मीद फ़ाज़ली

ऐसी सर्दी है के सूरज भी दुहाई माँगे
जो हो परदेश में वो किससे रज़ाई माँगे
राहत इंदौरी

दिन जल्दी जल्दी चलता हो तब देख बहारें जाड़े की
और पाला बर्फ़ पिघलता हो तब देख बहारें जाड़े की

Romantic Winter Shayari in hindi

जब चली ठंडी हवा बच्चा ठिठुर कर रह गया
माँ ने अपने ला’ल की तख़्ती जला दी रात को
सिब्त अली सबा

कल्ले पे कल्ला लग लग कर चलती हो मुँह में चक्की सी
हर दाँत चने से दलता हो तब देख बहारें जाड़े की
नज़ीर अकबराबादी

कुछ नाच और रंग की धूमें हों ऐश में हम मतवाले हों
प्याले पर प्याला चलता हो तब देख बहारें जाड़े की
नज़ीर अकबराबादी

लफ़्फ़ाज़ियों का गर्म है बाज़ार किस क़दर
दस्त-ए-अमल हमारा मगर सर्द सर्द है
असद रज़ा

वो गले से लिपट के सोते हैं
आज-कल गर्मियाँ हैं जाड़ों में
मुज़्तर ख़ैराबादी

हवा का हाथ बहुत सर्द, मौत जैसा सर्द
वो जा रहा है, वो दरवाज़े सर पटकने लगे
साक़ी फ़ारुक़ी

काश तुझे सर्दी के मौसम में लगे मुहब्बत की ठंड
और तू तड़प कर माँगे मुझे कम्बल की तरह
अज्ञात

कतराते हैं बल खाते हैं घबराते हैं क्यूँ लोग
सर्दी है तो पानी में उतर क्यूँ नहीं जाते
महबूब ख़िज़ां

सूखे पत्तों पर जलती शबनम के क़तरे
ठंडा सूरज सहमा सहमा देख रहा था
इक़बाल ख़ुसरो क़ादरी

फूलों की सुगंध, मूँगफली की बहार
सर्दी का मौसम आने को तैयार
रजाई,स्वेटर रखो तैयार
हैप्पी सर्दी का मौसम मेरे यार.

Josh wali Winter Shayari

सर्दी तो कम होने का नाम ही नही ले रही बिल्कुल तुम्हारी बेरुखी की तरह..
सर्द रातों की तन्हाई में दिल अपना कुछ यूँ बहलातें हैं…
कुछ उनका लिखा दोहरातें हैं कुछ अपना लिखा मिटाते हैं…

गले मिला था कभी दुख भरे दिसम्बर से
मेरे वजूद के अंदर भी धुँद छाई थी
तहज़ीब हाफ़ी

मैं तो हँसना भूल गया हूँ, वो भी शायद रोता होगा
ठंडी रात में आग जला कर, मेरा रस्ता तकता होगा
जतिन्दर परवाज़

सुख दुख में गर्म-ओ-सर्द में सैलाब में भी हैं
यादें तुम्हारी मौसम-ए-शादाब में भी हैं
जतिन्दर परवाज़

ये नसीम ठंडी ठंडी ये हवा के सर्द झोंके
तुझे दे रहे हैं लोरी मिरे ग़म-गुसार सो जा
सुरूर जहानाबादी

कितना दर्द हैं दिल में दिखाया नही जाता,
गंभीर हैं किस्सा सुनाया नही जाता,
विडियो कॉल मत कर पगली,
रजाई में से मुहँ निकाला नही जाता.

Kadak Winter Shayari in Hindi

हर कामयाबी पर आपका नाम हो,
आपके हर क़दम पर सफलता का मुकाम हो,
ध्यान रखना, ठण्ड आ गयी हैं,
मैं नही चाहता आपको जुकाम हो.

मत ढूढ़ना मुझे इस जहाँ की तन्हाई में,
ठण्ड बहुत हैं मैं हूँ अपनी रजाई में.

Thand Pe Shayari ठंड पर शायरी

ठण्ड का बहाना हैं,
व्हाट्सऐप करके आपको सताना हैं,
मौसम भी दीवाना हैं,
आपभी दो-चार व्हाट्सऐप कर दो,
क्या..
नेट पैक का बैलेंस बचा के
नया स्वेटर लाना हैं.

पहन लो आप स्वेटर
आपसे यही हैं हमारी गुज़ारिश,
मुबारक हो आपको सर्दी
की पहली बारिश.
Winter Shayari

क्यूँ किसी की यादों को सोच कर रोया जाए,
क्यूँ किसी के ख्यालों में यूँ खोया जाए,
बाहर मौसम बहुत ख़राब हैं,
क्यूँ न रजाई तानकर सोया जाए.

Shayari on Winter | ठंड पर शायरी
सीतल-सीतल वायु चली,
आकाश हुआ सुहाना,
जोकर भी व्हाट्सऐप पढ़ने लगे,
शिक्षित हुआ ज़माना.

बैठ कर टॉयलेट में नबाब की जैसे,
ठंडी के मौसम में सोचता हूँ ऐसे,
कि बेटा, कर तो ली हैं तूने,
अब ठंडे पानी से धोएगा कैसे.

लड़की रो-रो कर लड़के से कह रही हैं,
हाथ छोड़ो, मेरी नाक बह रही हैं.

अपना समझो या बेगाना,
हमारा आपका हैं रिश्ता पुराना,
इसलिए मेरा फ़र्ज हैं आपको बताना,
ठंड आ गयी हैं,
कृपया रोज मत नहाना.
ठंड पर शायरी

ना मुस्कुराने को जी चाहता हैं,
ना कुछ खाने-पीने को जी चाहता हैं,
अब ठंड बर्दास्त नही होती,
सब कुछ छोडकर रजाई में घुस जाने को जी चाहता हैं.

Happy Winter in hindi ठंडी पर शायर

उसको चाहा पर इजहार करना नही आया,
कट गयी उम्र हमें प्यार करने नही आया,
उसने कुछ माँगा भी तो मागी रजाई,
और हमे इंकार करना नही आया.

ठण्ड में वादा नही करते कि दोस्ती निभायेंगे,
जरूरत पड़ी तो सब कुछ ले लो,
पर रजाई न दे पायेंगे.

“Thund aur Insult”
जितनी महसूस करोगे उतनी ज्यादा लगेगी…
Be Careful…Be Beshram…
Happy Winter

2 बार Lips पर,
2 बार गाल पर,
1 एक बार माथे पर,
2 बार आँख पर,

कोल्ड क्रीम जरूर लगाना,
सर्दी आ रही हैं ना…

आज एक स्वेटर और पहन लो,
अभी एक रज़ाई और ओढ़ लो,
अभी एक मफ़लर और लपेट लो,
अभी दो मोज़े और पहन लो,
आज एक कहवा और पी लो,
अभी एक हीटर और चला लो,
क्या पता…
कल ठण्ड हो न हो…!!!
Happy Winter

ना जाने किस रैन बसेरे की तलाश है… इस चाँद को…!
रात भर बिना कम्बल ,भटकता रहता है इन सर्द रातों में

गर्लफ्रेंड अपने बॉयफ्रेंड से कह रही है,
हाथ छोड़ दो मेरा मेरी नाक बह रही है

गुजर जाती है रात इसी कशमकश में,
कि कम्बल में हवा किधर से घुस रही है।

Sardi Shayri in Hindi

इससे ज्यादा दुश्मनी की हद क्या होगी दोस्त,
टॉयलेट की टंकी में भी कोई बर्फ डाल गया।

sardi shayari in hindi, best winter shayari in hindi, shardi shayari 2 lines, romantic winter shayari

ठंड के मौसम में
रोज रजाई कहती है
अंदर तो आ गए,
बाहर कैसे जाओगे?

पहन लो आप स्वेटर
आपसे यही हैं हमारी गुज़ारिश,
मुबारक हो आपको सर्दी
की पहली बारिश

Shardi Shayari 2 Lines

जीवन में एक बात याद रखना कि
आसू पोछने वाले हजारो मिलेंगे पर…..
नाक पोछने कोई नहीं आता ,
ठंड आ गई हैं अपना ध्यान रखना…

गलती से पंखे का बटन क्या
दब गया…
….पूरा परिवार यूँ देखने लग
गया जैसे मैं कोई आतंकवादी हूँ ..

एडमिन ने ढाबा खोला..
ग्राहक –मेरी चाय मै मक्खी डूब कर मरी पड़ी है |
एडमिन –तो क्या करू?
मै ढाबा चलाऊ या इन्हे तैरना सीखाऊँ |

sardi shayari in hindi, best winter shayari in hindi, shardi shayari 2 lines, romantic winter shayari.