Rahat Indori Shayari In Hindi | राहत इंदौरी शायरी

Rahat Indori Shayari In Hindi राहत इंदौरी शायरी ग़ज़ल अगर शब्दों से खेलने की कला है तो मान लीजिए कि राहत इंदौरी वो कलाकार हैं जो अपने अंदाज में इस कला के माहिर खिलाडी है । डाॅ. राहत इंदौरी के शायरी शेर हर लफ्ज में मोहब्बत की नई शुरुआत करते हैं. वह सरकार और सामजिक व्यवस्था को आइना भी दिखाते हैं।

हम डॉ राहत इंदौरी के सबसे ताज़ा और मशहूर शायरियां अंग्रेजी और हिंदी में प्रश्तुत कर रहे हैं .उम्मीद है की पाठको को हमारा राहत इंदौरी शायरी संग्रह कलेक्शन पसंद आये |

Rahat Indori Shayari In Hindi

Rahat Indori Shayari In Hindi

फूलों की दुकानें खोलो,
खुशबु का ब्योपार करो…
इश्क़ खता है, तो ये खता,
इक बार नहीं…. सौ बार करो….

Advertisements

Phoolo.n ki dukaane.n kholo,
Khushbu ka byopaar karo
Ishq khataa hai, to ye khataa,
Ik baar nahi, Sou baar karo

कौन खरीदेगा तुझको,
उर्दू का अख़बार ना बन

rahat indori best shayari whatsapp status,
राहत इंदौरी शायरी

रोज तारों को नुमाइश में खलल पता है
चांद पागल है अंधेरे में निकल पड़ता है

roz taron ko numaish men khalal padta hai
chand pagal hai andhere men nikal padta hai

rahat indori romantic shayari in hindi

rahat indori romantic shayari in hindi

आग का क्या है पल दो पल में लगती है,
बुझाते बुझाते एक ज़माना लगता है’

Aag ka kya hai pal do pal me lagti hai,
Bujhate bujhaate ek jamana lagta hai

आंख में पानी रखो होठों पर चिंगारी रखो
जिंदा रहना है तो तक़रीबें बहुत सारी रखो

, rahat indori shayari wallpaper, rahat indori shayari on zinda

Rahat indori hindi Shayari in english

aankh men paani rakho honthon pe chingari rakho
zinda rahna hai to tarkiben bahut saari rakho

घर के बाहर ढूंढता रहता हूं दुनिया
घर के अंदर दुनिया डेरी रहती है

ghar ke bahar dhundhta rahta huun duniya
ghar ke andar duniya-dari rahti hai

rahat indori shayari

हम से पहले पहले भी मुसाफिर कई गुजरे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

rahat indori shayri images
Rahat indori hindi Shayari in english

ham se pahle bhi musafir kai guzre honge
kam se kam raah ke patthar to hatate jaate

माँ के क़दमों के निशाँ हैं के दिये रोशन हैं,
ग़ौर से देख यहीं पर कहीं जन्नत होगी….

Maa ke kadamo ke nishan hai ke din roshan hain
Gair se dekh yahi par kahin jannat hogi

ज़ुबाँ तो खोल नज़र तो मिला जवाब तो दे
मैं कितनी बार लूटा हूँ मुझे हिसाब तो दे।

लोग हर मोड़ पे रूक रूक के संभलते क्यूँ है
इतना डरते है तो घर से निकलते क्यूँ है।

फूक़ डालूगा मैं किसी रोज़ दिल की दुनिया
ये तेरा ख़त तो नहीं है की जला भी न सकूं।

कही अकेले में मिलकर झंझोड़ दूँगा उसे
जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूँगा उसे
मुझे वो छोड़ गया ये कमाल है उस
का इरादा मैंने किया था की छोड़ दूँगा उसे

जा के ये कह दो कोई शोलो से,
चिंगारी से फूल इस बार खिले है बड़ी तय्यारी से
बादशाहों से भी फेंके हुए सिक्के ना लिए
हमने ख़ैरात भी माँगी है तो ख़ुद्दारी से।

Rahat Indori Shayari images download

rahat indori whatsapp status
Rahat Indori Shayari images download

मैं जब मर जाऊं तो मेरी अलग पहचान लिख देना,
लहू से मेरी पेशानी पे हिन्दुस्तान लिख देना…..

rahat indori love shayari

Mai jab mar jaaun to meri alag pehchaan likh dena,
Lahu se meri peshaani pe hindustaan likh dena

ना हमसफ़र सी हमनशि से निकलेगा
हमारे पांव का कांटा हमीं से निकलेगा

na hamsafar na kisi hamnashin se niklega
hamare paanv ka kanta hamin se niklega

Rahat Indori Shayari images
rahat indori love shayari

नफरत का बाज़ार ना बन,
फूल खिला तलवार ना बन….

rahat indori shayari on politics in hindi

rahat indori shayari on politics in hindi

Nafrat ka bajaar naa ban,
Ful khilaa talwar naa ban

प्यास तो अपनी सात समन्दर जैसी थी,
ना हक हमने बारिश का अहसान लिया।

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को
समझ रही थी की ऐसे ही छोड़ दूंगा उसे

नये किरदार आते जा रहे है
मगर नाटक पुराना चल रहा है।

मैं वो दरिया हूँ की हर बूंद भँवर है जिसकी,
तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

दो ग़ज सही ये मेरी मिल्कियत तो है
ऐ मौत तूने मुझे जमींदार कर दिया।

राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना,
हाथ जब उससे मिलाना तो दबा भी देना

Raaj jo kuch ho isshare me bata bhi dena
Haath jab usase milana toh daba bhi dena

रिश्ता रिश्ता लिख मंज़िल,
रस्ता बन दीवार ना बन

rahat indori shayri image
rahat indori sher

rahat indori sher

Rishta rishta likh manjil,
Raasta ban diwaar naa ban.

शाखों से टूट जाएं वह पत्ते नहीं हैं हम
आंधी से कोई कह दे कि औकात में रहे

shaḳhon se tuut jaaen vo patte nahin hain ham
andhi se koi kah de ki auqat men rahe

थोड़ी पी ली है….. के कुछ देख सकूँ ये दुनिया,
होश उड़ जाएँ….. अगर होश में आकर देखूं…..

Thodi pi li hai ….ke kuch dekh sakun ye duniya,
Hosh udd jaayei ….agar hosh me aakar dekhu

उसकी याद आई है सांसों जरा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में खलल पड़ता है

rahat indori shayari Status

rahat indori shayari Status

us ki yaad aai hai sanso zara ahista chalo
dhadkanon se bhi ibadat men ḳhalal padta hai

रोज तारों को नुमाइश में खलल पता है
चांद पागल है अंधेरे में निकल पड़ता है

roz taron ko numa.ish men khalal padta hai
chand pagal hai andhere men nikal padta hai

अक़्ल ये सोच के थक जाती है
इतनी नफ़रत कहाँ से आती है !!!

Akl ye soch ke thak jaati hai
Itni nafrat kahan se aati hai …

rahat indori motivational shayari

यक़ीन हो कि न हो, बात तो यक़ीन की है ।
हमारे जिस्म की मिट्टी इसी ज़मीन की है ।
हमारे मुल्क के सब लोग भाई भाई हैं
ये दूरियों की सियासत किसी कमीन की है..

दोस्ती जब किसी से की जाए दुश्मनों की भी राय ली जाए

dosti jab kisi se ki jaae
dushmanon ki bhi raae li jaae

बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरे प्यार से उलझे तो धज्जियां उड़ा जाएं

bahut ghurur hai dariya ko apne hone par
jo meri pyaas se uljhe to dhajjiyan ud jaaen

नए किरदार आते जा रहे हैं
मगर नाटक पुराना चल रहा है

nae kirdar aate ja rahe hain
magar natak purana chal raha hai

rahat indori shayri image
rahat indori motivational shayari

इन्हे भी पढ़ें :

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी, गुलजार शायरी,मुन्नवर राणा शायरी

vo chahta tha ki kaasa ḳharid le mera
main us ke taaj ki qimat laga ke lauT aaya

बीमार को मर्ज की दवा देनी चाहिए
मैं पीना चाहता हूं पीला देनी चाहिए


bimar ko maraz ki dava deni chahiye
main piina chahta huun pila deni chahiye

ख्याल था कि यह पथराव रोक दें चलकर, जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे

मेरी ख्वाहिश है कि आंगन में है ना दीवार उठे
मेरे भाई की जमीन तू रख ले

miri ḳhvahish hai ki angan men na divar uthe
mire bhaai mire hisse ki zamin tū rakh le

बोतलें खोल कर दो
आज दिल खोल कर भी पी जाए

botalen khol kar to pi barson
aaj dil khol kar bhi pi jaae

घर के बाहर ढूंढता रहता हूं दुनिया
घर के अंदर दुनिया डेरी रहती है

ghar ke bahar dhundhata rahta huun duniya
ghar ke andar duniya-dari rahti hai

dr rahat indori shayari in hindi

मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता
हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी

main aḳhir kaun sa mausam tumhare naam kar deta
yahan har ek mausam ko guzar jaane ki jaldi thi

राहत इंदौरी “]यह जरूरी है कि आंखों की भरम कायम रहे नींद रखो या ना रखो ख्वाब में यारी रखो

ye zaruri hai ki ankhon ka bharam qaaem rahe
nind rakkho ya na rakkho ḳhvab meyari rakho

अब तो हर हाथ के पत्थर हमें पहचानता है है उम्र गुजरी है शहर में

rahat indori ki shayari

ab to har haath ka patthar hamen pahchanta hai
umr guzri hai tire shahr men aate jaate

मैं पर्वतों से लड़ता रहा और चंद लोग
गीली जमीन खोद के फरहाद हो गए

main parbaton se ladta raha aur chand log
giili zamin khod ke farhad ho gae

यह हवाएं उड़ ना जाए लेकर कागज का बदन
दोस्तों तुम मुझ पर कोई पत्थर जरा भारी रखो

rahat indori sher in hindi

ye havaen ud na jaaen le ke kaġhaz ka badan
dosto mujh par koi patthar zara bhari rakho

rahat indori shayri image
rahat indori status in hindi

एक ही नदी के हैं यह दो किनारे दोस्तों
दोस्ताना जिंदगी से मौत से यारी रखो

ek hi nadi ke hain ye do kinare dosto
dostana zindagi se maut se yaari rakho

मैंने अपनी खुशबू आंखों से लहू छलका दिया
एक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए

main ne apni khushk ankhon se lahu chhalka diya
ik samundar kah raha tha mujh ko paani chahiye

मजा चखा के ही माना हूं मैं भी दुनिया को
समझ रही थी ऐसे ही छोड़ दूंगा उसे

rahat indori shayari lyrics

maza chakha ke hi maana huun main bhi duniya ko
samajh rahi thi ki aise hi chhod dūnga use

रोज पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं
रोज शीशों से कोई काम निकल पड़ता है

roz patthar ki himayat men ġhazal likhte hain
roz shishon se koi kaam nikal padta hai

मैं आकर दुश्मनों में बस गया हूं
यहां हमदर्द चार

main aa kar dushmanon men bas gaya huun
yahan hamdard hain do-char mere

rahat indori shayari on love

सूरज सितारे चांद साथ मेरे साथ में रहे
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे

suraj sitare chand mire saat men rahe
jab tak tumhare haat mire haat men rahe

ख्याल था कि यह पथराव रोक दें चलकर,
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे

khayal tha ki ye pathrav rok den chal kar
jo hosh aaya to dekha lahū lahū ham the

कॉलेज के बच्चे चुप हैं एक कागज की नाव के लिए
चारों तरफ दरिया की सूरत हुई बेकारी है

collage ke sab bachche chup hain kaġhaz ki ik naav liye
charon taraf dariya ki sūrat phaili hui bekari hai

शहर क्या देखें की मंजर में जाले पड़ गए हैं
ऐसी गर्मी है कि पीले फूल काले पड़ गए

rahat indori best shayari in hindi

shahr kya dekhen ki har manzar men jaale pad gae
aisi garmi hai ki piile phuul kaale pad gae

हम अपनी जान के दुश्मन को अपनी जान कहते हैं
मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिंदुस्तान कहते हैं

ham apni jaan ke dushman ko apni jaan kahte hain
mohabbat ki isi miTTi ko hindustan kahte hain

एक मुलाकात का जादू की उतरता ही नहीं
तेरी खुशबू मेरी चादर से नहीं जाती है

ik mulaqat ka jaadu ki utarta hi nahin
tiri khusbu miri chadar se nahin jaati hai

सच बात कौन है जो सरेआम कह सकें
मैं कह रहा हूं मुझको सजा देनी चाहिए

sach baat kaun hai jo sar-e-am kah sake
main kah raha huun mujh ko saza deni chahiye

rahat indori shayari images

सिर्फ खंजर ही नहीं आंखों में पानी चाहिए
ए खुदा दुश्मन भी मुझको खानदानी चाहिए


शहर की सारी अलिफ लैला बुड्ढी हो चुकी हैं
शहजादे को कोई ताजा कहानी चाहिए

rahat indori quotes in hindi


मैंने ने सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए


मेरी कीमत कौन दे सकता है इस बाजार में
तुम जुलेखा हो तुम्हें कीमत लगानी चाहिए


जिंदगी है एक सफर और जिंदगी की राह में
ज़िन्दगी भी आये तो ठोकर लगानी चाहिए


मैंने अपनी खुश्क आंखों से लहू छलका दिया
एक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए

sirf ḳhanjar hi nahin ankhon men paani chahiye
ai ḳhuda dushman bhi mujh ko ḳhandani chahiye

main ne ai sūraj tujhe puuja nahin samjha to hai
mere hisse men bhi thoḌi dhuup aani chahiye
meri qimat kaun de sakta hai is bazar men

tum zuleḳha ho tumhen qimat lagani chahiye

zindagi hai ik safar aur zindagi ki raah men, zindagi bhi aa.e to Thokar lagani chahiye


main ne apni ḳhushk ankhon se lahū chhalka diya
ik samundar kah raha tha mujh ko paani chahiye

shayari of rahat indori in hindi

अंदर का जहर चूम लिया धूल के आ गए
कितने शरीफ लोग थे सब खुल के आ गए


सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवकूफ
सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए


मस्जिद में दूर-दूर कोई दूसरा ना था
आईने को मजे भी तकबुल के आ गए


अनजाने से फिरने लगे हैं इधर-उधर
मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए

rahat indori poetry in hindi

andar ka zahr chuum liya dhul ke aa ga.e
kitne sharif log the sab khul ke aa ga.e


masjid men duur duur koi dusra na tha
ham aaj apne aap se mil-jul ke aa ga.e


nindon se jang hoti rahegi tamam umr
ankhon men band ḳhvab agar khul ke aa ga.e


suraj ne apni shakl bhi dekhi thi pahli baar
aine ko maze bhi taqabul ke aa ga.e


anjane saa.e phirne lage hain idhar udhar
mausam hamare shahr men kabul ke aa gae

rahat indori status in hindi

ग़ालिब की मशहूर शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करें

बुलाती है…..मगर जाने का नई,
ये दुनिया है, इधर जाने का नई…..


कुशादा ज़र्फ़ होना चाहिए,
छलक जाने का भर जाने का नई….


सितारे नोंच कर ले जाऊँगा,
मैं खाली हाथ घर जाने का नई….


मेरे बेटे…..किसी से इश्क़ कर,
मगर हद से गुज़र जाने का नई…..


वो गर्दन नापता है….नाप ले,
मगर ज़ालिम से डर जाने का नई…..


वबा फैली हुई है हर तरफ,
अभी माहौल मर जाने का नई……

rahat indori ghazal in hindi


Mere bête…kisi se ishq kar,
Magar had se gujar jaane ka nai


Wo garden naapta hai..naap le,
Magar jaalim se dar jaane ka nai


Wafa faili hui hai har taraf
Abhi mahaul mar jaane ka nai

rahat indori motivational shayari in hindi

मैं लाख कह दूं कि आकाश हूं जमीन हूं मैं
मगर उसे तो खबर कि कुछ नहीं हूं मैं


अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको
वहां पर ढूंढ रहे हैं जहां नहीं हूं मैं

rahat indori desh bhakti shayari in hindi


मैं से तो मायूस लौट आया था
मगर किसी ने बताया बहुत हसीन हूं मैं


वह एक किताब जो मनसुख तेरे नाम से है
उसी किताब के अंदर कहीं-कहीं हूं मैं


सितारों आओ मेरी राह में बिखर जाओ
यह मेरा हुक्म है हालांकि कुछ नहीं हूं मैं


यही हुसैन भी गुजरे यही याजिद भी था
हजार रंग में डूबी कोई जमीन हूं मैं

best shayari rahat indori


यह बुड्ढी खबरें तुम्हें कुछ नहीं बताएंगे
मुझे तलाश करो दोस्तों यहीं हूं

Mai laakh kah dun ki akash huun zamin hu mai
magar use to khabar hai ki kuchh nahin hu mai


ajiib log hain meri talash men mujh ko
vahan pe dhund rahe hain jahan nahin hu mai


main a.inon se to mayūs laut aaya tha
magar kisi ne bataya bahut hasin hu mai


vo zarre zarre men maujūd hai magar main bhi
kahin kahin huun kahan huun kahin nahin hu mai

rahat indori attitude shayari

sitaro aao miri raah men bikhar jaao
ye mera hukm hai halanki kuchh nahin hu mai

yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha
hazar rang men Duubi hui zamin hu mai

ye budhhi qabren tumhen kuchh nahin bataengi
mujhe talash karo dosto yahin hu mai

घर से यह सोचकर निकला हूं कि मर जाना है
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो
इस मुसाफिर को तो रास्ते में ठहर जाना है

rahat indori ke sher

मौत लम्हे की सदा जिंदगी उम्र ओं की पुकार
मैं यही सोच कर जिंदा हूं कि मर जाना है

नशा ऐसा था कि मैंखाने को दुनिया समझा
होश आया तो ख्याल आया कि घर जाना है
मेरे जज्बे की बड़ी कदर है लोगों में मगर
जज्बे को मेरे साथ ही मर जाना है

ghar se ye soch ke nikla huun ki mar jaana hai
ab koi raah dikha de ki kidhar jaana hai


jism se saath nibhane ki mat ummid rakho
is musafir ko to raste men Thahar jaana hai
maut lamhe ki sada zindagi umron ki pukar
main yahi soch ke zinda huun ki mar jaana hai
nashsha aisa tha ki mai-ḳhane ko duniya samjha


hosh aaya to ḳhayal aaya ki ghar jaana hai
mire jazbe ki badi qadr hai logon men magar
mere jazbe ko mire saath hi mar jaana hai

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.