Advertisements

quran in hindi | सूरह फातिहा

यह सूरह मक्की है, इसमें सात आयते है। यह सूरह आरंभिक युग मे मक्का मे उतरी है, जो कुरान की भूमिका है। इसी कारण इस का नाम ((सुरहा फातिहा)) अर्थात: “आरंभिक सूरह “है।

इस का चमत्कार यह है की इस की सात आयतों में पूरे कुरान का सारांश रख दिया गया है। इसमे अल्लाह की दया, उस के पालक तथा पूज्य होने के गुणों को वर्णित किया गया है।

सुरह के अर्थो पर विचार करने से बहुत से तथ्य उजागर हो जाते है| और ऐसा प्रतीत होता है की सागर को गागर मे बंद कर दिया गया है ।

इस सुरह में अल्लाह के गुण–गान तथा उस से पार्थना करने की शिक्षा दी गई है की अल्लाह की सराहना और प्रशंशा किन शब्दो से की जाये। इसी प्रकार इस मे बंदो को न केवल वंदना की शिक्षा दी गई है बल्कि उन्हें जीवन यापन के गुण भी बताये गये है।

summary of quran in hindi,
quran in hindi wikipedia,
quran in hindi book online,
1st para of quran in hindi,

सूरए फातेहा मक्का में नाजि़ल हुआ और इस की 7 आयते हैं


शुरू करता हूँ ख़ु़दा के नाम से जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला है (1)
सब तारीफ ख़ु़दा ही के लिए सज़ावार है (2)
और सारे जहाँन का पालने वाला बड़ा मेहरबान रहम वाला है (3)
रोज़े जज़ा का मालिक है (4)


ख़ु़दाया हम तेरी ही इबादत करते हैं और तुझ ही से मदद चाहते हैं (5)
तो हमको सीधी राह पर साबित क़दम रख (6)
उनकी राह जिन्हें तूने (अपनी) नेअमत अता की है न उनकी राह जिन पर तेरा ग़ज़ब ढ़ाया गया और न गुमराहों की (7)

Leave a Reply

%d bloggers like this: