Penis Health Tips In Hindi

Penis Diseases in hindi पुरुषों को पेनिस में इन समस्याओं को नहीं करना चाहिए नजरअंदाज

कुछ पुरूष सोचते हैं कि जननांग को पानी और साबुन से धो लेना ही पर्याप्‍त होता है, लेकिन यह काफी नहीं है। एक्‍सपर्ट मानते हैं कि सिर्फ साबुन और पानी से ही नहीं बल्कि जननांग को साफ और बालरहित रखना भी आवश्‍यक होता है।पुरुष प्रजनन अंग, जिसे आमतौर पर ‘पेनिस’ के रूप में जाना जाता है

अधिकतर पुरुष सेक्सुअल संबंधित समस्याओं को अक्सर नजरअंदाज कर देते हैं, जो सही नहीं है। जिस तरह महिलाओं के लिए उनकी प्राइवेट पार्ट की साफ-सफाई, देखभाल करना जरूरी होता है, पुरुषों को भी इस बात का ख्याल जरूर रखना चाहिए। कुछ लोग प्राइवेट पार्ट (Penis health) से जुड़ी समस्याओं को दूसरों से बताने में संकोच करते हैं। कई बार समस्या (Male Genital Diseases) इतनी बढ़ जाती है कि सेहत के लिए नुकसानदायक होता है

फीमेल प्राइवेट पार्ट की ही तरह मेल प्राइवेट पार्ट भी नाजुक अंग हैं। इनकी देखभाल, साफ-सफाई, किसी भी तरह की कोई समस्या को छिपाना या नजरअंदाज करना आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। पेनिस (Penis health) एक ऐसा ही नाजुक अंग है, जिसमें होने वाली समस्याओं को दूर करना जरूरी है वरना आपकी सेक्सुअल लाइफ भी प्रभावित हो सकती है।

डायबिटीज की वजह से हाई ब्लड शुगर से ये 5 सेक्सुअल प्रॉब्लम्स होती हैं

पेनिस का टेढ़ा होना

आपको लगे कि आपका पेनिस टेढ़ा नजर आ रहा है, तो यह समस्या नजरअंदाज करने लायक नहीं है। इस समस्या को पेरोनी रोग (Peyronie’s disease) कहते हैं। पेरोनी की बीमारी लिंग (penis problem) की समस्या है, जो लिंग के अंदर मार्कर टिशू प्लाक (plaque) के कारण होती है। इस वजह से लिंग सीधा रहने की बजाय मुड़ा हुआ दिखता है। पेरोनी होने पर सेक्स कर सकते हैं, लेकिन कई बार यह दर्दनाक हो सकता है और स्तंभन दोष (Erectile dysfunction) का कारण बन सकता है।

इंफेक्शन होने की समस्या

पेन‍िस पर यदि आपको बार-बार खुजली होती है, तो इसका इलाज करवाएं। कई बार रैशेज, इंफेक्शन आदि होने के कारण भी खुजली होती है। डॉक्टर से जरूर अपनी समस्या के बारे में बात करें

सीमन से खून आना Blood in semen in hindi

सेक्स करने के बाद यदि आपके सीमन के साथ खून (Blood in semen) भी आए, तो यह हिमेटोस्पर्मिया (Hematospermia) हो सकता है। जब आप इजैकुलेट करते हैं, तो अपने सीमन को भी देखें कहीं सीमन में खून तो नहीं। खून है, तो बिल्कुल भी देर ना करते हुए डॉक्टर से दिखाएं।

बैक्टीरियल इंफेक्शन bacterial infection in penis in hindi

पेनिस की फोरस्किन बहुत नाजुक होती है। इस पर सेक्स करने के दौरान जल्दबाजी में सूजन होने या स्किन के छिलने का खतरा बना रहता है। कई बार फोरस्किन फटने का मतलब है कि आपको बैक्टीरियल इंफेक्शन है।

अगर लिंग पर कोई भी दाना-फुंसी, वार्ट यानी मस्सा हो, तो यह एचपीवी (Human papilloma virus infection) हो सकता है, जो काफी खतरनाक होता है, क्योंकि यह सेक्स से फैलने वाला एक खतरनाक वायरस या संक्रमण है।


पेनिस हेल्थ टिप्स इन हिंदी – पेनिस को साफ़ रखने के तरीके : शरीर एक मंदिर समान होता है और इसे सदैव साफ व स्‍वच्‍छ रखना चाहिए। शरीर के संवेदनशील हिस्‍सों को साफ और सूखा रखना चाहिए, ताकि आपको किसी भी प्रकार का संक्रमण न होने पाएं।

penis health Tips in hindi

पेनिस के साथ-साथ टेस्टीकल्स यानि अंडकोष भी होते हैं उन्हें भी साफ रखना जरूरी होता है। शरीर के इन हिस्सों में गंदगी होती है और साफ न करने पर संक्रमण हो जाता है।

पेनिस को साफ करने के लिए कुछ बातों को अवश्‍य ध्‍यान में रखना चाहिए। पेनिस साफ करते समय निम्‍न बातों को ध्‍यान में रखना चाहिए:

Advertisements
  • पेनिस के आसपास सफाई रखने के लिए साबुन या वी-वॉश का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। संक्रमण रोकने के लिए पेनिस और आसपास के हिस्‍से को गुनगुने पानी से धो लें। यदि आपके  पेनिस चमड़ी से ढाका है तो  इसे धीरे से वापस खींचें और नीचे धो लें। साबुन को हाथों में अच्‍छे से मलें और उसे पेनिस पर लगाकर अच्‍छे से धो लें। धोने के बाद तौलिए से पोंछ लें।
  • पेनिस के आसपास के कम से कम बालों को साफ़ रखना चाइये।  उसको छोटी कैची से काटिये   इससे पसीना नहीं ठहरेगा और संक्रम नहीं होगा।  बड़े बाल गन्दगी का केंद्र बन सकता हैं जहाँ पर अक्सर बैक्टीरिया पनपते हैं
  • हस्‍तमैथुन करने के बाद भी पेनिस को अच्‍छी तरह धुल लेना चाहिए। इससे संक्रमण होने से बचा जा सकता है
  • सेक्‍स करने से पहले और बाद में पेनिस को जरूर धुलिये | महिलाओ को सेक्‍स से पहले और बाद में योनि को अवश्‍य धुलना चाहिए। जहां भी स्‍पर्म गिरा हो, वहां भी साबुन से धुल लेना चाहिए।
  • जिन पुरुषों का खतना हुआ है  उनको पेनिस की स्‍कीन को अच्‍छे से साफ करना चाहिए और तौलिए से पोंछ भी लेना चाहिए। खतने के कारण अधिक त्‍वचा, संक्रमण की चपेट में आ सकती है।

how to keep penis healthy in hindi?

  • सारा दिन पेनिस अंडरवियर में रहता है इसलिए रात्रि को उसे खुला भी छोड़ सकते हैं यानि रात को अंदर के वस्‍त्र न पहनें या अंडरवियर आदि को उतार दें। इससे पसीना  कम  या नहीं के बराबर होगा
  • अपना अंडरवियर हर दिन बदलें। कॉटन अंडरवियर पहनें।
  • संक्रमण के कारण अगर आपके पेनिस से या उस हिस्‍से से गंदी सी बदबू आ सकती है।  संक्रमण से  पेनिस लाल हो सकता है या उस इलाके में  खुजली हो सकती है. इस स्थिति में सफाई रखना जरूरी है और  उस जगह पे   कोई एंटी-बायटिक पाउडर /क्रीम लगाया जा सकता है
  • समय समय पे अपने जननांग की जांच करते रहें, उसको हाथो से छू कर टटोल कर अंदाज़ लगाते रहे की कोई संक्रमण या कुछ अनावश्यक चीज़ तो नहीं लग रही।  अंडकोष को भी देखते रहें। अगर किसी प्रकार का कोई परिवर्तन  नजर आता  है तो डॉक्‍टर से सम्‍पर्क करें।

Tips for uncircumised penis of kids in hindi

खतनारहित शिशुओं और बच्चों में स्वच्छता

शिशुओं में स्मेग्मा सफेद डॉट्स की तरह दिख सकता है, या चमड़ी के नीचे “मोती”।

अधिकांश शिशुओं में , पेनिस की चमड़ी /FORESKIN  जन्म के समय पूरी तरह से वापस नहीं होता है। पूर्ण वापसी आमतौर पर 5 वर्ष की आयु तक होती है, बाद में में भी हो सकती है।

स्नान करते समय अपने बच्चे की पेनिस की चमड़ी को वापस करने का प्रयास न करें। फोर्स्किन वापस लाने पर दर्द, रक्तस्राव या त्वचा को नुकसान हो सकता है।

साबुन के साथ जननांगों को बाहरी रूप से स्नान करते हैं।  साबुन और गर्म पानी का उपयोग, क्षेत्र को साफ़ करें । कठोर स्क्रबिंग से बचें, क्योंकि यह क्षेत्र संवेदनशील है

एक बार  चमड़ी पीछे हटने के बाद, कभी-कभी चमड़ी के नीचे की सफाई स्मेग्मा को कम करने में मदद कर सकती है। यौवन के बाद, आपके बच्चे को अपनी सामान्य स्वच्छता दिनचर्या में चमड़ी के नीचे सफाई जोड़ने की आवश्यकता होगी।

जरूरी सुचना : यह जानकारी पाठको को सिर्फ ज्ञान वर्धन के लिए दिए गयी है. किसी भी तरह की शारीरिक या मानसिक बीमारी के लिए उचित डॉक्टर की ही सलाह लें इलाज़ करवाए इस पोस्ट को पढ़ने के बाद हम किसी भी प्रकार से पाठको द्वारा उपयोग में लाये गए सुझाव ,सलाह या उपचार की जिमेदारी नहीं लेते है

इनको जरूर पढ़िए

कामेक्षा बढ़ने के लिए विष्फोटक खानपान

लिंग समस्याओं की पहचान और रोकथाम 

Leave a Comment

Your email address will not be published.