Advertisements

New Moral Story In Hindi For Class five – do chuhe

एक गाँव के चूहे की दोस्ती शहर के एक चूहे से हो गई। एक दिन ग्रामीण चूहे ने शहर के चूहे को खाने पर बुलाया। उसने उसे चना और मक्के के दाने परोसे जो वह खेतो से लाया था।

जब वे दोनों शहर आए तो शहरी चूहे ने अपने दोस्त के सामने शहद,पनीर और बिस्किट रखे। दोनों खा ही रहे थे वैसे ही एक आदमी ने दरवाजा खोला और दोनों चूहे डर के मारे अपने बिल में भागकर छुप गए।

New Moral Story In Hindi For Class five

बहुत इंतजार के बाद जब उन्होंने दोबारा खाना शुरू किया तो अचानक एक औरत ने प्रवेश किया और कुछ ढूँढना शुरू कर दिया। दोनों चूहे फिर से भागे और छिप गए। ग्रामीण चूहा परेशान होकर बोला,

“मैं अपने गाँव का सीधा-साधा खाना खाकर ही खुश हूँ। कम से कम वहाँ तुम्हारी तरह हर पल एक खतरा नहीं उठाना पड़ता। मैं जौ और मकई खाकर भी सन्तुष्ट हूँ।

लेकिन तुम इतना अच्छा खाना खाकर भी संतुष्ट नहीं हो क्योंकि इस खाने के लिए तुम हर रोज़ डर और खतरों का सामना करते हो।”

कहानी से सिख


शिक्षाः आजादी और भयहीनता खुशी की अनिवार्य शर्ते हैं।