Advertisements

motivational story of Rahat indori life in hindi

राहत कुरैशी कैसे बन गए राहत इंदौरी ?

राहत इंदौरी का जन्म 1 जनवरी 1950 को हुआ था। राहत कुरैशी उनका असल नाम है। डाॅ. राहत इंदौरी एक भारतीय बॉलीवुड गीतकार और उर्दू भाषा के कवि हैं। वह उर्दू भाषा के प्रोफेसर भी रह चुके है और चित्रकारी भी करना पसंद करते हैं. इससे पहले वे इंदौर विश्वविद्यालय में उर्दू साहित्य के शिक्षाविद भी रह चुके हैं

उनके पिता कपड़ा मिल मजदूर थे और वे अपने माँ पिता के चौथे बच्चे हैं, उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा नूतन स्कूल इंदौर से की जहाँ से उन्होंने अपनी हायर सेकंडरी पूरी की। उन्होंने 1973 में इस्लामिया करीमिया कॉलेज से स्नातक की पढ़ाई पूरी की और 1975 में बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल (मध्य प्रदेश) से उर्दू साहित्य में एम.ए. किया

इंदौरी ने पिछले 40 – 45 वर्षों से मुशायरा और कवि सम्मेलन में अनेक कार्यक्रम किये हैं । उन्होंने भारत के लगभग सभी जिलों में काव्य संगोष्ठियों में भाग लिया है और अमेरिका, ब्रिटेन, यूएई, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, सिंगापुर, मॉरीशस, केएसए, कुवैत, कतर, बहरीन, ओमान, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल में भी अपने शेरो शायरी से लोगो का दिल जीता है

उन्होंने कई किताबें लिखी है।उन किताबो के नाम इस प्रकार हैं। रुत, कादर या साही, मेरे बाड़े धुप बहोत है,चांद पागल है ,मौजूद , नराज|उन्होंने कुछ बॉलीवुड गानों के गीत भी लिखें हैं.

राहत इन्दोरी की शायरी पढ़ें। क्लिक करें

Leave a Comment