कौवा

एक बार एक कौवे ने एक दूकान से वडा चोंच में लेके भाग गया। वह उड़ते उड़ते थोड़ी दूर में एक पेड़ पे जाके बैठ गया। इसी बिच एक लोमड़ी ने कौवे के चोंच में बड़ा देख लिया और तुरंत वह कौवे की बड़ाई करने लगा की कौवा कितना सुन्दर है ,उसके पंख कितने सुनहरे है और वह बहुत अच्छा गाता है। लोमड़ी ने कहा “तुम्हरी आवाज़ कितनी अच्छी है एक गाना सुना दो तो मजा आ जाए। “

कौवा आत्म मुग्ध होक जैसे ही गाने के लिए मुँह खोला उसके चोंच से बड़ा निचे गिर आया और लोमड़ी उसे खा के वह से चला गया

कहानी से सीख : दूसरों को मुर्ख मत बनाओ ,वरना तुम खुद मुर्ख बन जाओगे

%d bloggers like this: