Advertisements

Meer taqi meer shayari in hindi – मीर तकी मीर शायरी

उर्दू के सारे समय के महान शायरों में शुमार मीर तकी मीर थे. मीर को शायरी (meer taqi meer shayari in hindi , मीर तकी मीर शायरी ) का ख़ुदा कहा जाता है.इस पोस्ट में पाठको के लिए मीर की बेस्ट शायरी -meer taqi meer shayari in hindi प्रस्तुत की जा रही है .Shayaris of meer taqi meer in english also is presented in post.

मीर मुहम्मद तकी मीर (फरवरी 1723 – 21 सितंबर 1810) जिसे Mir Taqi Mir मीर तकी मीर या Meer taqi Meer के नाम से भी जाना जाता है 18 वीं सदी के मुगल भारत के एक उर्दू कवि थे

mir taqi mir shayari

रोते फिरते है सारी सारी रात
अब यही रोजगार है अपना

phuul gul shams o qamar saare hi the
par hamen un men tumhin bhaae bahut

paimana kahe hai koi mai-khana kahe hai
duniya tiri ankhon ko bhi kya kya na kahe hai

पैमाना कहे है कोई मयखाना कहे है
दुनिये तेरी आँखों को भी क्या क्या ना कहे है

meer ki shayari in hindi

sirhane ‘mir’ ke koi na bolo
abhi Tuk rote rote so gaya hai

सिरहाने मीर के कोई ना बोलो
अभी तक रोते रोते सो गया है

dikhai diye yuun ki be-khud kiya
hamen aap se bhi juda kar chale

दिखाई दिए यूँ की बेखुद किया
हमें आप से भी जुदा कर चले

sad poetry meer taqi meer,
,
mir taqi mir love shayari,
urdu poetry mir taqi meer,
mir taqi mir poetry sms,

rote phirte hain saari saari raat
ab yahi rozgar hai apna

mir’ sahab tum farishta ho to ho
aadmi hona to mushkil hai miyan

mir taqi mir 2 line shayari in hindi


,
,
mir taqi mir shayari urdu,
sad poetry of mir taqi mir,
,
meer dard ki shayari,
,
,
mir ki shayari in urdu,
shayari meer taqi meer in hindmeer taqi meer shayari pdf,
best shayari of mir taqi mir,
meer taqi meer in hindi,
,
mir taqi mir ke sher

मीर साहब तुम फरिश्ता हो तो हो
आदमी होना मुश्किल है मियाँ

vasl men rang ud gaya mera
kya judai ko munh dikhaunga

kya kahun tum se main ki kya hai ishq
jaan ka rog hai bala hai ishq

क्या कहु की तुमसे मै की क्या है इश्क़
जान का रोग है बाला है इश्क़

meer ke sher

अब कर के फरामोश तो नौशाद करोगे
पर हम जो न होंगे तो बहुत याद करोगे

dilli men aaj bhiik bhi milti nahin unhen
tha kal talak dimagh jinhen taj-o-takht ka

दिल्ली में आज भीख भी मिलती नहीं उन्हें
था कल तलाक दिमाग जिन्हे ताजो तख़्त का

mir shayari

meer ke sher in hindi,
urdu poetry meer dard,
meer anees ki shayari,
mir taqi mir romantic shayari,
,
shayari meer,
,
meer anees shayari in hindi,
sad poetry of meer taqi meer,
,
taqi mir shayari,
sher of meer taqi meer,
,
urdu ghazal meer taqi meer,
,
meer taqi meer sad poetry

amir-zadon se dilli ke mil na ta-maqdur
ki ham faqir hue hain inhin ki daulat se

बेखुदी ले गयी कहाँ हमको
देर से इंतज़ार है अपना

meer taqi meer shayari in hindi

urdu poetry of meer taqi meer,
meer taqi meer shayari in hindi pdf,
meer shayari hindi,
mir taqi mir ki shayari

‘mir’ amdan bhi koi marta hai
jaan hai to jahan hai pyare

ab kar ke faramosh to nashad karoge
par ham jo na honge to bahut yaad karoge

nahaq ham majburon par ye tohmat hai mukhtari ki
chahte hain so aap karen hain ham ko abas badnam kiya

meer ki shayari


sad poetry mir taqi mir,
poetry in urdu meer taqi meer,
mir taqi mir rekhta hindi,
meer taqi meer sad shayari,
meer taqi meer urdu shayari,
khwaja meer dard shayari,
khwaja mir dard poetry

be-khudi le gai kahan ham ko
der se intizar hai apna

mire saliqe se meri nibhi mohabbat men
tamam umr main nakamiyon se kaam liya

jab ki pahlu se yaar uthta hai
dard be-ikhtiyar uuthta hai

meer taqi meer ki shayari

पत्ता-पत्ता बूटा-बूटा हाल हमारा जाने है
जाने न जाने गुल ही न जाने, बाग़ तो सारा जाने है
आगे उस मुतक़ब्बर के हम ख़ुदा ख़ुदा किया करते हैं
कब मौजूद ख़ुदा को वो मग़रूर ख़ुद-आरा जाने है


आशिक़ सा तो सादा कोई और न होगा दुनिया में
जी के ज़िआं को इश्क़ में उस के अपना वारा जाने है
चारागरी बीमारी-ए-दिल की रस्म-ए-शहर-ए-हुस्न नहीं
वर्ना दिलबर-ए-नादां भी इस दर्द का चारा जाने है

क्या क्या फ़ितने सर पर उसके लाता है माशूक़ अपना
जिस बेदिल बेताब-ओ-तवाँ को इश्क़ का मारा जाने है
आशिक़ तो मुर्दा है हमेशा जी उठता है देखे उसे
यार के आ जाने को यकायक उम्र दो बारा जाने है

shayari of meer taqi meer

अपने तड़पने की मैं तदबीर पहले कर लूँ
तब फ़िक्र मैं करूँगा ज़ख़्मों को भी रफू का।
यह ऐश के नहीं हैं या रंग और कुछ है
हर गुल है इस चमन में साग़र भरा लहू का।
बुलबुल ग़ज़ल सराई आगे हमारे मत कर
सब हमसे सीखते हैं, अंदाज़ गुफ़्तगू का।

meer anees shayari,
mir anees shayari,
khwaja mir dard shayari
mir taqi mir best shayari,
meer anees shayari,
mir anees shayari,
khwaja mir dard shayari,
mir taqi mir best shayari,
,
mir taqi mir shayari hindi,
mir dard sad poetry,
mir taqi mir shayari with translation
,
meer anees poetry urdu,
meer dard two line poetry,
mir taqi mir sad poetry,
mir taqi mir sad shayari,
,
meer taqi meer hindi,
shayari of mir taqi mir in hindi,
meer taqi meer ke sher,
mir taqi mir ki shayari in hindi,
,
,
meer dard sad poetry,
meer taqi meer shayari hindi,
mah e mir shayari,
meer ghalib ki shayari,
,
khwaja meer dard ki shayari,
meer taqi meer poetry in hindi,
,
meer dard poetry

अश्क आंखों में कब नहीं आता
लहू आता है जब नहीं आता।
होश जाता नहीं रहा लेकिन
जब वो आता है तब नहीं आता।
दिल से रुखसत हुई कोई ख्वाहिश
गिरिया कुछ बे-सबब नहीं आता।
इश्क का हौसला है शर्त वरना
बात का किस को ढब नहीं आता।
जी में क्या-क्या है अपने ऐ हमदम
हर सुखन ता बा-लब नहीं आता।

Leave a Comment

Your email address will not be published.