Meditation in hindi | ध्यान

ध्यान साधना क्या है ? What is Meditation in Hindi

मन की एकाग्रता से आने वाली शांति को पाने का रास्ता ही ध्यान है और यहीं ध्यान अष्टांग योग के अंतिम चरण में समाधि की अवस्था पा लेता है। ध्यान में इंद्रियां मन के साथ, मन बुद्धि के साथ और बुद्धि अपने स्वरूप आत्मा में लीन होने लगती है।  ध्यान योग का महत्वपूर्ण तत्व है जो तन, मन और आत्मा के बीच लयात्मक संबंध बनाता है।

अंग्रेजी में इसे मेडिटेशन कहते हैं .Meditation करना यानी की ध्यान लगाना .ध्यान एक क्रिया है जिसमें व्यक्ति अपने मन को चेतना की एक विशेष अवस्था में लाने का प्रयत्न करता है। ध्यान का उद्देश्य कोई लाभ प्राप्त करना हो सकता है या ध्यान करना अपने-आप में एक लक्ष्य हो सकता है।  |

mind meditation in hindi
mind meditation in hindi

  ध्यान  बिलकुल उसी तरह काम करता है जैसे आप रात को सोने के बाद सुबह को अपने आपको शांत और एनर्जी से भरा हुआ महूसस करते है। मैडिटेशन आपके जाग्रित होते हुए आपके दिमाख में चलने वाले विचारों को शून्य कर देता है और आपके वास्तविक रूप से अवगत कराता है।

Meditation steps in hindi ध्यान करने से पहले  बातों का ध्यान रखें

मेडिटेशन कब करना चाहिए?

सुविधाजनक समय को चुने | Time for mediation in hindi

ध्यान वास्तव में विश्राम का समय है, इसलिये इसे अपनी सुविधा के अनुसार करें। ऐसा समय चुना चाहिए जब एकांत हो और आपको किसी प्रकार की जल्दी नहीं हो।सूर्योदय और सूर्यास्त का समय जब प्रकृति दिन और रात में परिवर्तित होती है, यह समय ध्यान का अभ्यास करने लिये सबसे आदर्श है।

शांत स्थान चुने | Place for meditation in hindi

सुविधाजनक समय के साथ सुविधाजनक स्थान को चुने जहां आप को कोई परेशान न कर सके। शांत और शांतिपूर्ण वातावरण ध्यान के अनुभव को और अधिक आनंदमय और विश्रामदायक बनाता है।

आराम से बैठें | Posture for mediation in hindi

ध्यान के समय सुखद और स्थिर बैठना बहुत आवश्यक है।

पेट को खाली रखे | Keep a Relatively Empty Stomach

भोजन से पहले समय ध्यान के लिए अच्छा होता है। भोजन के बाद में आप को नींद लग सकती है। जब आप को काफी भूख लगी हो तो ध्यान करने का अधिक प्रयास न करें।

morning meditation in hindi
morning meditation in hindi

How to do meditation in hindi ? ध्यान कैसे किया जाता है?

  • घर पर ध्यान शुरू करने के लिए, आप एक जगह निश्चित करे जो कि शांतिपूर्ण और निर्मल होनी चाहिए। शोर और प्रदूषण का न होना बहुत महत्वपूर्ण है जिस समय आप मेडिटेशन के लिए बैठते हैं।
  • सीधा बैठने की कोशिश करो हैं और जहां तक संभव हो अपनी रीढ़ को बिना अपने शरीर पर दबाव डालें, सुविधानुसार सीधा रखे। आप या तो बिस्तर पर या एक फर्श पर बिछे कालीन पर या एक कुर्सी को बैठने के लिए चुन सकते है।
  • अपने मन में एक विशिष्ट वस्तु की कल्पना करना शुरू करें। और खुद के रूप में वस्तु पर एकाग्रचित्‍त होने की कोशिश करें। अपने आप वस्तु का आकार, रंग और बनावट में कल्पना करने की कौशिश करें। ऐसा करने से आप आराम और शांतिं महसूस करना शुरू करेंगे।

  • आप अपने सांस लेने के पैटर्न पर अपना ध्यान आकर्षित करना चाहिए। गहरी साँस लेने की कोशिश करें और पूरी तरह से सांस छोड़े। सुनिश्चित करें कि आप अपने सांस लेने के तरीके पर अपनी एकाग्रता को विकसित करते हैं
  • अपने सांस लेने के तरीके की गति को बढ़ाने की कोशिश करें और अपने पेट को संकुचित करने और फैलाने की कोशिश करें। आप को निश्चित रूप से मदद मिलेगी कि आपका मन स्थिर है।
  • अपनी क्रिया को दोहराए (Keep practicing): जब आप ध्यान लगाते है तो हो सकता है की शुरवात मे आपसे यह सही से न हो, हो सकता है कि जब ध्यान लगाने की कोशिश करते है तो आपके विचार भटकने लगे. परंतु ऐसा होने पर चिंता ना करे और फिर से ध्यान लगाने की कोशिश करे. जब आप ऐसा बार बार करने की कोशिश करेंगे, तो आप आसानी से ध्यान लगा पाएंगे .

ध्यान कितने समय तक करना चाहिए? How much time to do meditation in hindi ?

आपको हर दिन एक ही समय में ध्यान करने का भी प्रयास करना चाहिए – चाहे वह आपकी सुबह के शुरुआती 15 मिनट हों,रात के या दुपहर के समय के दस मिनट

ध्यान लगाने से क्या फायदा होता है ? Benefits of Meditation in hindi

ध्यान-अभ्यास के शारीरिक लाभ शांत चित्त,अच्छी एकाग्रता,बेहतर स्पष्टता,बेहतर संवाद,मस्तिष्क एवं शरीर का कायाकल्प व विश्राम. इससे हमारे शरीर को भी अनेक लाभ मिलते हैं, जैसे कि बेहतर नींद आना, रक्तचाप में कमी आना, रोग-प्रतिरोधक क्षमता और पाचन प्रणाली में सुधार आना

ध्यान करने के लिए सबसे उपयुक्त आसन कौन सा है?

प्राणायाम एवं ध्यान पर बैठने की मुद्राएँ

  • सुखासन – सुखपूर्वक (आलथी-पालथी मार कर बैठना)।
  • सिद्धासन – निपुण, दक्ष, विशेषज्ञ की भाँति बैठना।
  • वज्रासन – एडियों पर बैठना।
  • अर्ध पद्मासन – आधे कमल की भाँति बैठना।
  • पद्मासन – कमल की भाँति बैठना।

पद्मासन कैसे लगाएं? how to do padmasana in hindi ?

विधि: जमीन पर बैठकर बाएँ पैर की एड़ी को दाईं जंघा पर इस प्रकार रखते हैं कि एड़ी नाभि के पास आ जाएँ। इसके बाद दाएँ पाँव को उठाकर बाईं जंघा पर इस प्रकार रखें कि दोनों एड़ियाँ नाभि के पास आपस में मिल जाएँ। मेरुदण्ड सहित कमर से ऊपरी भाग को पूर्णतया सीधा रखें। ध्यान रहे कि दोनों घुटने जमीन से उठने न पाएँ।

BK shivani morning meditation hindi

यहाँ क्लिक करें

Reiki healing in hindi | रेकी करने की विधि, तरीका, फायदे

यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply