Meaning of social distancing in hindi | सामाजिक दुरी और कोरोना

सोशल डिस्टेंसिंग क्या है ? What is Social Distancing in hindi ?

सोशल डिस्टेंसिंग / Social distancing / सामाजिक दूरी समाज में विभिन्न समूहों के बीच की दूरी का वर्णन करती है, जैसे कि सामाजिक वर्ग, नस्ल / जातीयता, लिंग । विभिन्न समूह एक ही समूह के सदस्यों की तुलना में दूसरे समूह में कम मिश्रण करते हैं । यह आत्मीयता या नजदीक होने का माप है जो एक व्यक्ति या समूह किसी अन्य व्यक्ति या समूह के प्रति सामाजिक नेटवर्क में महसूस करता है ।

कोरोना वायरस (Covid-19) के चलते पुरे विश्व में  सोशल डिस्टेंसिंग की चर्चा खूब हो रही है। सोशल डिस्टेंसिंग का सीधा साधा  मतलब सामाजिक रूप से दूरी हुआ यानी की सामाजिक मेल मिलाप से दूर रहना या लोगो से दुरी बनाये रखना। वैज्ञानिको का मानना है की कोरोना के फैलने का मुख्या कारण इसका दूसरे व्यक्ति में आसानी से घुस जाने को बताया गया है।

कोरोना वायरस (Covid-19) what is corona virus in hindi ?

कोरोनावायरस रोग (COVID-19) एक नया वायरस के कारण होने वाला एक संक्रामक रोग है। यह बीमारी खांसी, बुखार और अधिक गंभीर मामलों में, सांस लेने में कठिनाई जैसे लक्षणों के साथ सांस की बीमारी (फ्लू की तरह) का कारण बनती है। आप अपने हाथों को बार-बार धोकर, अपने चेहरे को छूने से बचें और अस्वस्थ लोगों के साथ निकट संपर्क (1 मीटर या 3 फीट) से बच सकते हैं।

क्या हैं इस बीमारी के लक्षण? Corona symptoms in hindi

संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं. यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है.

कोरोना की पहचान के लिए इन लक्षणों को देखें
तेज बुखार आनाः सुखी खांसी के साथ तेज बुखार आने लगे व्यक्ति को उसे एक बार जरूर जांच करानी चाहिए. अगर तापमान 100 डिग्री फ़ारेनहाइट (37.7 डिग्री सेल्सियस) या इससे ऊपर पहुंचता है तभी चिंता करनी चाहिए
कफ और सूखी खांसीः संक्रमित व्यक्ति को सुखी खांसी आती है.
सांस लेने में समस्याः कोरोना वायरस से संक्रमित होने के 5 दिनों के अंदर व्यक्ति को सांस लेने में समस्या हो सकती है.
शर्दी खांसी जैसे लक्षणः WHO के अनुसार कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर कभी-कभी बुखार, खांसी, सांस में दिक्कत के अलावा फ्लू और कोल्ड जैसे लक्षण भी हो सकते हैं.
डायरिया और उल्टीः करीब 30 % लोगों में कोरोना से संक्रमित लोगों में डायरिया और उल्टी के भी लक्षण देखे गए है.
सूंघने और स्वाद की क्षमता में कमीः कुछ मामलो में कोरोना से संक्रमित लोगों को सूंघने और स्वाद की क्षमता में कमी आती है.

 जब एक कोरोना रोगी किसी दूसरे से मिलता है और गलती से खांसता या जोर से बोलता है तो सामने वाले इंसान में भी कोरोना वायरस जाने की संभावना है।  कोरोना वायरस को तेजी से फैलने से रोकने के लिए ही पूरी दुनिया की सरकार लोगो को सोशल डिस्टन्सिंग करने की हिदायत दे रही।  अब तक कोरोना वायरस से आज के दिन तक १६००० लोग मर चुके हैं जबकि ४ लाख लोग इससे ग्रषित हैं.

सोशल  डिस्टन्सिंग और कोरोना का क्या लेना देना है ??Relationship between corona and social distancing

सोशल डिस्टन्सिंग ही आज के समय में कोरोना के खिलाफ सबसे कारगर उपाय बताया जा रहा है।  सोशल डिस्टन्सिंग का सबसे जरूरी क्रिया है की किसी सार्वजनिक स्थान पर ना जाना। किसी भी तरह के गैरजरूरी चीज़ो के लिए खुद को सामाजिक जगहों पे जैसे की बस स्टैंड,रोड्स,माल्स,भीड़ भाड़ वाले जगह पे यथा संभव बचने की कोशिश  करना चाहिए. ऐसा करने से आप खुद को कोरोना पाने या अगर आप में कोरोना है तो दुसरो को कोरोना देने से बच जायेंगे. ऐसा करने से आप सोशल डिस्टन्सिंग की भावना को पूरी तरह से अमल में ला सकते हैं।  सोशल डिस्टन्सिंग के लिए जरूरी है की आप लोगो से कोई भी भौतिक मेल मिलाप कम से कम या ना करें. गले मिलना ,हाथ मिलाना ,१ मीटर से काम की दुरी पे दो व्यकक्तियो का होना ये सब सोशल डिस्टनेसिंग के खिलाफ है

सोशल  डिस्टन्सिंग की भावना के तहत आप  वीडियो कॉलिंग के जरिए दोस्तों और रिश्तेदारों का हालचाल पूछ सकते हैं। ऑफिस की मीटिंग में वीडियो कॉल के जरिए शामिल हो सकते हैं।

सोशल  डिस्टन्सिंग की भावना के तहत आप  वीडियो कॉलिंग के जरिए दोस्तों और रिश्तेदारों का हालचाल पूछ सकते हैं। ऑफिस की मीटिंग में वीडियो कॉल के जरिए शामिल हो सकते हैं।

कोरोना वायरस पहले १ आदमी को होता फिर वह आदमी हो सकता है 1०० लोगो से मिले और सभी 1०० लोग कोरोना से ग्रषित हो जाए।  फिर वो सौ लोग अन्य लोगो से मिले और उनको भी उसी तरह ग्रसित कर दें.  ये 1से 2,2 से4 ,4 से 16 ,16 से 256  इस तर्ज फैलता है। इसको गणित भासा में  एक्सपोनेंशियल  चढ़ाव exponential growth कहते है।

 इसलिए इस तरह के फैलाव को रोकने के लिए ही सरकारी  lockdown  कर रही है। पहले सरकारें लोगो को सोशल डिस्टन्सिंग के लिए अपील भी कर रही है।  जो व्यक्ति जरूरी सेवाओं में लगे हुए है जैसे की डॉक्टर ,नर्स,पुलिस,खाद्यान सामग्रीः ,किराना दूकान वाले,दूध वाले,आदि आदि इनलोग को सोशल डिस्टन्सिंग को बहुत ही  अनुशाषित रूप से मानने की जरूरत है

सोशल डिस्टन्सिंग के तहत क्या क्या करें  Things to remember for social distancing

  1. समूह में शामिल ना हों।
  2. किसी और के घर ना जाएं।
  3. पार्टी ना करें और ना ही किसी के साथ खेलें।
  4. कॉन्सर्ट में, थिएटर या किसी पार्क में ना जाएं।
  5. भीड़भाड़ वाली रिटेल शॉप पर जाने से बचें।
  6. घर पर मेहमानों को ना बुलाएं।
  7. भीड़भाड़ वाली बस या मेट्रो में जाने ना जाएं।
  8. राशन खरीदते वक्त या रेस्त्रां में खाते वक्त सावधानी बरतें।
  9. चर्च, मंदिर या किसी अन्य धार्मिक स्थल जाते वक्त भी सावधानी बरतें।
  10. घर पर ही खाना बनाएं,

कृपया इन्हें भी पढ़ें

करोना प्यार है” Best Poem in hindi on corona virus

हंता वायरस क्या है ? what is Hanta virus

One thought on “Meaning of social distancing in hindi | सामाजिक दुरी और कोरोना

Leave a Reply

%d bloggers like this: