Love poem in hindi for husband

New Love poem in hindi

देख ना चाँद साथ कैसे चलता है
मेरी तरह ये भी तुम पर मरता है

सितारे जो टूटे तेरे दामन में गिरे
इक तारा इसी आरजू में गिरता है

Dekh na chand saath kaise chalta hai
Meri tarah ye bhi tum par marta hai

Sitare jo tute tere daaman me gire,
Ik tara issi aarju me girta hai

Love poem in hindi for husband -इतना क्यों प्यार


इतना ही प्यार करते हो ?
मांगू दस रुपैया कभी भी,
सौ बार सोचते हो तुम,
इतना क्यों प्यार करते हो तुम?
आऊं कभी थक कर अगर,
या रहूँ बीमार घर पर,
सिर्फ मैग्गी से काम चला लेते हो तुम,
इतना क्यों प्यार करते हो तुम?
ज़रूरत पड़ी जब भी तुम्हारी,
दस कदम पीछे हट जाते हो तुम,
इतना क्यों प्यार करते हो तुम?
प्यार बहुत करते हो हमसे,
हमेशा ही जताते हो तुम,
इतना क्यों प्यार करते हो तुम?

Love poem for husband in hindi – mera hamsafar हमसफर

पिता का आंगन छोड़ कर आई थी जिनके साथ
किसी अजनबी ने थामा था मेरा हाथ
गैरो के बीच भी था मेरा कोई अपना
जिनके संग बुनती रही हर सुनहरा सपना
मेरी यु बेढंग सी अदाओं के है वो दीवाने
मानो बरसो से है मुझसे जाने पहचाने
मेरी हर बात का रखते हैं खयाल
चिंता भरा चेहरा देखकर करते ढेरों सवाल
बेसब्री से करती हूं उनके आने का इंतजार
थोड़ी सी भी देर हो जाने पर दिल हो जाता है बेकरार
जिनके बिना विरानी लगती है जीवन डगर
वो हैं मेरे प्यारे हमसफर… हमसफर…

प्यार करके कोई जताए ये जरूरी तो नही
याद करके कोई बताये ये जरूरी तो नही
रोने वाला तो दिल में ही रो लेता है
आँख में आंसू आये ये जरूरी तो नही

दुनिया में किसी से कभी प्यार मत करना
अपने अनमोल आँसू इस तरह बेकार मत करना
कांटे तो फिर भी दामन थाम लेते हैं
फूलों पर कभी इस तरह तुम ऐतबार मत करना

वो मिसाल हम इश्क़ मे बनाएँगें
की आँखे जब तुम बंद करोगें तो बस हम आएँगें
इतना प्यार हम भर देंगे आपके दिल मे की
बस सब से पहले हम ही याद आएँगें

भूलना चाहो तो भी याद हमारी आएगी
दिल की गहराई मे हमारी तस्वीर बस जाएगी
ढूढ़ने चले हो हमसे बेहतर दोस्त
तलाश हमसे शुरू होकर हम पे ही ख़त्म हो जाएगी

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है
दिल न चाह कर भी, खामोश रह जाता है
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है
कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है

Leave a Comment