Advertisements

Karmveer Ayodhya Singh Upadhyay | कर्मवीर – अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’ |

देख कर बाधा विविध, बहु विघ्न घबराते नहीं
रह भरोसे भाग के दुख भोग पछताते नहीं
काम कितना ही कठिन हो किन्तु उबताते नहीं
भीड़ में चंचल बने जो वीर दिखलाते नहीं
हो गये एक आन में उनके बुरे दिन भी भले
सब जगह सब काल में वे ही मिले फूले फले ।

आज करना है जिसे करते उसे हैं आज ही
सोचते कहते हैं जो कुछ कर दिखाते हैं वही
मानते जो भी हैं सुनते हैं सदा सबकी कही
जो मदद करते हैं अपनी इस जगत में आप ही
भूल कर वे दूसरों का मुँह कभी तकते नहीं
कौन ऐसा काम है वे कर जिसे सकते नहीं ।

जो कभी अपने समय को यों बिताते हैं नहीं
काम करने की जगह बातें बनाते हैं नहीं
आज कल करते हुये जो दिन गंवाते हैं नहीं
यत्न करने से कभी जो जी चुराते हैं नहीं
बात है वह कौन जो होती नहीं उनके लिये
वे नमूना आप बन जाते हैं औरों के लिये ।

व्योम को छूते हुये दुर्गम पहाड़ों के शिखर
वे घने जंगल जहां रहता है तम आठों पहर
गर्जते जल-राशि की उठती हुयी ऊँची लहर
आग की भयदायिनी फैली दिशाओं में लपट
ये कंपा सकती कभी जिसके कलेजे को नहीं
भूलकर भी वह नहीं नाकाम रहता है कहीं ।

—अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

ayodhya singh upadhyay poems in hindi,
karamveer meaning in hindi
ek boond kavita ka saransh,
ayodhya singh upadhyay jivan parichay,
karmveer,
ayodhya kavita,
ayodhya singh upadhyay poem,
karamveer poem explanation in hindi,
kavita ka saransh in hindi,
hindi poem summary,
poem on veer
karmaveera meaning,
ayodhya singh upadhyay poems ek boond,
ayodhya singh upadhyay short poems,
karamveer poem summary in english,
ek boond kavita ki vyakhya,
ayodhya singh upadhyay 'hariaudh ki rachna,
karmveer kavita ka arth,
karamveer newspaper,
acharya karmaveer,
swami karamveer maharaj ji,
karmveer ki pahchan kya hai,
karamveer katha,
dhano ka geet class 8,
jungle manjari,
amarkantak se dindori class 8,

Leave a Comment