Jaun Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

सैयद सिबत-ए-असग़र नकवी, जिसे आमतौर पर जौन एलिया के नाम से जाना जाता है, एक पाकिस्तानी उर्दू कवि, दार्शनिक, जीवनी लेखक और विद्वान थे। उनका जन्म 14 दिसंबर 1931  को हुआ था . वह उर्दू, अरबी, अंग्रेजी, फारसी, संस्कृत और हिब्रू में निपुण थे।

जौन एलिया प्रमुख आधुनिक पाकिस्तानी कवियों में से एक थे , अपने अपरंपरागत तरीकों के लिए लोकप्रिय थे. उन्होंने दर्शन, तर्क, इस्लामी इतिहास, मुस्लिम सूफी परंपरा, मुस्लिम धार्मिक विज्ञान, का ज्ञान प्राप्त किया था

उन्होंने 8 साल की उम्र में कविता लिखना शुरू कर दिया था, लेकिन 60 साल की उम्र में उन्होंने अपना पहला संग्रह शायद प्रकाशित किया।उन्होंने 1970 में लेखक ज़ाहिदा हिना से शादी की और वे 1992 में अलग हो गए। उनका देहांत 8 नवंबर 2002 को हुआ था

Bahut najdik aati jaa rahi ho
Bichadne ka irada kar liya kya

उस गली ने ये सुन के सब्र किया
जाने वाले यहाँ के थे ही नहीं

Us ki gali ne ye sun ke sabr kiya
Jaane wale yahan ke the hi nahi

Bina tumhare kabhi nahi aayi
Kya meri neend bhi tumhari hai

जो गुज़ारी न जा सकी हम से
हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है
Jo gujari naa jaa saki hamse
Hamne wo jindagi gujari hai

Ik ajab haal hai ki ab usko
Yaad karna bhi bewafai hai

उन से वादा तो कर लिया लेकिन
अपनी कम-फ़ुर्सती को भूल गया
Unse wada toh kar liya lekin
Apni kam fursati ko bhul gaya

हम जी रहे हैं कोई बहाना किए बग़ैर
उस के बग़ैर उस की तमन्ना किए बग़ैर
Hum ji rahe hai koi bahana kiye bagair
Us ke bagair us ki tamanna kiye bagair

ऐ क़ातिलों के शहर बस इतनी ही अर्ज़ है
मैं हूँ न क़त्ल कोई तमाशा किए बग़ैर
Aae kaatilon ke shaher bas itni se arj hai
Mai hu naa katl koi tamasha kiye bagair

Khud ko bhula hu usko bhula hu
Umar bhar ki yahi kamai hai

ज़ब्त कर के हँसी को भूल गया
मैं तो उस ज़ख़्म ही को भूल गया

Jabt karke us hansi ko bhul gaya
Mai toh us jakhm hi ko bhul gaya

Meri jaan ab ye surat hai ki mujhse
Teri aadat chudai jaa rahi hai

एक ही तो हवस रही है हमें
अपनी हालत तबाह की जाए 

Jabt karke us hansi ko bhul gaya
Mai toh us jakhm hi ko bhul gaya

काम की बात मैं ने की ही नहीं
ये मेरा तौर-ए-ज़िंदगी ही नहीं
Kaam ki baat maine ki hi nahi
Ye mera taur e jindagi hi nahi

कौन से शौक़ किस हवस का नहीं
दिल मेरी जान तेरे बस का नहीं
Kaun se shauk kis hawas ka nahi
Dil meri jaan tere bas ka nahi

इलाज ये है कि मजबूर कर दिया जाऊँ
वगरना यूँ तो किसी की नहीं सुनी मैंने
Ilaaz ye hai ki majboor kar diya jaaun
Warna yu toh kisi ke nahi suni maine

Ye mujhe chain kyu nahi padta
Ek hi shaks tha jahan me kya

कोई नहीं यहां खामोश, कोई पुकारता नहीं
शहर में एक शोर है और कोई सदा नहीं
Koi nahi yahan khaamosh,koi pukarta nahi
Shahar me ek shor hai aur koi sada nahi

अब हमारा मकान किस का है
हम तो अपने मकां के थे ही नहीं
Ab hamara makaan kiska hai
Hum toh apne makaan ke the hi nahi

हम आंधियों के बन में किसी कारवां के थे
जाने कहां से आए थे, जाने कहां के थे
Hum aandhiyon ke ban me kisi karwan ke the
Jaane kahan se aaye the ,jaane kahan ke the

Aur toh hamne kya kiya ab tak
Ye kiya hai ki din gujare hain

कभी-कभी तो बहुत याद आने लगते हो
कि रूठते हो कभी और मनाने लगते हो
Kabhi kabhi toh bahut yaad aane lagte ho
Ki ruthte ho kabhi aur maanaane lagte ho

Leave a Reply

%d bloggers like this: