Advertisements

Hazrat Nizammudin in hindi | हज़रत निज़ामुद्दीन

हज़रत निज़ामुद्दीन |Hazrat Nizammudin in hindi

निजामुद्दीन औलिया एक सूफी संत थे. काफी लोकप्रिय थे. वो करीब 85 सालों तक दिल्ली में यहीं रहे. ये 12वीं सदी से लेकर 13वीं सदी के बीच का समय था ।

Nizammudin Dargah images
हज़रत निज़ामुद्दीन


वो उत्तर प्रदेश के बदायूं में  1236 में पैदा हुए थे और बचपन में ही पिता के निधन के बाद कुछ बरसों बाद दिल्ली आ गए. 1269  में जब निज़ामुद्दीन 20  वर्ष के थे, वह अजोधर पहुँचे और सूफी संत फरीद्दुद्दीन गंज-इ-शक्कर के शिष्य बन गये, जिन्हें बाबा फरीद के नाम से जाना जाता था। निज़ामुद्दीन ने अजोधन में  अपनी आध्यात्मिक पढाई जारी रखी, साथ ही साथ उन्होंने दिल्ली में सूफी अभ्यास जारी रखा। वह हर वर्ष रमज़ान के महीने में बाबा फरीद के साथ अजोधन में अपना समय बिताते थे। इनके अजोधन के तीसरे दौरे बाबा फरीद ने इन्हें अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया ।

 धीरे धीरे उनका प्रभाव यहां बढ़ने लगा. हजरत निज़ामुद्दीन चिश्ती घराने के चौथे संत थे। इस सूफी संत ने वैराग्य और सहनशीलता की मिसाल पेश की, कहा जाता है कि 1303 में इनके कहने पर मुगल सेना ने हमला रोक दिया था, इस प्रकार ये सभी धर्मों के लोगों में लोकप्रिय बन गए ।

निज़ामुद्दीन, दिल्ली के पास, ग़यासपुर में बसने से पहले दिल्ली के विभिन्न इलाकों में रहे। उन्होंने यहाँ अपना एक “खंकाह” बनाया, जहाँ पर विभिन्न समुदाय के लोगों को खाना खिलाया जाता था, “खंकाह” एक ऐसी जगह बन गयी थी जहाँ सभी तरह के लोग चाहे अमीर हों या गरीब, की भीड़ जमा रहती थी।

इनके बहुत से शिष्यों को आध्यात्मिक ऊँचाई की प्राप्त हुई, जिनमें ’ शेख नसीरुद्दीन मोहम्मद चिराग़-ए-दिल्ली,अमीर खुसरो, जो कि विख्यात विद्या ख्याल/संगीतकार और दिल्ली सलतनत के शाही कवि के नाम से प्रसिद्ध थे।

.03 अप्रैल 1325 में उन्होंने आखिरी सांसें लीं.  इनकी दरगाह, हजरत निज़ामुद्दीन दरगाह दिल्ली में स्थित है।

उर्स |Nizammudin Urs in Hindi

इनका उर्स (परिवाण दिवस) दरगाह पर मनाया जाता है। यह रबी-उल-आखिर की सत्रहवीं तारीख को (हिजरी अनुसार) वार्षिक मनाया जाता है। साथ ही हज़रत अमीर खुसरो का उर्स शव्वाल की अट्ठारहवीं तिथि को होता है।

निजामुद्दीन और अमीर खुसरो | Nizzamuddin and Amir Khusro

अमीर खुसरो, हज़रत निजामुद्दीन के सबसे प्रसिद्ध शिष्य थे, जिनका प्रथम उर्दू शायर तथा उत्तर भारत में प्रचलित शास्त्रीय संगीत की एक विधा ख्याल के जनक के रूप में सम्मान किया जाता है। खुसरो का लाल पत्थर से बना मकबरा उनके गुरु के मकबरे के सामने ही स्थित है। इसलिए हजरत निज़ामुद्दीन और अमीर खुसरो की बरसी पर दरगाह में दो सर्वाधिक महत्वपूर्ण उर्स (मेले) आयोजित किए जाते हैं

दरगाह | Nizammudin Dargah in Hindi

इस दरगाह की संरचना को 1562 में बनाया गया. दक्षिणी दिल्ली में स्थित हजरत निज़ामुद्दीन औलिया का मकबरा सूफी काल की एक पवित्र दरगाह है।अबुल फजह की आइन ए अकबरी में निजामुद्दीन औलिया का विस्तार से जिक्र किया गया है

Nizammudin Dargah image
Nizammudin Dargah

दरगाह में संगमरमर पत्थर से बना एक छोटा वर्गाकार कक्ष है, इसके संगमरमरी गुंबद पर काले रंग की लकीरें हैं। मकबरा चारों ओर से मदर ऑफ पर्ल केनॉपी और मेहराबों से घिरा है, जो झिलमिलाती चादरों से ढकी रहती हैं। । दरगाह में प्रवेश करते समय सिर और कंधे ढके रखना अनिवार्य है। धार्मिक गात और संगीत इबादत की सूफी परंपरा का अटूट हिस्सा हैं। दरगाह में जाने के लिए सायंकाल 5 से 7 बजे के बीच का समय सर्वश्रेष्ठ है. इन समय छुट्टियों के दिनों में  कव्वाल अपने गायन से श्रद्धालुओं को धार्मिक उन्माद से भर देते हैं। यह दरगाह निज़ामुद्दीन रेलवे स्टेशन के नजदीक मथुरा रोड से थोड़ी दूरी पर स्थित है। यहां दुकानों पर फूल, लोबान, टोपियां आदि मिल जाती हैं।

कहा जाता है कि जब तक वह जिंदा रहे, तब तक ये जगह सूफी गीत-संगीत की ऊर्जा स्थली बनी रही. आज भी यहां संगीत का स्वर हमेशा गूंजता रहता है. ये शायद कभी एक दिन के लिए भी नहीं रुका.

पहले अमीर खुसरो की मजार मिलेगी. मान्यता है कि हजरत ख़ुसरो को सलाम किए बिना हजरत निजामुद्दीन के दरबार में माथा टेकना अधूरा है.

निजामुद्दीन के दरगाह की ओर बढते ही माहौल, रंग-रौनक सब बदलने लगती है. कव्वाली और संगीत की संगत की आवाजें. अगरबत्तियों, इत्रों, फूलों और मुगलई खाने की खुशबू. , संगीत का संगम मिलने लगता है

औलिया की मजार पर महिलाएं नहीं जा सकतीं |Women Entry in Nizammuddin Darah


दरगाह में हर जगह महिलाएं दिखती हैं लेकिन वो औलिया की मजार पर नहीं जा सकतीं, वहां केवल पुरुष जा सकते हैं, अंदर मजार के इर्द-गिर्द लोग कतार बांधे, अदब से झुकते हैं, मत्था टेकते हैं और इबादत करते हैं. मजार गुलाब और चादरों से ढकी होती है. यहां पिछले करीब 800 सालों से ये हो रहा है.

जानकारों का मानना है  कि हजरत बड़े सूफी संत हैं, उन्होंने अपना पूरा जीवन खुदा की इबादत करने में गुजार दिया। वह अपने परिवार के अलावा अन्य महिलाओं से पर्दा करते थे। यही कारण है की महिलाओं को मजार पर जाने नहीं दिया जाता।

कुछ लोग इसका कारण कुरान से जोड़ते है . कुरान में इस बात का जिक्र है कि पैगंबर मोहम्मद साहब ने महिलाओं को कब्रिस्तान व मजारों पर जाने से मना किया है। ।

हजरत निजामुद्दीन दरगाह में 30 से अधिक मजार हैं और सबसे बड़ी मजार खुद हजरत निजामुद्दीन साहब की है।

सुझाव | Nizamuudin Dargah Rules

अपने जूते उतरने और दरगाह में प्रवेश करने से पहले अपने सिर को कवर करना परता हैं

औरते मुख्य कबर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं हैं।

कव्वाली में भाग लेने के लिए,भागीदार को दरगाह द्वारा गुरुवार पर 7:00 बजे तक पूछना पड़ेगा।

दरगाह पे क्या पहने | what to wear in nizamuddin dargah

अपने सिर को ढंकने के लिए एक कपड़ा ले आएं ।
इसके अलावा, मोजे पहनना सुनिश्चित करें क्योंकि आपको जूते के साथ अंदर जाने की अनुमति नहीं होगी।

यदि आप पहली बार आगंतुक हैं, तो दरगाह के अंदर प्रसाद के रूप में चढ़ाने के लिए एक चादर, फूल और अगरबत्ती खरीदें।

Adress | पता: ओल्ड निजामुद्दीन बाजार, निजामुद्दीन ईस्ट, नई दिल्ली, इंडिया

दरगाह पे क्या करें | what to do in nizamuddin dargah

कव्वाली सुनने के अलावा, कई अन्य स्थान हैं जहाँ आप परिसर के अंदर जा सकते हैं।

आप निजामुद्दीन औलिया के गर्भगृह में अपना रास्ता बना सकते हैं। यहां आप महान सूफी संत को श्रद्धांजलि दे सकते हैं।

आप चौसठ खंबा (64 स्तंभ) भी जा सकते हैं, जहाँ कोई भी मिर्ज़ा ग़ालिब का मक़बरा देख सकता है, जो मुग़ल काल का एक प्रमुख फ़ारसी कवि है।

विशेष रूप से इस दरगाह के करीब हजरत इनायत खान, 19 वीं सदी के सूफी संत, जहां कव्वालियां शुक्रवार को होती हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: