Advertisements

Harivansh Rai Bachchan biography in hindi – हरिवंश राय बच्चन

Harivansh Rai Bachchan- हरिवंश राय बच्चन परिचय

हरिवंश राय बच्चन हिन्दी भाषा के एक कवि और लेखक थे। बच्चन हिन्दी कविता के प्रमुख कवियों में से एक हैं। मधुशाला  उनकी सबसे प्रसिद्ध कृति है। भारतीय फिल्म उद्योग के प्रख्यात अभिनेता अमिताभ बच्चन उनके सुपुत्र हैं।

उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अंग्रेजी का अध्यापन किया। बाद में भारत सरकार के विदेश मंत्रालय में हिन्दी विशेषज्ञ रहे। बाद में  राज्य सभा के मनोनीत सदस्य। बच्चन जी की गिनती हिन्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय कवियों में होती है।

about harivansh rai bachchan, about harivansh rai bachchan in hindi, acknowledgement in hindi language for hindi project, actor kavin kavi biography, amitabh bachchan biography in hindi language, amitabh bachchan jivani, amitabh bachchan jivani in hindi, amitabh bachchan wikipedia hindi, amitabh bachchan wikipedia in hindi, autobiography of harivansh rai bachchan, autobiography of harivansh rai bachchan in hindi language, best hindi articles on life, best hindi poems by harivansh rai bachchan, best stories about value of time in hindi, bibliography in hindi project, biography in hindi pdf, biography of harivansh rai bachchan, biography of harivansh rai bachchan in hindi, biography of hindi poets in hindi language, business motivational story in hindi, chayavadi kavi list, dr harivansh rai bachchan, dr harivansh rai bachchan poems in hindi, essay on harivansh rai bachchan in hindi, exam motivational story in hindi, happiness story in english, happiness story in hindi, harbans rai bachan, harbans rai bachchan, hari bansha rai bachchan, hari rai bachan, hari rai bachchan, hari rai bachchan kavita, haribans rai bachan, haribans rai bachchan, haribans rai bachchan poem in hindi, harish rai bachan, harish rai bachchan, harish rai bachchan in hindi, harishvansh rai bachchan, harivamsa rai bachan, harivamsa rai bachchan in hindi, harivansh, harivansh bachchan, harivansh rai, harivansh rai bacchan, harivansh rai bachan, harivansh rai bachchan, harivansh rai bachchan agnipath poem in hindi, harivansh rai bachchan autobiography, harivansh rai bachchan autobiography in hindi, harivansh rai bachchan awards, harivansh rai bachchan biography, harivansh rai bachchan biography in hindi, harivansh rai bachchan biography in hindi ppt, harivansh rai bachchan books, harivansh rai bachchan date of birth, harivansh rai bachchan family, harivansh rai bachchan grandchildren, harivansh rai bachchan hindi, harivansh rai bachchan images, harivansh rai bachchan in hindi, harivansh rai bachchan in hindi kavita, harivansh rai bachchan in hindi poem, harivansh rai bachchan in hindi wikipedia, harivansh rai bachchan jeevan parichay, harivansh rai bachchan jeevan parichay in hindi, harivansh rai bachchan jivani in hindi, harivansh rai bachchan jo beet gayi, harivansh rai bachchan ka jeevan parichay, harivansh rai bachchan kavita, harivansh rai bachchan kavita in hindi, harivansh rai bachchan ki jivani, harivansh rai bachchan ki jivani in hindi, harivansh rai bachchan ki kavita, harivansh rai bachchan ki kavita in hindi, harivansh rai bachchan ki kavitayen, harivansh rai bachchan ki kavitayen hindi me, harivansh rai bachchan ki madhushala, harivansh rai bachchan ki rachnaye, harivansh rai bachchan madhushala, harivansh rai bachchan photo, harivansh rai bachchan poem, harivansh rai bachchan poem hindi, harivansh rai bachchan poem in hindi, harivansh rai bachchan poem koshish karne walon ki in hindi, harivansh rai bachchan poems, harivansh rai bachchan poems in hindi, harivansh rai bachchan poems in hindi koshish karne, harivansh rai bachchan poems in hindi pdf, harivansh rai bachchan poems pdf, harivansh rai bachchan quotes hindi, harivansh rai bachchan quotes in hindi, harivansh rai bachchan short poems in hindi, harivansh rai bachchan story in hindi, harivansh rai bachchan thoughts in hindi, harivansh rai bachchan wiki, harivansh rai bachchan wikipedia in hindi, harivansh rai bachhan, harivansh ray bacchan, harivanshrai bacchan, harivanshrai bacchan poems, harivanshrai bachchan, hariwans rai bachan, hindi kavi, hindi kavi list, hindi kavi parichay, hindi kavita by harivansh rai bachchan, hindi kavita harivansh rai bachchan, hindi kavita of harivansh rai bachchan, hindi ke kavi, hindi poem harivansh rai bachchan, hindi poems by harivansh rai bachchan, hindi poems harivansh rai bachchan, hindi poems of harivansh rai bachchan, hindi poets biography, hindi poets biography in hindi, hindi poets biography in hindi language, hindi poets information in hindi, hindi sahityakar ki jeevani, hindi sahityakar list, history of harivansh rai bachchan in hindi, http motivation hindi, http motivational story, images of harivansh rai bachchan, information about harivansh rai bachchan, information about harivansh rai bachchan in hindi, information of harivansh rai bachchan in hindi, information on harivansh rai bachchan in hindi, inspirational story in hindi language, jeevani in hindi, jivani in hindi, jivni, kavi harivansh rai bachchan, kavi hindi, kavi parichay, kavi parichay in hindi, kavin kavi profile, kavita harivansh rai bachchan, kavita harivansh rai bachchan hindi, kavita of harivansh rai bachchan in hindi, keonics login, motivational emotional story in hindi, motivational stories for kids in hindi, motivational stories in hindi for class 7, motivational story images in hindi, motivational story in hindi 2018, motivational story in hindi for depression, motivational story in hindi for sales team, motivational story in hindi for success, motivational story in hindi pdf, munshi premchand biography in hindi ppt, need ka nirman fir fir, neethi parak kahani, pita putra motivational kahani, poem harivansh rai bachchan, poem harivansh rai bachchan in hindi, poem of harivansh rai bachchan in hindi, poem written by harivansh rai bachchan in hindi, poems by harivansh rai bachchan in hindi, poems of harivansh rai bachchan in hindi language, poems of harivansh rai bachchan in hindi pdf, quotes of harivansh rai bachchan in hindi, rai in hindi, real life inspirational short stories in hindi,real life inspirational stories in hindi, saraswati devi harivansh rai bachchan, scientist success story in hindi, shiksha agneepath, shiksha in agneepath, short motivational story in english, short poems of harivansh rai bachchan in hindi, short story for school magazine in hindi, shri harivansh rai bachchan, shyama harivansh rai bachchan, story motivation, story on patience in hindi, story on stress in hindi, success businessman story in hindi, success stories in hindi pdf, success story in hindi for student, value of chance in hindi, value of chance story in hindi, www happyhindi com in hindi, zindagi ki kahani, अमिताभ बच्चन का जीवन परिचय, अमिताभ बच्चन की जीवनी, पिता पर छोटी कविता, हरिवंश राय बच्चन, हरिवंश राय बच्चन कविता, हरिवंश राय बच्चन का जीवन परिचय, हरिवंश राय बच्चन की कविता, हरिवंश राय बच्चन की छोटी कविता, हरिवंश राय बच्चन जीवन परिचय, हरिवंशराय बच्चन, हरिवंशराय बच्चन की कवितायेँ, हरिवंशराय बच्चन जी की कविता,जगती की शीतल हाला-सी पथिक, नहीं मेरी हाला, जगती की ठंडे प्याले-सा, पथिक, नहीं मेरा प्याला, ज्वाल-सुरा जलते प्याले में दग्ध हृदय की कविता है; जलने से भयभीत न जो हो, आए मेरी मधुशाला हरिवंश राय बच्चन

जन्म 27 नवम्बर 1907  इनके पिता का नाम प्रताप नारायण श्रीवास्तव था। इनको बाल्यकाल में ‘बच्चन’ कहा जाता था जिसका शाब्दिक अर्थ ‘बच्चा’ या ‘संतान’ होता है। बाद में ये इसी नाम से मशहूर हुए .  उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से अंग्रेजी में MA और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य के विख्यात कवि W.B. Yeats डब्लू॰बी॰ यीट्स की कविताओं पर शोध कर पी.एच.डी पूरी की थी

उनकी कृति दो चट्टानें को 1968 में हिन्दी कविता के साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।  बच्चन को भारत सरकार द्वारा 1976 में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

हरिवंश राय बच्चन पारिवारिक जीवन

पहली जीवन संगनी शयामा थी उनका देहांत 1936 में हुआ उसके बाद उन्होंने तेजी बच्चन से शादी की,बच्चे 2 (अमिताभ बच्चन और अजिताभ बच्चन)

अमिताभ बच्चन के बच्चे श्वेता बच्चन नंदा और अभिनेता अभिषेक बच्चन हैं। हरिवंश राय बच्चन के पोते अभिषेक बच्चन और श्वेता नंदा हैं जो अमिताभ के बच्चे हैं।

हरिवंश राय बच्चन के दूसरे बेटे अजिताभ बच्चन हैं .अजिताभ की तीन बेटियां हैं, नीलिमा, नैना और नमृता बच्चन और एक बेटा भीम बच्चन। नैना ने अभिनेता कुणाल कपूर से शादी की है

फिल्मों में बच्चन के काम

बच्चन के काम को फिल्मों और संगीत में इस्तेमाल किया गया है। उदाहरण के लिए, उनके काम “अग्निपथ” के दोहों का उपयोग 1990 की फिल्म अग्निपथ में किया गया, जिसमें अमिताभ बच्चन ने अभिनय किया, और बाद में 2012 में ऋतिक रोशन द्वारा अभिनीत अग्निपथ को रीमेक किया गया

हरिवंश राय बच्चन कविताएं | Harivansh Rai Bachchan Poems

  1. Chal Mardane,
  2. Madhushala
  3. (तेरा हार) (1932)
  4.  (मधुशाला) (1935)
  5. (मधुबाला) (1936)
  6. (मधुकलश) (1937)
  7. Raat Aadhi Kheench Kar Meri Hatheli
  8. (निशा निमंत्रण) (1938)
  9. (एकांत संगीत) (1939)
  10. (आकुल अंतर) (1943)
  11. (सतरंगिनी) (1945)
  12. (हलाहल) (1946)
  13. (बंगाल का काव्य) (1946)
  14. (खादी के फूल) (1948)
  15. (सूत की माला) (1948)
  16. (मिलन यामिनी) (1950)
  17. (प्रणय पत्रिका) (1955)
  18. r (धार के इधर उधर) (1957)
  19. (आरती और अंगारे) (1958)
  20. (बुद्ध और नाचघर) (1958)
  21. (त्रिभंगिमा) (1961)
  22. (चार खेमे चौंसठ खूंटे) (1962)
  23. (दो चट्टानें) (1965)
  24. (बहुत दिन बीते) (1967)
  25. (कटती प्रतिमाओं की आवाज़) (1968)
  26. (उभरते प्रतिमानों के रूप) (1969)
  27. (जाल समेटा) (1973)
  28. (निर्माण)
  29. (आत्मपरिचय)
  30. (एक गीत)
  31. (अग्निपथ)

हरिवंश राय बच्चन विविध

  • (बचपन के साथ क्षण भर) (1934)
  • (खय्याम की मधुशाला) (1938)
  • (सोपान) (1953)
  • (मेकबेथ)(1957)
  • (जनगीता) (1958)
  • (उमर खय्याम की रुबाइयाँ) (1959)
  • (कवियों के सौम्य संत: पंत) (1960)
  • (आज के लोकप्रिय हिन्दी कवि: सुमित्रानंदन पंत) (1960)
  • 7 (आधुनिक कवि: ७) (1961)
  • (नेहरू: राजनैतिक जीवनचित्र) (1961)
  • (नये पुराने झरोखे) (1962)
  • (अभिनव सोपान) (1964)
  • (चौसठ रूसी कवितायें) (1964)
  • W.B. Yeats and Occultism (1968)
  • (मरकट द्वीप का स्वर) (1968)
  • (नागर गीत) (1966)
  • (बचपन के लोकप्रिय गीत) (1967)
  • (भाषा अपनी भाव पराये) (1970)
  • (पंत के सौ पत्र) (1970)
  • (प्रवास की डायरी) (1971)
  • (टूटी छूटी कड़ियां) (1973)
  • (मेरी कविताई की आधी सदी) (1981)
  • (सोहं हंस) (1981)
  • आठवें दशक की प्रतिनिधी श्रेष्ठ कवितायें) (1982)
  • (मेरी श्रेष्ठ कवितायें) (1984)

हरिवंश राय बच्चन आत्मकथा

  • (क्या भूलूं क्या याद करूं) (1969)
  • (नीड़ का निर्माण फिर) (1970)
  • (बसेरे से दूर) (1977)
  • (दशद्वार से सोपान तक) (1985), In the Afternoon of Time
  • (बच्चन रचनावली के नौ खण्ड)

हरिवंश राय बच्चन मृत्यु : 18 जनवरी 2003

हरिवंश राय बच्चन harivansh rai bachchan quotes

हाथों में आने-आने में, हाय, फिसल जाता प्याला, अधरों पर आने-आने में, हाय, ढलक जाती हाला; दुनिय वालो, आकर मेरी किस्मत की खूबी देखो रह-रह जाती है बस मुझको मिलते-मिलते मधुशाला”

“मदिरालय जाने को घर से चलता है पीनेवाला, ‘किस पथ से जाऊँ’ असमंजस में है वह भोलाभाला; अलग-अलग पथ बतलाते सब पर मैं यह बतलाता हूँ… ‘राह पकड़ तू एक चला चल, पा जाएगा मधुशाला”

“बने पुजारी प्रेमी साक़ी, गंगाजल पावन हाला, रहे फेरता अविरल गति से मधु के प्यालों की माला, ‘और लिये जा, और पिए जा’— इसी मंत्र का जाप करे, मैं शिव की प्रतिमा बन बैठूँ | मंदिर हो यह मधुशाला”

भावुकता अंगूर लता से खींच कल्पना की हाला, कवि साक़ी बनकर आया है भरकर कविता का प्याला; कभी न कण भर खाली होगा, लाख पिएँ, दो लाख पिएँ! पाठक गण हैं पीनेवाले, पुस्तक मेरी मधुशाला | 4”

“दुतकारा मस्जिद ने मुझको कहकर है पीनेवाला, ठुकराया ठाकुरद्वारे ने देख हथेली पर प्याला, कहाँ ठिकाना मिलता जग में भला अभागे काफिर को शरणस्थल बनकर न मुझे यदि अपना लेती मधुशाला”

बजी नफ़ीरी और नमाज़ी भूल गया अल्लाताला, गाज़ गिरी, पर ध्यान सुरा में मग्न रहा पीनेवाला; शेख, बुरा मत मानो इसको, साफ़ कहूँ तो मस्जिद को अभी युगों तक सिखलाएगी ध्यान लगाना मधुशाला”

कभी नहीं सुन पड़ता, ‘इसने, हा, छू दी मेरी हाला’, कभी न कोई कहता, ‘उसने जूठा कर डाला प्याला’; सभी जाति के लोग यहाँ पर साथ बैठकर पीते हैं; सौ सुधारकों का करती है काम अकेली मधुशाला”


“याद न आए दुखमय जीवन इससे पी लेता हाला, जग चिंताओं से रहने को मुक्त, उठा लेता प्याला, शौक, साध के और स्वाद के हेतु पिया जग करता है, पर मैं वह रोगी हूँ जिसकी एक दवा है मधुशाला”

मेरे शव पर वह रोए, हो जिसके आँसू में हाला, आह भरे वह, जो हो सुरभित मदिरा पीकर मतवाला, दें मुझको वे कंधा जिनके पद मद-डगमग होते हों और जलूँ उस ठौर, जहाँ पर कभी रही हो मधुशाला | 83

और चिता पर जाय उँडेला पात्र न धृत का, पर प्याला घंट बँधे अंगूर लता में, नीर न भरकर, भर हाला, प्राणप्रिये, यदि श्राद्ध करो तुम मेरा, तो ऐसे करना— पीनेवालों को बुलवाकर, खुलवा देना मधुशाला”

“ज्ञात हुआ यम आने को है ले अपनी काली हाला, पंडित अपनी पोथी भूला, साधू भूल गया माला, और पुजारी भूला पूजा, ज्ञान सभी ज्ञानी भूला, किन्तु न भूला मरकर के भी पीनेवाला मधुशाला”

“पाप अगर पीना, समदोषी तो तीनों—साक़ी बाला, नित्य पिलानेवाला प्याला, पी जानेवाली हाला; साथ इन्हें भी ले चल मेरे न्याय यही बतलाता है, क़ैद जहाँ मैं हूँ, की जाए क़ैद वहीं पर मधुशाला”

“कभी निराशा का तम धिरता, छिप जाता मधु का प्याला, छिप जाती मदिरा की आभा, छिप जाती साक़ीबाला, कभी उजाला आशा करके प्याला फिर चमका जाती, आँखमिचौनी खेल रही है मुझसे मेरी मधुशाला”

“जगती की शीतल हाला-सी पथिक, नहीं मेरी हाला, जगती की ठंडे प्याले-सा, पथिक, नहीं मेरा प्याला, ज्वाल-सुरा जलते प्याले में दग्ध हृदय की कविता है; जलने से भयभीत न जो हो, आए मेरी मधुशाला | 15”

“धर्म-ग्रंथ सब जला चुकी है जिसके अन्तर की ज्वाला, मंदिर, मस्जिद, गिरजे—सबको तोड़ चुका जो मतवाला, पंडित, मोमिन, पादरियों के फंदों को जो काट चुका कर सकती है आज उसी का स्वागत मेरी मधुशाला | 17”

“एक बरस में एक बार ही जलती होली की ज्वाला, एक बार ही लगती बाज़ी, जलती दीपों की माला; दुनियावालों, किन्तु, किसी दिन आ मदिरालय में देखो, दिन को होली, रात दिवाली, रोज़ मानती मधुशाला”

“उतर नशा जब उसका जाता, आती है संध्या बाला, बड़ी पुरानी, बड़ी नशीली नित्य ढला जाती हाला; जीवन की संताप शोक सब इसको पीकर मिट जाते; सुरा-सुप्त होते मद-लोभी जागृत रहती मधुशाला”

“धीर सुतों के हृदय-रक्त की आज बना रक्तिम हाला, वीर सुतों के वर शीशों का हाथों में लेकर प्याला, अति उदार दानी साक़ी है आज बनी भारतमाता, स्वतंत्रता है तृषित कालिका, बलिवेदी है मधुशाला”

“सोम-सुरा पुरखे पीते थे, हम कहते उसको हाला, द्रोण-कलश जिसको कहते थे, आज वही मधुघट आला; वेद-विहित यह रस्म न छोड़ो, वेदों के ठेकेदारों, युग-युग से है पुजती आई नई नहीं है मधुशाला”

“कोशिश करने वालों की कभी हार नही होती”लहरों से डरकर नौका कभी पार नहीं होती, कोशिश करने वालो की कभी हार नहीं होती!!
नन्ही चीटी जब दाना लेकर चलती है, चढ़ती दीवारों पर सौ बार फिसलती है,
मन का विश्वास रगों में साहस भरते जाता है, चढ़ कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है,
आखिर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती, कोशिश करने वालो की कभी हार नहीं होती ! !

Leave a Reply