Advertisements

श्री गुरु नानक देव के अनमोल वचन guru granth sahib quotes in hindi

कोई उसे तर्क द्वारा नहीं समझ सकता, भले वो युगों तक तर्क करता रहे.

बंधुओं ! हम मौत को बुरा नहीं कहते, यदि हम जानते कि वास्तव में मरा कैसे जाता है.

प्रभु के लिए खुशियों के गीत गाओ, प्रभु के नाम की सेवा करो, और उसके सेवकों के सेवक बन जाओ.

श्री गुरु नानक देव के अनमोल वचन

quotes on gurudwara,
guru nanak dev ji thoughts,
guru nanak dev ji quotes in hindi,
waheguru status in hindi,
quotes by guru nanak,
guru granth sahib ji quotes in hindi,

ना मैं एक बच्चा हूँ , ना एक नवयुवक, ना ही मैं पौराणिक हूँ, ना ही किसी जाति का हूँ.

तेरी हजारों आँखें हैं और फिर भी एक आंख भी नहीं ; तेरे हज़ारों रूप हैं फिर भी एक रूप भी नहीं.

धन-समृद्धि से युक्त बड़े बड़े राज्यों के राजा-महाराजों की तुलना भी उस चींटी से नहीं की जा सकती है जिसमे में ईश्वर का प्रेम भरा हो.

उसकी चमक से सबकुछ प्रकाशमान है.
Shree Guru Nanak Dev श्री गुरु नानक देव

मेरा जन्म नहीं हुआ है; भला मेरा जन्म या मृत्यु कैसे हो सकती है.

दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए. बिना गुरु के कोई भी दुसरे किनारे तक नहीं जा सकता है.

guru nanak hindi quotes,
thoughts of guru nanak dev ji,
quotes by guru nanak,
guru nanak dev ji thoughts,
guru granth sahib quotes about life in hindi,
nanak quotes,

God is one, but he has innumerable forms. He is the creator of all and He himself takes the human form.
भगवान एक है, लेकिन उसके कई रूप हैं. वो सभी का निर्माणकर्ता है और वो खुद मनुष्य का रूप लेता है.

सांसारिक प्यार को जला दो, राख को रगड़ कर उसकी स्याही बना लो, दिल को कलम , बुद्धि को लेखक बना लो,वो लिखो जिसका कोई अंत ना हो…कोई सीमा ना हो.

वह जिसे खुद में भरोसा नहीं है उसे कभी ईश्वर में भरोसा नहीं हो सकता.

दुनिया एक नाटक है, जो एक सपने में मंचित है.

केवल वो बोलो जो जो तुम्हारे लिए सम्मान लेकर आये.

जिन्होंने प्रेम किया है वे वो हैं जिन्होंने प्रेम को ढूंढ लिया है.

आपकी दया मेरी सामाजिक स्थिति है.

एक योगी को किस बात का भय? पेड़, पौधे, और जो कुछ भी अन्दर और भाहर है वह खुद ही है.
Shree Guru Nanak Dev

quotes from guru granth sahib ji in hindi,
waheguru quotes,
gurudwara quotes,
guru nanak quotes in hindi,
lines from guru granth sahib ji in hindi,
gurbani quotes in hindi,
sikh quotes in hindi,

नानक, पूरी दुनिया संकट में है. वह जो उसके नाम में यकीन करता है, विजयी हो जाता है.
Shree Guru Nanak Dev श्री गुरु नानक देव

वह जो सभी लोगों को बराबर मानता है धार्मिक है.

अपने अस्तित्व के निवास में शांति से रहो, और मृत्यु दूत तुम्हे छू भी नहीं पायेंगे.

इस दुनिया में जब तुम खुशियाँ मांगते हो दर्द सामने आ जाता है.

guru nanak dev ji quotes in hindi,
gurbani status in hindi,
guru granth sahib ji quotes in hindi,
waheguru quotes in hindi,
guru granth sahib quotes in hindi,
nanak quotes,
guru nanak quotes hindi,

सत्य को जानना हर एक चीज से बड़ा है. उससे भी बड़ा है सच्चाई से जीना.

जहाँ भी प्रत्येक का संरक्षक मुझे रखता है, वहीँ स्वर्ग है.

मैं लगातार उसके चरणों को नमन करता हूँ, और उससे प्रार्थना करता हूं. गुरु, सच्चे गुरु ने मुझे रास्ता दिखाया है

यदि लोग भगवान् द्वारा दी गयी दौलत का प्रयोग सिर्फ खुद के लिए या खजाने में रखने के लिए करते हैं तो वह शव की तरह है. लेकिन यदि वे इसे दूसरों के साथ बांटने का निर्णय लेते हैं तो वह पवित्र भोजन बना जाता है.

कोई भी ईश्वर की सीमाओं और हदों को नहीं जान पाया है.

guru nanak quotes,
sikh quotes in hindi,
guru nanak quotes in hindi,
waheguru status in hindi,
guru nanak hindi quotes,
guru granth sahib quotes about life in hindi
guru granth sahib quotes,

गुरु के भजन गाते हुए, मैं, गवैया भगवान की महिमा फैलाता गया। नानक सतनाम का गुणगान करते हुए मैंने सिद्ध ईश्वर को प्राप्त किया.

ओछी बुद्धि से, चित्त ओछा हो जाता है, और व्यक्ति मिठाई के साथ मक्खी भी खाता है।

आपकी सद्भावना ही मेरी सामाजिक प्रतिष्ठा है.

अपने घर में शांति से निवास करने वालों का यमदूत भी बाल बांका नहीं कर सकता.

दुनिया में किसी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिये. बिना गुरु कोई भी दुसरे किनारे को पार नहीं कर सकता.

मैं न तो बच्चा, न जवान, और न ही पुराना हूँ; न ही मैं किसी भी जाति का हूँ.

guru nanak dev ji quotes,
guru nanak quotes,
waheguru quotes in hindi
guru nanak dev ji quotes,
guru granth sahib quotes in hindi,
guru nanak quotes hindi,

धार्मिक वही है जो सभी लोगों का समान रूप से सम्मान करे.

कोई भी उसको तर्क से नहीं समझ सकता, चाहे वह तर्क करने में कई जीवन लगा दे.

प्रियजनों! मौत भी बुरी नहीं कहलायेगी, यदि व्यक्ति जनता हो कि सही मायने में कैसे मरते हैं.

मैं जन्मा नहीं हूँ, मेरे लिए कोई भी कैसे मर सकता है या जन्म ले सकता है?

दुनिया सपने में रचा हुआ एक ड्रामा है.

जो लोग प्रेम में सराबोर रहते हैं, उन्हें भगवान मिलते हैं.

मैं न तो पुरुष और न ही महिला हूँ, न ही मैं नपुंसक हूँ. मैं एक अमनपसंद हूँ, जिसका रूप स्वत: देदीप्यमान, शक्तिशाली कांति है.

भगवान के लिए खुशी के गीत गाओ, प्रभु के नाम की सेवा करो, और उसके सेवकों के सेवक बन जाओ.

Leave a Comment