Ghar par shayari -घर स्टेटस Facebook – घर Status Whatsapp- Ghar whatsapp status in hindi

हर एक इंसान की तमन्ना होती हैं एक खुबसूरत घर की. जो प्यार-मोहब्बत, सच्चाई व इमानदारी की नीव पर बनाया गया हो. घर के अंदर मोहब्बत की खुशबु बिखरी हो. ऐसे घर की आरजू हर एक को होती हैं.

आज उसी घर पर बनी शायरी के एक अच्छा लेकर हाज़िर है .. जिसे जाने-माने विश्व प्रसिद्ध शायरों द्वारा लिखा गया हैं.. यह खास “घर Status, शायरी” का संग्रह हिंदी उर्दू और इंग्लिश में उपलब्ध हैं, इस पोस्ट में.. जो शेर-ओ-शायरी के चाहने वालो को बेहद ही पसंद आएगा.

Advertisements

तो दोस्तों आईये पढ़ते हैं घर स्टेटस Facebook के इस खास आर्टिकल को जो खास आपके लिए हैं.

Ghar whatsapp status in hindi

मुझे अंदाजा था मेरा इन्तजार घर में रहा,
ये हादसा था कि मैं उम्र भर सफ़र में रहा…

कभी तो शाम ढले अपने 🏠 घर गए होते
किसी की आँख में रह कर सँवर गए होते
“बशीर बद्र”

कोई वीरानी सी वीरानी है
दश्त को देख के 🏠 घर याद आया
“मिर्ज़ा ग़ालिब”

बहुत दूर है तुम्हारे घर से हमारे घर का किनारा,
पर हम हवा के हर झोंके से पूछ लेते हैं क्या हाल है तुम्हारा.

घर स्टेटस Facebook – घर Status Whatsapp

काश मेरा घर तेरे घर के बराबर होता
तू ना आती तेरी आहट तो आती.

घर शायरी

घर में झीने रिश्ते मैंने लाखों बार उधड़ते देखे,
चुपके चुपके कर देती है जाने कब तुरपाई अम्मा.

बाबूजी गुज़रे आपस में सब चीज़ें तक़सीम हुईं,
तब, मैं घर में सबसे छोटा था, मेरे हिस्से आई अम्मा.
“आलोक श्रीवास्तव”

बाज़ार जा के ख़ुद का कभी दाम पूछना,
तुम जैसे हर दुकान में सामान हैं बहुत.

आवाज़ बर्तनों की घर में दबी रहे,
बाहर जो सुनने वाले हैं, शैतान हैं बहुत.
“आलोक श्रीवास्तव”

बड़े अनमोल है ये खून के रिश्तें,
इनको तू बेकार ना कर,

मेरा हिस्सा भी तू ले ले मेरे भाई,
घर के आँगन में दीवार ना कर

Bade Anmol Hai Ye Khoon Ke Rishte,
Inako Bekaar Naa Kar.

घर से दूर हैं तो घर की याद आती है
वो बचपना, वो छोटी सी मुहब्बत याद आती है

कभी मन होता है कि भूल जायें सब कुछ मगर
हाथ जलता है जब तवे से, तो माँ की याद आती है

ghar par shayari

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में,
तुम तरस नहीं खाते बस्तियां जलाने में?
“बशीर बद्र”

दीवार क्या गिरी मेरे कच्चे मकान की फ़राज़
लोगों ने मेरे घर से रास्ते बना लिए.

नज़र की चोट जिगर में रहे तो अच्छा है,
ये बात घर की है, घर में रहे तो अच्छा है.
दाग देहलवी

बड़ी चोट खायी है जमाने से पहले,
जरा सोचिये, दिल लगाने से पहले.

मुहब्बत हमारी, नहीं रास आई हमें ,
लगी आग घर को, बसाने से पहले.

घर Status -Ghar Status

ए मौत, जरा पहले आना गरीब के घर,
कफ़न का खर्च दवाओं में निकल गया है.

उस की आँखों में उतर जाने को जी चाहता है
शाम होती है तो घर जाने को जी चाहता है
कफ़ील आज़र अमरोहवी

सुनो, तुम एक बार पुछ लो कि ‘कैसा हुँ,
🏠 घर मेँ पङी सारी दवाईयाँ ना फेँक दुँ तो कहना.

मौत न आई तो ‘अल्वी’
छुट्टी में घर जाएँगे
मोहम्मद अल्वी

काश मेरा घर तेरे घर के सामने होता
इश्क ना सही दीदार तो होता..

घर स्टेटस Facebook

हसीना ने मस्जिद के सामने घर क्या खरीदा ,
पल भर में सारा जहां नमाज़ी हो गया.

ये सर्द रात ये तन्हाईयाँ ये नींद का भारीपन ,
हम अपने शहर में होते तो अपने घर गए होते.

घर स्टेटस Facebook – घर Status Whatsapp

शहर भर में मजदूर जैसे दर-बदर कोई न था,
जिन्होंने सबका घर बनाया, उसका घर कोई न था.

अखबार तो रोज़ आता है घर में,
बस अपनों की ख़बर नहीं मिलती .

घर की खूबसूरती मकान की बनावट से नहीं,
वहा रहने वालो से होती हैं..

आज भी मेरी नजरे घर के दरवाज़े पर टिकी हैं,
की तुम जरुर आओगे.

रात में घर का दरवाज़ा खुला रखती हूँ,
काश कोई लुटेरा आये और मेरे ग़मों को लुट ले जाए.

ये घर खाली सा लगता हैं,
जब तुम्हारी याद ना होती..

घर शायरी

मोहब्बत मुक्म्मल न हो तो ही अच्छा हैं
वरना महबूब के घर झाङू पोंछा करना पङता

ना कुछ पाने की आशा ना कुछ खोने का डर,
बस अपनी ही धुन, बस अपने सपनो का घर,
काश मिल जाए फिर मुझे वो बचपन का दुपहर .

.

सुना है कि उसने खरीद लिया है करोड़ो का घर शहर में,
मगर आँगन दिखाने वो आज भी बच्चों को गाँव ले जाता है.

दुनियाँ भर की यादें हम से रुबरु होती है,
शाम ढले इस सूने घर में मेला सा लगता है..

एक ही खाब देखा है हर बार मैंने
तेरी साडी में उलझी हो चाबियां मेरे घर की

ठहाके छोड़ आये हैं उन कच्चे घरों मे हम,
रिवाज़ इन पक्के मकानों में केवल मुस्कुराने का है..

जिन्न मुझे अपने उस वक़्त नज़र आए
जिस वक़्त मेरा बेटा घर पी के शराब आया.

घर Status Whatsapp

उलझी शाम को पाने की ज़िद न कीजिये
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद कीजिये

इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है,
घर तो बड़ा है पर इंसान कम नजर आते हैं

घर शायरी

दिल मे घर बना कर बैठे है ये जो ज़िद्दी से खाब ,
कागज पे उतार मै उन सारे मेहमान को ले आऊँ.

घर Status FB

क्या शहर क्या गांव, सब बदलने लगे,
एक घर में ही कई चूल्हे जलने लगे.

घर अपना बना लेते हैं, जो दिल में हमारे,
हमसे वो परिंदे, उड़ाये नहीं जाते..

चले हैं घर से बाहर तो धूप से भी जूझना होगा,
सफ़र मे हर जगह घने बरगद नही मिलते.

‘कैफ़’ परदेस में मत याद करो अपना मकाँ
अब के बारिश ने उसे तोड़ गिराया होगा –
“कैफ़ भोपाली”

दर-ब-दर ठोकरें खाईं तो ये मालूम हुआ
घर किसे कहते हैं क्या चीज़ है बे-घर होना
“सलीम अहमद”

घर Status

अब तक न ख़बर थी मुझे उजड़े हुए घर की
वो आए तो घर बे-सर-ओ-सामाँ नज़र आया
“जोश मलीहाबादी”

बारिश का इंतज़ार कितनी सिद्दत से करता है किसान,
मालूम है उसे जबकि उसका घर मिट्टी का है

एक मकान तब तक घर नहीं बन सकता
जब तक उसमे दिमाग और शरीर दोनों के लिए भोजन और भभक ना हो
“बेंजामिन फ्रैंकलिन”

कोई भी घर में समझता न था मिरे दुख सुख
एक अजनबी की तरह मैं ख़ुद अपने घर में था
“राजेन्द्र मनचंदा बानी”

.

हम ने घर की सलामती के लिए
ख़ुद को घर से निकाल रक्खा है
“अज़हर अदीब”

Ham Ne Ghar Ki Salamati Ke Liye
Khud Ko Ghar Se Nikal Rakkha Hai.

अकेला उस को न छोड़ा जो घर से निकला वो
हर इक बहाने से मैं उस सनम के साथ रहा
“नज़ीर अकबराबादी”

अब घर भी नहीं 🏠 घर की तमन्ना भी नहीं है
मुद्दत हुई सोचा था कि घर जाएँगे इक दिन
“साक़ी फ़ारुक़ी”

घर की तामीर तसव्वुर ही में हो सकती है
अपने नक़्शे के मुताबिक़ ये ज़मीं कुछ कम है
“शहरयार”

घर Status Whatsapp

बोल मीठे ना हों तो हिचकियाँ भी कम आती
घर बड़ा हो या छोटा
अगर मिठास ना होंतो इंसान क्या
चींटियां भी कम आती

एसा घर तक साथ रहेगा और परिवार
श्मशान तक जबकि कर्म और धर्म इस के
साथ परलोक में साथ रहेगा

सब कुछ तो है क्या ढूँडती रहती हैं निगाहें
क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यूँ नहीं जाता
“निदा फ़ाज़ली”

घर स्टेटस Facebook

पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है
अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं
“निदा फ़ाज़ली”

घर स्टेटस Facebook

किस से पूछूँ कि कहाँ गुम हूँ कई बरसों से
हर जगह ढूँढता फिरता है मुझे घर मेरा
“निदा फ़ाज़ली”

तमाम रिश्तों को मैं घर पे छोड़ आया था,
फिर उस के बाद मुझे कोई अजनबी नहीं मिला।
“बशीर बद्र”

कभी तो शाम ढले अपने घर गए होते
किसी की आँख में रह कर सँवर गए होते |

कोई वादा खुद से, निभाओ तो सही..
कभी खुद से खुद को, मिलवाओ तो सही..
तल्खियां लेकर, रोज लोटते हो..
कभी मुस्कुराहटें भी घर, लाओ तो सही..


रौनके भी होगी, महफिलें भी सजेगी..
कभी अपने आशियाने को, सजाओ तो सही..
खिल उठेगी, दिल की हर दर ओ दीवार..

कभी च़राग सा खुद को, जलाओ तो सही..
फांसले भी घटेंगे, नजदीकियां भी बढेगी..
कभी एक कदम ईमानदारी का, बढाओ तो सही..खुशियां इतनी मिलेगी, दामन छोटा लगेगा..
कभी अपनो के आगे, झोली फैलाओ तो सही..
बहता हुआ मिलेगा, प्यार का समंदर..
कभी प्यासे रहकर…घर आओ तो सही..

कभी तो शाम ढले अपने घर गए होते किसी की आँख में रह कर सँवर गए होते |
.पता अब तक नहीं बदला हमारापता अब तक नहीं बदला हमारा

पता अब तक नहीं बदला हमारा वही घर है वही क़िस्सा हमारा |
मैं जिस मकान में रहता हूँ उस को घर कर दे – Ghar shayari

Ghar Status in English

🏠 Home wasn’t built in a day.
“Jane Sherwood Ace”


Peace, that was the other name for 🏠 Home.
“Kathleen Norris”


Seek home for rest, for 🏠 Home is best.
“Thomas Tusser”

God is at 🏠 Home,
it’s we who have gone out for a walk.
“Meister Eckhart”

Love begins by taking care of the closest ones,
the ones at 🏠 Home.
“Mother Teresa”


Charity begins at 🏠 Home,
but should not end there.
“Thomas Fuller”

✫☆ 49
A man’s 🏠 Home is his wife’s castle.
“Alexander Chase”


🏠 Home is a shelter from storms-all sorts of storms.
“William J. Bennett”


Coming 🏠 Home to my family
afterward makes the work richer,
easier and more fun.
“Edie Falco”


Don’t leave 🏠 Home without your sword,
your intellect


There is nothing more important than a good,
safe, secure 🏠 Home


🏠 Home is where our story begins


I love cats because I enjoy my 🏠 Home,
and little by little,
they become its visible soul.
“Jean Cocteau”


Well, sometimes 🏠 Home is a person.
Beth Revis


Where thou art, that is 🏠 Home.
“Emily Dickinson”