Pollution essay in Hindi | प्रदूषण पर निबंध

Short Essay on Pollution in Hindi

हानिकारक तत्वों या प्रदूषकों के वातावरण में मिश्रण को प्रदूषण कहा जाता है। जब यह प्रदूषक हमारे प्राकृतिक संसाधनो में मिल जाते है तब इसके कई सारे नकरात्मक प्रभाव उत्पन्न होते है। प्रदूषण मुख्यतः मानवीय गतिविधियों से उत्पन्न होते है और यह हमारे पूरे तंत्र को प्रभावित करता है। प्रदूषण के कारण उत्पन्न होने वाले प्रभावों से मनुष्यों में छोटी बीमारियों से लेकर अस्तित्व संकट तक जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती है।

जब भी गर्मी की छुट्टियों में पहाड़ो पर जाते हैं तो हर जगह हरियाली ही हरियाली फैली होती है । हरे-भरे बाग-बगिचों में खेलना बहुत अच्छा लगता है । चिड़ियों की चहचहाहट सुनना बहुत अच्छा लगता है शहरों में वैसा दृश्य कहीं दिखाई नहीं देता।

आजकल के बच्चों के लिए ऐसे दृश्य केवल सालाना सैर सपाटों तक ही सीमित रह गये हैं। ज़रा सोचिए ऐसा क्यों हुआ। पेड़-पौधे, पशु-पक्षी, मनुष्य, जल, वायु, आदि सभी जैविक और अजैविक घटक मिलकर पर्यावरण का निर्माण करते हैं। सभी का पर्यावरण में विशेष स्थान है।

Advertisements

Pollution Hindi essay

प्रदूषण

प्रदूषण का अर्थ

इंसानो ने अपने स्वार्थ के लिए पेड़ो की अन्धाधुंध कटाई की है। जिस कारण पर्यावरण असंतुलित हो गया है। प्रदूषण भी इस असंतुलन का मुख्य कारण है।

प्रदूषण क्या है ?

जब वायु, जल, मृदा आदि में हानिकारक तत्व घुलकर उसे इस हद तक गंदा कर देते है, कि स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर डालने लगे तो उसे प्रदूषण कहते हैं। प्रदूषण से प्रकृति में असंतुलन पैदा होता है। साथ ही यह मानव जीवन के लिए भी खतरनाक है।

मनुष्य की जिम्मेदारी है कि उसने जितनी नासमझी से प्राकृतिक संसाधनों का दोहन कर पर्यावरण को नुकसान पहुँचाया है, अब उतनी ही समझदारी से प्रदूषण की समस्या को सुलझाये। पेड़ो की अंधाधुंध कटाई भी प्रदूषण के कारको में शामिल है। अधिक से अधिक वृक्षारोपण कर इस पर काबू पाया जा सकता है। इसी तरह कई उपाय हैं, जिन्हें अपनाकर प्रदूषण कम करने के प्रयास किए जा सकते हैं।

अगर हमें अपनी आने वाले पीढ़ी को एक साफ, सुरक्षित पर्यावरण देना है, तो इस दिशा में हर देशो को कठोर कदम उठाने होंगे। और प्रदूषण पर नियंत्रण पाना सिर्फ भारत में ही नहीं, अपितु सम्पूर्ण पृथ्वी के लिए आवश्यक है। ताकि सम्पूर्ण पृथ्वी पर जीवन रह सके।

Pollution Hindi essay in 500 words

हमें पहले यह जानना जरुरी है कि मनुष्यो की किन गतिविधियों से प्रदूषण दिन पर दिन बढ़ रहा है और पर्यावरण में असंतुलन फैला रहा है।

पहले मेरे गांव में ढ़ेर सारे तालाब हुआ करते थे, किन्तु अब एक भी नहीं है। आज मैले कपड़ो को धोकर, जानवरों को नहलाकर, घरों का दूषित और अपशिष्ट जल, कूड़ा-कचरा आदि तालाबों में फेंककर इसे गंदा कर दिया है। अब उसका जल कहीं से भी स्नान करने और न ही पीने योग्य रह गया है। इसका अस्तित्व समाप्ति की कगार पर है

प्रदूषण के प्रकार

वातावरण में मुख्यतः चार प्रकार के प्रदूषण हैं –

जल प्रदूषण

घरों से निकलता दूषित पानी बहकर नदियों में जाता है। कल-कारखानों के कूड़े-कचरे एवं अपशिष्ट पदार्थ भी नदियों में ही छोड़ा जाता है। कृषि में उपयुक्त उर्वरक और कीट-नाशक से भूमिगत जल प्रदूषित होता है।

जल प्रदूषण से डायरिया, पीलिया, टाइफाइड, हैजा आदि खतरनाक बीमारियाँ होती है।

वायु प्रदूषण

कारखानों की चिमनी और वाहनों से निकलते धुएँ में कार्बन मोनो ऑक्साइड, ग्रीन हाउस गैसें जैसै कार्बन डाई ऑक्साइड, मिथेन, क्लोरो-फ्लोरो कार्बन आदि जैसी खतरनाक गैसें निकलती हैं। ये सभी गैसें वायुमंडल को भारी नुकसान पहुंचाती हैं।

इससे हमारे सेहत पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। दमा, खसरा, टी.बी. डिप्थीरिया, इंफ्लूएंजा आदि रोग वायु प्रदूषण का ही कारण हैं।

ध्वनि प्रदूषण

मनुष्य के सुनने की भी एक क्षमता होती है, उससे ऊपर की सारी ध्वनियां उसे बहरा बनाने के लिए काफी हैं। मशीनों की तीव्र आवाज, ऑटोमोबाइल्स से निकलती तेज़ आवाज, जो हमारे स्वास्थ्य पर बुरा असर डालती है। इनसे होने वाला प्रदूषण ध्वनि प्रदूषण कहलाता है। इससे पागलपन, चिड़चिड़ापन, बेचैनी, बहरापन आदि समस्याएं होती है।

मृदा प्रदूषण

खेती में अत्यधिक मात्रा में उर्वरकों और कीट-नाशकों के प्रयोग से मृदा प्रदूषण होता है। साथ ही प्रदूषित मिट्टी में उपजे अन्न खाकर मनुष्यों एवं अन्य जीव-जंतुओं के सेहत पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसकी सतह पर बहने वाले जल में भी यह प्रदूषण फैल जाता है।

प्रदूषण को रोकना अति आवश्यक है । पर्यावरण प्रदूषण आज की बड़ी समस्या है, इसे यदि वक़्त पर नहीं रोका गया तो हमारा नाश होने से कोई भी नहीं बचा सकता। पृथ्वी पर उपस्थित मानव सहित कोई भी प्राणी इसके प्रभाव से अछूता नहीं रह सकता। पेड़-पौधे, पशु-पक्षी आदि सभी का जीवन हमारे कारण खतरे में पड़ा है। इनके जीवन की रक्षा भी हमें ही करनी है। इनके अस्तित्व से ही हमारा अस्तित्व संभव है।

pradhushan nibandh in 500 words

प्रदूषण निबंध ( 500 शब्द)

2019 में दीवाली के कुछ दिन बाद ही राजधानी दिल्ली में पॉल्यूशन हॉलीडे हुआ। , दिल्ली सरकार को पॉल्यूशन के कारण विद्यालय बंद कराना पड़ा। कितने दुःख की बात है।अपने देश में ऐसी नौबत आ गयी है ।

पर्यावरणीय प्रदूषण आज के समय की सबसे बड़ी दिक्कत या समस्या है। विज्ञान के विकास ने हमारे जीवन को सरल तो बनाया है, साथ ही कुछ क्षेत्रों में प्रदूषण बढ़ाने में भी योगदान दिया है। मनुष्य ने अपने लाभ के लिए प्रकृति से बहुत दोहन किया है। प्रकृति का अपना नियम है, सभी जीव-जंतु उसी नियम के हिसाब से अपना-अपना जीवन-चक्र चलाते हैं, किंतु हम मनुष्यों ने इससे पर्याप्त छेड़-छाड़ किया है, जिससे प्रकृति का संतुलन बिगड़ गया है।

प्रदूषण के मुख्य कारण

प्रदूषण के मुख्य कारण निम्नलिखित हैं –

वनों की कटाई

बढ़ती जनसंख्या एक महत्वपूर्ण कारण हैं, जिस कारण लगातार वनों को काटा गया है। पर्यावरण प्रदूषण से एक निर्वनीकरण है। वृक्ष ही वातावरण को शुध्द करते हैं। वनोन्मूलन के कारण ही वातावरण में ग्रीन-हाउस गैसों की अधिकता हो रही है। जिसके दुष्परिणाम ग्लोबल-वार्मिग के रूप में प्रकट हो रही है। पेड़ ही पर्यावरण में मौजूद कार्बन डाइआऑक्साइड को अवशोषित करते हैं और आक्सीजन का उत्सर्जन करते हैं।

उद्योग-धंधे

भोपाल गैस त्रासदी अमेरिकी कंपनी यूनियन कार्बाइड कारखाने में कीटनाशक रसायन को बनाने के लिए मिक गैस का उत्पादन होता था। इस गैस संयंत्र के कारखाने में 2-3 दिसंबर 1984 को जहरीली मिक गैस(मिथाइल आइसो सायनाइड) के रिसाव के कारण कुछ ही घंटो में करीबन 2500 लोगो की जान चली गयी थी। और हजारों घायल हुए थे। हजारों जानवरो की मृत्यु हो गयी थी। इस घटना को भोपाल गैस त्रासदी के नाम से जाना जाता है।

इस घटना की चर्चा जरुरी है क्योंकि यह औद्योगिकीकरण के कारण हुए प्रदूषण का उदाहरण है। इसी प्रकार 6 से 9 अगस्त, 1945 में जापान के हिरोशिमा और नागासाकी में किए गए एटॉमिक बम अटैक के कारण हुए भयंकर परिणाम पूरी दुनिया जानती है। उसके कारण हुआ वायु-प्रदूषण से जापान आज तक उबर नहीं पाया है। विनाशकारी गैसों का समुह वायु-मंडल में समा गया था ।

Pollution essay in hindi for class 7

वैज्ञानिकों की माने तो औद्योगिकीकरण के नाम पर बीते 100 सालों में कई लाख टन कार्बन डाइआऑक्साइड वायुमंडल में छोड़ी गयी है, जिस कारण हमारी पृथ्वी का तापमान बढ़ा है। मौसम में तब्दीलियां भी प्रदुषण के कारण हो रही हैं, जैसे अत्यधिक गर्मी, बाढ़, सूखा, अम्लीय वर्षा, बर्फ का पिघलना, समुद्र के जल-स्तर में वृध्दि होना आदि। अकेले अमेरिका विश्व का लगभग 21% कार्बन वायुमंडल में उत्सर्जित करता है।

निष्कर्ष

प्रदूषण आज पुरे विश्व का चिंता बन चुका है। प्रदूषण के कारण प्रकृति की स्तिथि दिन पर दिन बद से बदतर होती जा रही है। चूँकि पूरा विश्व इसके प्रति गंभीर है। लोगों में जागरुकता फैलाने के लिए हर साल पर्यावरण दिवस, जल दिवस, ओजोन दिवस, पृथ्वी दिवस, जैव विविधता दिवस आदि मनाये जाते है। समय-समय पर पर्यावरण के संरक्षण के लिए स्कॉटहोम सम्मेलन, मॉट्रियल समझौता आदि होता रहा है।