Advertisements

Dr kumar vishwas shayari in hindi – डॉ कुमार विश्वास शायरी

दोस्तो आज का पोस्ट dr kumar vishwas shayari in hindi – डॉ कुमार विश्वास शायरी है और इस पोस्ट मे आप कुमार विश्वास शायरी पढ़ सकते है डा0 कुमार विश्वास की एक से बढ कर एक शायरियां और कविताओं की चंद लाइनों को जो आप को दिवाना बना देगी.

डॉ. कुमार विश्वास एक महान हिंदी कवि (dr kumar vishwas shayari in hindi ) है इसके अलावा यह राजनैतिक कार्यकर्ता भी है कुमार विश्वास का जन्म 0 फ़रवरी 1970 में पिलखुआ, ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश में हुआ था 

kumar vishwas poetry – koi deewana kehta hai

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
,मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है
.मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है.

पनाहों में जो आया हो, उस पर वार क्या करना
जो दिल हारा हुआ हो,
उस पे फिर से अधिकार क्या करना
मोहब्बत का मज़ा तो,
डूबने की कशमकश में है.
जो हो मालूम गहरायी, तो दरिया पार क्या करना.

Panahon Main Jo Aaya Ho,
Us Par War Kya Karna
Jo Dil Hara Hua Ho,
Us Par Adhikar Kya Karna
Mohabbt Ka Maza To Dubne Ki
Kashmkash Main Hain
Jo Ho Malum Gahraayi,
To Dariya Paar Kya Karna.

मेरे जीने मरने में,
तुम्हारा नाम आएगा.
मैं सांस रोक लू फिर भी,
यही इलज़ाम आएगा.
हर एक धड़कन में जब तुम हो,
तो फिर अपराध क्या मेरा,
अगर राधा पुकारेंगी,
तो घनश्याम आएगा.

Mere jeene marne main,
Tumhara naam aayega.
Main saans rok lu phir bhi,
Yahi ilzaam aayegaa.
Har ek dhdkan main jab tum ho,
To phir apradh kya mera.
Agar Radha pukarengi,
To Ghanshyam aayega.

kumar vishwas shayari,
kumar vishwas poem,
dr kumar vishwas shayari in hindi
kumar viswas shayri,
kumar vishwas shayari in hindi,
kumar vishwas latest shayari,
shayari of kumar vishwas,
kumar vishwas ki shayari,
kumar vishwas love shayari,
कुमार विश्वास शायरी,
kumar vishwas poetry,
kumar vishwas shayari lyrics
kumar vishwas love shayari in hindi,
kumar vishwas shayari in hindi free download,
kumar vishwas hindi shayari,
shayari kumar vishwas,
kumar vishvas shayari,
kumar vishwas lyrics in hindi,
kumar viswas shayari,
dr kumar vishwas shayari in hindi free download,
kumar vishwas shayari in hindi font,
kumar vishwas all shayari,
kumar vishwas shayri in hindi,
kumar vishvas shayri,
kumar vishwas best shayari,
shayari by kumar vishwas,
कुमार विश्वास की शायरी,
dr. kumar vishwas shayari,
kumar vishwas poems lyrics in hindi,
kumar vishwas poetry in hindi,
kumar vishwas quotes,
kumar vishwas poem list,
shayri of kumar vishwas,
dr kumar vishwas poems in hindi,
kumar vishwas poem lyrics in hindi,
kumar vishwas lyrics,
kumar vishwas poem in hindi,
dr kumar vishwas shayari in hindi font,
kumar vishwas kavita,
kumar visvas shayri,
kumar vishwas shayari in hindi language,
shayari of kumar vishwas in hindi,
kumar vishwas shayari hindi,
vishwas kumar shayari,
poem of kumar vishwas in hindi,
kumar vishwas quotes in hindi,
shayari kumar vishwas in hindi,
kumar vishwas poem lyrics,
kumar vishwas latest poems,
dr kumar vishwas shayari,
dr vishwas kumar shayari,
dr kumar vishwas poems,
download kumar vishwas shayari,
kumar vishwas famous poem,
kumar vishwas poems,
kumar vishwas all poems lyrics,
dr kumar vishwas shayari download,
kumar vishwas shayari video,
dr kumar vishwas poetry,
kumar vishwas kavita lyrics in hindi,
www kumar vishwas shayari,
kumar vishwas shayari in hindi mp3,
kumar vishwas shayari free download,
kumar vishwas all poems,
lyrics of kumar vishwas,
kumar vishwas poems lyrics,
dr kumar vishwas kavita,
kumar vishwas hindi poem,
kumar vishwas best poem,
kumar vishwas shayari download,
dr kumar vishwas shayari free mp3 download,
dr kumar vishwas shayari mp3 download,
vishwas status in hindi,
vishwas shayari in hindi,
कुमार विश्वास की कविता डाउनलोड,
poem of kumar vishwas in hindi,
kumar vishwas kavita in hindi,
kumar vishwas poem in hindi pdf,
kumar vishvas poem,
vishwas status hindi,
vishwas shayri in hindi,
kumar vishwas all poem,
kumar vishwas kavita lyrics,
mp3 shayari of kumar vishwas,
visvas shayri,
romantic poems in hindi by kumar vishwas,
dr kumar viswas poem,
kavita of kumar vishwas,
kumar vishvas kavita,
kumar viswas ki kavita,
kumar vishwas shayari mp3,
kumar viswas poem in hindi,
vishwas shayri,
dr kumar vishwas shayari free download,
poem by kumar vishwas,
kumar vishwas hindi kavita,
best of kumar vishwas,
विश्वास शायरी,
kumar viswas kavita,
kumar viswas poetry,
kumar vishwas latest poem,
poem of kumar vishwas,
shayari on vishwas,
kumar vishwas ghazal,
vishwas shayari,
vishwas ki shayari,
kumar vishwas poems lyrics in hindi pdf,
biswas shayari in hindi,
hindi kavita kumar vishwas,
vishwas status,
kumar vishwas new poem,
shayari vishwas ki,
kumar vishwas shayari video free download,
vishwas kumar poem,
vishwas shayari hindi,
vishwas shayari sms hindi,
kumar vishwas gazal,
vishwas sms in hindi,
latest poem of kumar vishwas,
dr.kumar vishwas kavita,
poem of dr kumar vishwas,
कुमार विश्वास mp3,
kumar vishwas love story,
tum bin imdb,
kumar vishwas shayari in hindi mp3,
kumar vishwas ki kavita in hindi,
famous shayri,
kumar vishwas ki kavita,

कहीं पर जग लिए तुम बिन,
कहीं पर सो लिए तुम बिन.
भरी महफिल में भी अक्सर,
अकेले हो लिए तुम बिन
ये पिछले चंद वर्षों की कमाई साथ है अपने
कभी तो हंस लिए तुम बिन, कभी तो रो लिए तुम बिन.

Kahi par jag liye tum bin,
kahi par so liye tum bin
Bhari mahfil main bhi aksar,
Akele ho liye tum bin
Ye pichle chand varshon ki,
kamai saath hain apne
Kabhi to hans liye tum bin,
Kabhi to ro liye tum bin.

गिरेबां चाक करना क्या है,
सीना और मुश्किल है.
हर एक पल मुस्कुरा के,
अश्क पीना और मुश्किल है.
हमारी बदनसीबी ने,
हमें इतना सीखाया है.
किसी के इश्क में मरने से,
जीना और मुश्किल है.

Girebaan chaak karna kya hain,
Seena aur mushkil hain
Har ek pal muskura ke,
Ashq peena aur mushkil hain
Humari badnaseebee ne,
Hume itna shikhaya hain
Kisi ke ishq main marne se,
Jeena aur mushkil hain.

यह चादर सुख की मोल क्यू,
सदा छोटी बनाता है.
सीरा कोई भी थामो,
दूसरा खुद छुट जाता है.
तुम्हारे साथ था तो मैं,
जमाने भर में रुसवा था.
मगर अब तुम नहीं हो तो,
ज़माना साथ गाता है.

Yah chadar sukh ki mola kyu,
Sada choti banata hain.
Seera koi bhi thamo,
Dusra khud chut jaata hain.
Tumhare saath tha to main,
zamaane bhar main ruswa tha.
Magar ab tum nahi ho to,
Zamana sath gata hain.

कोई कब तक महज सोचे,
कोई कब तक महज गाए.
ईलाही क्या ये मुमकिन है कि
कुछ ऐसा भी हो जाऐ.
मेरा मेहताब उसकी रात के
आगोश मे पिघले
मैँ उसकी नीँद मेँ जागूँ
वो मुझमे घुल के सो जाऐ.

Koi kab tak mahaz soche,
Koi kab tak mahaz gaaye.
Llaahi kya ye mumkin hai ki,
Kuchh aesa bhi ho jaaye.
Mera mehtaab uski raat ke,
Aagosh mein pighale.
Main uski neend mein jaagun,
Wo mujhme ghul ke so jaaye

तुझ को गुरुर ए हुस्न है
मुझ को सुरूर ए फ़न.
दोनों को खुद पसंदगी की
लत बुरी भी है.
तुझ में छुपा के खुद को
मैं रख दूँ मग़र मुझे.
कुछ रख के भूल जाने की
आदत बुरी भी है.

हर इक खोने में हर इक पाने में
तेरी याद आती है
नमक आँखों में घुल जाने में तेरी याद आती है.
तेरी अमृत भरी लहरों को क्या मालूम गंगा माँ
समंदर पार वीराने में तेरी याद आती है.

घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे
देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा ?
मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है
दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा.

dr kumar vishwas shayari in hindi free download

सखियों संग रंगने की धमकी सुनकर
क्या डर जाऊँगा?
तेरी गली में क्या होगा ये मालूम है पर आऊँगा,
भींग रही है काया सारी खजुराहो की मूरत सी,
इस दर्शन का और प्रदर्शन मत करना, मर जाऊँगा.

उम्मीदों का फटा पैरहन,
रोज़-रोज़ सिलना पड़ता है,
तुम से मिलने की कोशिश में,
किस-किस से मिलना पड़ता है.

घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे,
देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा ?
मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है,
दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा .

हिम्मत ए रौशनी बढ़ जाती है,
हम चिरागों की इन हवाओं से,
कोई तो जा के बता दे उस को,
चैन बढता है बद्दुआओं से.

अजब है कायदा दुनिया ए इश्क का मौला
फूल मुरझाये तब उस पर निखार आता है
अजीब बात है तबियत ख़राब है जब से
मुझ को तुम पे कुछ ज्यादा प्यार आता है.

तुम्हारा ख़्वाब जैसे ग़म को अपनाने से डरता है
हमारी आखँ का आँसूं , ख़ुशी पाने से डरता है
अज़ब है लज़्ज़ते ग़म भी, जो मेरा दिल अभी कल तक़
तेरे जाने से डरता था वो अब आने से डरता है.

बस्ती – बस्ती घोर उदासी,
पर्वत – पर्वत सुनापन.
मन हीरा बेमोल लुट गया,
घिस -घिस रीता मन चंदन.
इस धरती से उस अम्बर तक,
दो ही चीज़ गजब की है.
एक तो तेरा भोलापन है,
एक मेरा दीवानापन.

समंदर पीर का अन्दर है,
लेकिन रो नहीं सकता
यह आंसू प्यार का मोती है,
इसको खो नहीं सकता.
मेरी चाहत को दुल्हन तू,
बना लेना मगर सुन ले.
जो मेरा हो नहीं पाया,
वो तेरा हो नहीं सकता.

स्वयं से दूर हो तुम भी, स्वयं से दूर है हम भी
बहुत मशहुर हो तुम भी, बहुत मशहुर है हम भी
बड़े मगरूर हो तुम भी, बड़े मगरूर है हम भी
अत : मजबुर हो तुम भी, अत : मजबुर है हम भी.

dr kumar vishwas shayari in hindi font

हमारे शेर सुनकर भी जो खामोश इतना है,
खुदा जाने गुरुर ए हुस्न में मदहोश कितना है.
किसी प्याले से पूछा है सुराही ने सबब मय का,
जो खुद बेहोश हो वो क्या बताये होश कितना है.

ना पाने की खुशी है कुछ,
ना खोने का ही कुछ गम है.
ये दौलत और शोहरत सिर्फ,
कुछ ज़ख्मों का मरहम है.
अजब सी कशमकश है,
रोज़ जीने, रोज़ मरने में.
मुक्कमल ज़िन्दगी तो है,
मगर पूरी से कुछ कम है.

kumar vishwaas,
dr kumar vishwas facebook,
dr kumar vishwas shayari in hindi,
कुमार विश्वास की कविता,
vishwas shayari image,
koi deewana kehta hai lyrics in hindi font,
famous shayari in hindi,
shayari of,
tum ho toh gaata hai dil mp3 free download,
is dharti se us ambar tak lyrics,
kumar vishwas ki kavita free download,
कुमार विश्वास कविता,
dr kumar vishwas latest,
political shayari in hindi font,
poems of kumar vishwas mp3,
dr vishwas kumar shayari video,
विश्वास पर शायरी,
kumar vishwas latest,
kavita kumar vishwas,
kumar vishwas mp3 collection,
dr kumar vishwas,
kumar vishwas facebook,
hindi famous shayari,
kumar vishwas holi kavita,
kumar vishwas in hindi,
doctor kumar vishwas,
famous shayari,
shero shayari on doctors,
kumar vishwas new,
dr.kumar vishwas,
vishwas kumar,
dr. kumar vishwas,
famous shayari of famous shayar,
kumarvishwas,
kumar vishwas latest kavita,
kumar biswas,
vishwas quotes in hindi,
डॉ कुमार विश्वास,
koi pagal samajhta hai lyrics,
kumar vishwas books pdf,
kumar vishwas shayari koi deewana kehta hai lyrics,
tum bin 2 line shayri,
kavi kumar vishwas kavita,
kavi kumar vishwas ki kavita,
kumar vis,
dr kumar vishwas ki kavita,
kumar visvas,
dr vishwas kumar,
dr kumar vishwas poetry download,
latest kumar vishwas,
kumar vishwas comedy,
famous sher,
kumar vishwas wife,
famous shayari on love,
all shayri,
vishwas quotes,
dr kumar vishwas wife,
राजनीति शायरी,
vishwas in hindi,
kumar vishwas education,
kumar vishwas wikipedia,
dr kumar vishvas,
kumar viswas comedy,
magroor meaning in hindi,
basti basti ghor udasi,
kumar vishwas ki kavita download,
sher shayari judai,
kumar vishwas book,
kumar viswas,
tere bin shayri,
tum bin shayari,
gandi shayari in hindi language,
wife of kumar vishwas,
kumar vishwas kavita video,
dr kumar vishwas kavi,
popular shayari,
विश्वास पर कविता,
ajab gajab shayari hindi,
doctor shayari in hindi,
kumar vishwas new book,
viswasam imdb,
poet kumar vishwas,
लेटेस्ट शायरी,
राजनीतिक शायरी,
kumar vishwas image,
love poetry in hindi language,
hindi gandi shayari,
kavita by kumar vishwas,
tum bin 2 imdb,
dr vishwas,
gandi shayari hindi language,
quotes on vishwas,
gandi sayri,
popular shayari in hindi,
kumar vishwas biography in hindi,
kumar vishwas family,
political sher o shayari in hindi,
famous status,
comedy kumar vishwas,
vishwas kavita,
maa whatsapp status,
all shayri in hindi,
vishvas in hindi,
tere bin shayari,
imdb viswasam,
political shayari in hindi,
kavi sammelan shayari in hindi,
famous love shayari in hindi,
famous love shayari,
famous fb status,
kuhu vishwas,
doctor poem in hindi,
kumar vishwas books,

इस उड़ान पर अब शर्मिंदा,
में भी हूँ और तू भी है.
आसमान से गिरा परिंदा,
में भी हूँ और तू भी है.
छुट गयी रस्ते में,
जीने मरने की सारी कसमे.
अपने – अपने हाल में जिंदा,
में भी हूँ और तू भी है.

तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है,
समझता हूँ.
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है,
समझता हूँ.
तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये
मुमकिन है नहीं लेकिन.
तुम्हीं को भूलना सबसे जरूरी है,
समझता हूँ.

फ़लक पे भोर की दुल्हन यूँ सज के आई है,
ये दिन उगा है या सूरज के घर सगाई है,
अभी भी आते हैं आँसू मेरी कहानी में,
कलम में शुक्र-ए- खुदा है कि रौशनाई है.

क़लम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा,
गिरेबां अपना आँसू में भिगोता हूँ तो हंगामा.
नहीं मुझ पर भी जो खुद की ख़बर वो है ज़माने पर,
मैं हँसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा.

dr kumar vishwas shayari in hindi pdf

भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का
मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा.

वो जिसका तीर चुपके से जिगर के पार होता है
वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है
किसी से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से
यहाँ ख़त भी थोड़ी देर में अखबार होता है.

कोई पत्थर की मूरत है, किसी पत्थर में मूरत है
लो हमने देख ली दुनिया, जो इतनी खुबसूरत है
जमाना अपनी समझे पर, मुझे अपनी खबर यह है
तुझे मेरी जरुरत है, मुझे तेरी जरुरत है.

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
मगर धरती की बैचेनी तो, बस बादल समझता है
मैं तुमसे दूर कितना हु , तू मुझसे दूर कितनी है
ये तेरा दिल समझता है , या मेरा दिल समझता है.

उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे
वो मेरा होने से ज्यादा मुझे पाना चाहे
मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा
ये मुसाफिर तो कोई ठिकाना चाहे.

बदलने को तो इन आखोँ के मंज़र कम नहीं बदले ,
तुम्हारी याद के मौसम,हमारे ग़म नहीं बदले ,
तुम अगले जन्म में हम से मिलोगी,तब तो मानोगी ,
ज़माने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले.

ये वो ही इरादें हैं, ये वो ही तबस्सुम है
हर एक मोहल्लत में, बस दर्द का आलम है
इतनी उदास बातें, इतना उदास लहजा ,
लगता है की तुम को भी, हम सा ही कोई गम है.

ना पाने की खुशी है कुछ,ना खोने का ही कुछ गम है…
ये दौलत और शौहरत सिर्फ कुछ जख्मों का मरहम है…
अजब सी कशमकश है रोज जीने ,रोज मरने में…
मुक्कमल जिंदगी तो है,मगर पूरी से कुछ कम है…”

गिरेबान चेक करना क्या है सीना और मुश्किल है,
हर एक पल मुस्कुराकर अश्क पीना और मुश्किल है,
हमारी बदनसीबी ने हमें बस इतना सिखाया है,
किसी के इश्क़ में मरने से जीना और मुश्किल है.

तुम्ही पे मरता है ये दिल अदावत क्यों नहीं करता
कई जन्मो से बंदी है बगावत क्यों नहीं करता..
कभी तुमसे थी जो वो ही शिकायत हे ज़माने से
मेरी तारीफ़ करता है मोहब्बत क्यों नहीं करता..

मिले हर जख्म को मुस्कान को सीना नहीं आया
अमरता चाहते थे पर ज़हर पीना नहीं आया
तुम्हारी और मेरी दस्ता में फर्क इतना है
मुझे मरना नहीं आया तुम्हे जीना नहीं आया

मेरा अपना तजुर्बा है तुम्हे बतला रहा हूँ मैं
कोई लब छू गया था तब के अब तक गा रहा हु मैं
बिछुड़ के तुम से अब कैसे जिया जाए बिना तड़पे
जो में खुद हे नहीं समझा वही समझा रहा हु मैं..

नज़र में शोखिया लब पर मुहब्बत का तराना है
मेरी उम्मीद की जद़ में अभी सारा जमाना है
कई जीते है दिल के देश पर मालूम है मुझकों
सिकन्दर हूं मुझे इक रोज खाली हाथ जाना है।

मै तेरा ख्वाब जी लून पर लाचारी है,
मेरा गुरूर मेरी ख्वाहिसों पे भरी है…!
सुबह के सुर्ख उजालों से तेरी मांग से,
मेरे सामने तो ये श्याह रात सारी है….!!

सब अपने दिल के राजा है, सबकी कोई रानी है,
भले प्रकाशित हो न हो पर सबकी कोई कहानी है.
बहुत सरल है किसने कितना दर्द सहा,
जिसकी जितनी आँख हँसे है, उतनी पीर पुराणी है.

वो जो खुद में से कम निकलतें हैं
उनके ज़हनों में बम निकलतें हैं
आप में कौन-कौन रहता है
हम में तो सिर्फ हम निकलते हैं।

मेरे जीने में मरने में, तुम्हारा नाम आएगा
मैं सांस रोक लू फिर भी, यही इलज़ाम आएगा
हर एक धड़कन में जब तुम हो, तो फिर अपराध क्या मेरा
अगर राधा पुकारेंगी, तो घनश्याम आएगा

वो जिसका तीरे छुपके से जिगर के पार होता है
वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है
किसी से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से
यहां खत भी जरा सी देर में अखबार होता है।

dr kumar vishwas shayari in hindi free download pdf

मिल गया था जो मुक़द्दर वो खो के निकला हूँ.
में एक लम्हा हु हर बार रो के निकला हूँ.
राह-ए-दुनिया में मुझे कोई भी दुश्वारी नहीं.
में तेरी ज़ुल्फ़ के पेंचो से हो के निकला हूँ .

गाँव-गाँव गाता फिरता हूँ, खुद में मगर बिन गाय हूँ,
तुमने बाँध लिया होता तो खुद में सिमट गया होता मैं,
तुमने छोड़ दिया है तो कितनी दूर निकल आया हूँ मैं…!!
कट न पायी किसी से चाल मेरी, लोग देने लगे मिसाल मेरी…!
मेरे जुम्लूं से काम लेते हैं वो, बंद है जिनसे बोलचाल मेरी…!!

ये दिल बर्बाद करके, इसमें क्यों आबाद रहते हो
कोई कल कह रहा था तुम अल्लाहाबाद रहते हो.
ये कैसे शोहरते मुझे अता कर दी मेरे मौला
में सब कुछ भूल जाता हु मगर तुम याद रहते हो.

जब आता है जीवन में खयालातों का हंगामा
हास्य बातो या जज़्बातो मुलाकातों का हंगामा
जवानी के क़यामत दौर में ये सोचते है सब
ये हंगामे की राते है या है रातो का हंगामा

हमने दुःख के महासिंधु से सुख का मोती बीना है
और उदासी के पंजों से हँसने का सुख छीना है
मान और सम्मान हमें ये याद दिलाते है पल पल
भीतर भीतर मरना है पर बाहर बाहर जीना है।

र एक नदिया के होंठों पे समंदर का तराना है,
यहाँ फरहाद के आगे सदा कोई बहाना है !
वही बातें पुरानी थीं, वही किस्सा पुराना है,
तुम्हारे और मेरे बिच में फिर से जमाना है…!!

कोई खामोश है इतना बहाने भूल आया हु
किसी की एक तरन्नुम में तराने भूल आया हु
मेरी अब राह मत ताकना कभी ऐ आसमा वालो
में एक चिड़िआ की आँखों में उड़ाने भूल आया हु.

पुकारे आँख में चढ़कर तो खू को खू समझता है
अँधेरा किसको कहते है ये बस जुगनू समझता है
हमें तो चाँद तारो में तेरा ही रूप दिखता है
मोहब्बत में नुमाइश को अदाए तू समझता है

मेहफिल-महफ़िल मुस्काना तो पड़ता है,
खुद ही खुद को समझाना तो पड़ता है
उनकी आँखों से होकर दिल जाना.
रस्ते में ये मैखाना तो पड़ता है.

युवा कुमार विश्वास mp3 (Dr Kumar Vishwas Shayari mp3 free download )सुनने के लिए भी लालायित रहता है. इसका सबसे अच्छा तरीका कोई गाने के पोर्टल पर जा सकते हैं.

Leave a Reply

%d bloggers like this: