Advertisements

Depression Shayari in Hindi 2020 – उदासी शायरी 2020

यहाँ हम कुछ डिप्रेशन/अवसाद में लोग कैसा कैसा सोचते है और क्या क्या सोचते है उसके लिए एक शायरी – Depression Shayari in Hindi संग्रह प्रस्तुत कर रहे हैं। उम्मीद है पाठको को इसको पढ़ने में एक एहसास होगा ।

आज की दुनिया में कई व्यक्ति कई दुखों से पीड़ित है. परन्तु प्यार में असफलता सबसे ज्यादा दुःख देता हैं। कई बार बिना किसी कारण ही आदमी दुखी होता है या फिर अधूरा महसूस करता है। आज के समय में डिप्रेशन -अवसाद -depression in hindi बहुत ज्यादा है ।

लोग उसको बाहर बताने में हिचकते हैं। लेकिन बहुत जरूरी है की लोग अपने दिक्कतों और परेशानियों को साझा करे और उसका एक सही उपचार या मदद लें ।

दुखी होकर आँसू बहाने से निश्चित ही वो कभी नहीं मिलेगा। जिंदगी हर वक्त आपको चुनौती देती हैं. इसे भी एक चुनौती की तरह ले. और जीवन में कुछ ऐसा करें। कि जो आपको छोड़ कर गया है. उसे आपको छोड़ने का दुःख हो ।

इस आर्टिकल में बेहतरीन उदासी शायरी, डिप्रेशन शायरीउदासी शायरीउदाशी शायरी २ लाइन्सनिराशा शायरीDepression Shayari for whatsapp and facebookDepression Shayari in HindiSad Status in HindiDepression Status in Hindi आदि दिए हुए हैं. इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़े.

depression shayari in hindi 2020

दर्द बन के दिल में छुपना हमारी आदत नहीं
रह रह के चुभना हमारी फिदरत नहीं
आइना सा नाजुक दिल है हमारा
एक बार टूट जाए तो जुड़ना हमारी आदत नहीं

अनजान थे तुम शायद जिंदगी के सफर में
यादो को तुम्हारे हम भुलाएँगे नहीं
जिन्दा रहेंगे जिंदगी जियेंगे जी भर
ना पूछेंगे कभी कैसे है, कभी बताएँगे नहीं

जो तुफानो में पाले जा रहे हैं
वही दुनिया बदलते जा रहे हैं

अभी से पांव के छाले ना देखो
अभी यारों सफर की इबिदा है

कभी कभी इंसान, अपनी ज़िन्दगी से इतना मायूस हो जाता है कि वो ख़ुदकुशी का रास्ता भी अपना लेता है | जबकि हमें ये समझना चाहिए, अगर ज़िन्दगी मुश्किल होती जा रही है तो हमें लड़ने के अलावा दूसरा कोई रास्ता नहीं है। | इसीलिए मुश्किलों के दौर में हमें हार नहीं माननी है, बल्कि हिम्मत रौशनी की तरफ़ जाना है |

feeling depressed shayari

Very Sad Shayari

तकलीफ होती है जब वो भी ना समझे
समझता है मुझको जिनको कहते रहे हम

साँसों की डोर किसी दिन टूट जाएगी
मुसाफिर की यादें छूट जाएंगी
अभी जिन्दा हैं तो बात कर लिया करो
क्या पता कब जिंदगी हमसे रूठ जाएगी

hindi depression shayari in 2020

Sad Shayari
डिप्रेशन शायरी

इश्क़ है तो फिर वफ़ा कीजिये
अगर नहीं है तो फिर दफा कीजिये

जिंदगी के रिश्तें युंही नहीं सुलझ पाते
लोग अपनों में भी सुलझ नहीं जाते

Shayari On Depression In Hindi

हजार बरक गिरे लाख आंधियां उठे
वो फूल खिल के उठेंगे जो खिलने वाले हैं

ये कह के मेरे दिल ने हौसले बढाए हैं
ग़मों की धुप के आगे ख़ुशी के साये हैं

क्या इलाज़ करें जिसकी कोई खबर ना हो,
क्या दवा करें जिसपे कोई असर ना हो,
कैसे कह की मेरी उम्र करवा ले अपने नाम
क्या पता अगले पल तक हमारी उम्र हो

ये जिंदगी एक भोझ सी लगती होगी
माना मौत की अंगड़ाई कभी कभी सजती होगी
सच मान मेरे यार ये सिर्फ डिप्रेशन है
कभी इसका कोई कारण नहीं कभी रिसेशन है

मुहब्बत एक मुश्किल इन्तेहान है
दिल में छुपा के रखा तुम्हारा नाम है
कई शामें खाली बीती है तेरे बगैर
जिंदगी लगता है अब इसी का नाम है

Depression Status Hindi

Disappointed Shayari
Feeling Depressed Shayari

जिन्दगी की सच्चाई को समझते जाना है,
दुःख में अकेले है खुशियों वाला जमाना है

लोग जिस हाल में मरने की दुआ करते हैं
मैंने उस हाल में जीने की कसम खायी हैं

वो बात क्या करें जिसको कोई समझता ना हो
वो दुआ क्या करें जहाँ खुदा बसता ना हो
कैसे कह दे की कुछ नहीं है अंदर
हर पल भर रहा है आंशुओ का समंदर

किसी के आँखों-आँसू उन्हे पानी सा लगता है
हमारा टूट के टूट जाना उन्हें परेशानी सा लगता है

जो तुफानो में पालते जा रहे हैं
वही दुनिया बदलते जा रहे हैं
जिगर मुरादाबादी

ये कह के दिल ने मरे हौसले बढ़ाए है
गमो के धुप के आगे खुसी के साये हैं
माहिर कादरी

“क्या ज़ुल्मतों के दौर में भी गीत गाए जाएँगे,
हाँ ज़ुल्मतों के दौर के ही गीत गाए जाएँगे”

depression shayari hindi after corona

निराशा शायरी

दिल अधूरी कहानियो का अंजाम ढूंढ रहा है
कोरा पन्ना है उसपे किसी का नाम ढूंढ रहा है

आज उनको दर्द होने लगा है
कोई आज अकेले में रोने लगा है
अब हमें दर्द से दर्द नहीं आता है
अकेले खुश हैं अब कोई नहीं भाता है

तुम्हारे बिन हम अधूरे रहेंगे
चाहा है अब और ना कहेंगे
जब ना रहे तो वो आलम ना होगा
याद रखना लोग तुम्हे पागल कहेंगे

shayari on depression in hindi

उदास शायरी २ लाइन्स,
उदासी शायरी

जब अकेले हो तो दिल का बोझ उतार दो
आंसुओ का समंदर को कंधे का भार दो
मत रोको अपने अंदर के सुनेपन को
कभी समझो कुछ समझाओ अपने मन को

जिस पर जहर असर नहीं करता है,
अकेलापन उसे तन्हाई से मार देता है

अधूरी कहानी पर खामोश आँखों का पहरा है,
घुटन दिल की है इसलिए दर्द जरा गहरा है.

तू शाही है परवाज़ है काम तेरा
तेरे आगे आस्मां और भी हैं
अल्लामा इक़बाल

हजार बर्फ गिरे लाख आँधिया उठे
वो फूल खिल के रहेंगे जो खिलने वाले हैं
साहिर लुधियानवी

Leave a Comment

Your email address will not be published.