चक्का जाम शायरी | Chakka Jam Shayari

नए कृषि कानूनों के विरोध में भा कि यू ( Bhartiya Kisan Union ) छह फरवरी 2021 को जिले में छह स्थानों पर नेशनल हाईवे पर चक्का जाम करेगी। जाम दोपहर 12 से तीन बजे तक होगा। इसकी कमान स्थानीय भाकियू पदाधिकारियों के हाथ में रहेगी। आवश्यक सेवाओं को जाम से मुक्त रखा जाएगा।

नवम्बर 1973 में दिल्ली के इतिहास में पहली बार किसी मज़दूर संगठन यानी ’सीटू’ ने अपने दम पर हड़ताल कराई थी I

चक्का जाम शायरी से आप अपने प्रशासन को अपना सन्देश दे सकते हैं. हमारी कोशिश है की इस चक्का जाम के मौके पर आपके पास अच्छे नारे ,गाने ,शायरी हो

Chakka Jaam Poem in hindi

चक्का जाम हुआ भई चक्का जाम हुआ ! – कांतिमोहन ‘सोज़’ Kanti Mohan Soz

चक्का जाम हुआ भई चक्का जाम हुआ !
दिल्ली के मज़दूरों ! ओ मेरे रणशूरों
शाबाशी का काम हुआ !
चक्का जाम हुआ भई चक्का जाम हुआ !

घर में पड़ा सड़े सरमाया
पूंजीपति मन में घबराया
पुलिस मिलिट्री लाठी गोली
सबने मिलकर ज़ोर लगाया
मजदूरों के बिना मिलों का क्या अंजाम हुआ
क्या अंजाम हुआ
चक्का जाम हुआ भई चक्का जाम हुआ !

हम ही महल बनानेवाले
हम ही महल गिरानेवाले
हम भूगोल बदलनेवाले
हम इतिहास बनानेवाले
जो हमसे टकराया उसका क्या अंजाम हुआ
क्या अंजाम हुआ
चक्का जाम हुआ भई चक्का जाम हुआ !

दिल्ली के मज़दूरों ! ओ मेरे रणशूरों
शाबाशी का काम हुआ !
चक्का जाम हुआ भई चक्का जाम हुआ !

Chakka Jaam Shayari

लेके प्रभु का नाम
चलो करो चक्का जाम

ना काम से ना धाम से
अब तो बात होगी चक्का जाम से

हमारे अपने है प्रभु श्री राम
पर हक़ के लिए करेंगे चक्का जाम

इस चक्का जाम में जो नशा है
वो शराबियों के जाम में कहाँ है

Chakka Jaam shayari in Hindi

चक्का है वो कभी जाम होना चाहिए
अपने मांगो का एक अंजाम होना चाहिए


हम नहीं कहते की तुम खुदा बन जाओ
हमारी मांगो की मीठी से दवा बन जाओ

protest shayari

प्रोटेस्ट करना अब जरूरी है
ये ख़ुशी नहीं आखिरी मज़बूरी है
तुम मान जाओ तो ठीक होगा
हमारे जर जमीं का बहुत लफड़ा होगा