Advertisements

BR Ambedkar motivational story in hindi | डॉ. भीमराव आंबेडकर

डॉ. बाबा साहेब आंबेडकर की अद्वितीय प्रतिभा हमेशा  से शोध का विषय रहा  है।

डॉ. भीमराव आंबेडकर नाम से लोकप्रिय, भारतीय बहुज्ञ, विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ, और समाजसुधारक थे। उन्होंने दलित आंदोलन को प्रेरित किया और अछूतों (दलितों) से सामाजिक भेदभाव के विरुद्ध अभियान चलाया था।

वे स्वतंत्र भारत के प्रथम विधि एवं न्याय मंत्री, भारतीय संविधान के जनक एवं भारत गणराज्य के निर्माता थे।

आम्बेडकर विपुल प्रतिभा के छात्र थे। उन्होंने कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स दोनों ही विश्वविद्यालयों से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधियाँ प्राप्त कीं

 व्यावसायिक जीवन के आरम्भिक भाग में ये अर्थशास्त्र के प्रोफेसर रहे एवं वकालत भी की तथा बाद का जीवन राजनीतिक गतिविधियों में अधिक बीता। आम्बेडकर भारत की स्वतन्त्रता के लिए प्रचार और चर्चाओं में शामिल हो गए और पत्रिकाओं को प्रकाशित करने, राजनीतिक अधिकारों की वकालत करने और दलितों के लिए सामाजिक स्वतंत्रता की वकालत और भारत के निर्माण में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा। 1990 में उन्हें भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान से मरणोपरांत सम्मानित किया गया था।

BR Ambedkar,abedkar, about ambedkar, about ambedkar in hindi, about bheem rao ambedkar, about bhim rao ambedkar, about bhim rao ambedkar in hindi, about br ambedkar, about br ambedkar in hindi, about dr ambedkar, about dr ambedkar in hindi, about dr bhimrao ambedkar in hindi, about dr br ambedkar, about dr br ambedkar in hindi, ambadkar, ambathkar, ambdekar, ambdkar, ambedakar, ambedakr, ambedar, ambedhkar, ambedka, ambedkar, ambedkar baba, ambedkar biography in hindi, ambedkar biography pdf, ambedkar death date, ambedkar death reason, ambedkar death reason in hindi, ambedkar death story,
BR Ambedkar

BR Ambedkar wikipedia in hindi

डॉ. भीमराव आंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू में सूबेदार रामजी शकपाल एवं भीमाबाई की चौदहवीं संतान के रूप में हुआ था। उनका परिवार कबीर पंथ को माननेवाला मराठी मूूल का था और वो वर्तमान महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में आंबडवे गाँव का निवासी था।

वे हिंदू महार जाति से संबंध रखते थे, जो तब अछूत कही जाती थी और इस कारण उन्हें सामाजिक और आर्थिक रूप से गहरा भेदभाव सहन करना पड़ता था ।

अपनी जाति के कारण बालक भीम को सामाजिक प्रतिरोध का सामना करना पड़ रहा था ।

7 नवम्बर 1900 को रामजी सकपाल ने सातारा की गवर्न्मेण्ट हाइस्कूल में अपने बेटे भीमराव का नाम भिवा रामजी आंबडवेकर दर्ज कराया। भिवा उनके बचपन का नाम था। आम्बेडकर का मूल उपनाम सकपाल की बजाय आंबडवेकर लिखवाया था, जो कि उनके आंबडवे गाँव से संबंधित था। क्योंकी कोकण प्रांत के लोग अपना उपनाम गाँव के नाम से रखते थे, अतः आम्बेडकर के आंबडवे गाँव से आंबडवेकर उपनाम स्कूल में दर्ज करवाया गया ।

संयोगवश भीमराव सातारा गांव के एक ब्राह्मण शिक्षक को बेहद पसंद आए। बाद में एक देवरुखे ब्राह्मण शिक्षक कृष्णा महादेव आंबेडकर जो उनसे विशेष स्नेह रखते थे, ने उनके नाम से ‘आंबडवेकर’ हटाकर अपना सरल ‘आंबेडकर’ उपनाम जोड़ दिया

स्कूल में उस समय ‘भिवा रामजी आंबेडकर’ यह उनका नाम उपस्थिति पंजिका में अंकित था। जब वे अंग्रेजी चौथी कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण हुए, तब क्योंकि यह अछूतों में असामान्य बात थी, इसलिए भीमराव की इस सफलता को अछूतों के बीच और सार्वजनिक समारोह में मनाया गया, और उनके परिवार के मित्र एवं लेखक दादा केलुस्कर द्वारा खुद की लिखी ‘बुद्ध की जीवनी’ उन्हें भेंट दी गयी।

अप्रैल 1906 में जब भीमराव लगभग 15 वर्ष आयु के थे  तो नौ साल की लड़की रमाबाई से उनकी शादी कराई गई थी।

Ambedkar life in hindi

1907 में उन्होंने अपनी मैट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण की और अगले वर्ष उन्होंने एल्फिंस्टन कॉलेज में प्रवेश किया, जो कि बॉम्बे विश्वविद्यालय से संबद्ध था।  इस स्तर पर शिक्षा प्राप्त करने वाले अपने समुदाय से वे पहले व्यक्ति थे।

1912 तक उन्होंने बॉम्बे विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र और राजनीतिक विज्ञान में कला स्नातक (बी॰ए॰) प्राप्त की और बड़ौदा राज्य सरकार के साथ काम करने लगे।

1913 में  आम्बेडकर 22 साल की आयु में अमेरिका चले गए जहां उन्हें सयाजीराव गायकवाड़ तृतीय (बड़ौदा के गायकवाड़) द्वारा स्थापित एक योजना के तहत न्यू यॉर्क शहर स्थित कोलंबिया विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर शिक्षा के अवसर प्रदान करने के लिए तीन साल के लिए 11.50 डॉलर प्रति माह बड़ौदा राज्य की छात्रवृत्ति प्रदान की गई थी।

वहां पहुँचने के तुरन्त बाद वे लिविंगस्टन हॉल में पारसी मित्र नवल भातेना के साथ बस गए। जून 1915 में उन्होंने अपनी कला स्नातकोत्तर (एम॰ए॰) परीक्षा पास की जिसमें अर्थशास्त्र प्रमुख विषय, और समाजशास्त्र, इतिहास, दर्शनशास्त्र और मानव विज्ञान यह अन्य विषय थे। 1916 में उन्हें अपना दूसरा शोध कार्य, नेशनल डिविडेंड ऑफ इंडिया – ए हिस्टोरिक एंड एनालिटिकल स्टडी के लिए दूसरी कला स्नातकोत्तर प्रदान की गई और अन्ततः उन्होंने लंदन की राह ली।

अक्टूबर 1916 में, ये लंदन चले गये और वहाँ उन्होंने ग्रेज़ इन में बैरिस्टर कोर्स के लिए प्रवेश लिया, और साथ ही लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स में भी प्रवेश लिया जहां उन्होंने अर्थशास्त्र की डॉक्टरेट (Doctorate) थीसिस पर काम करना शुरू किया।

success stories of great people in hindi

जून 1917 में विवश होकर उन्हें अपना अध्ययन अस्थायी तौरपर बीच में ही छोड़ कर भारत लौट आए क्योंकि बड़ौदा राज्य से उनकी छात्रवृत्ति समाप्त हो गई थी। लौटते समय उनके पुस्तक संग्रह को उस जहाज से अलग जहाज पर भेजा गया था जिसे जर्मन पनडुब्बी के टारपीडो द्वारा डुबो दिया गया।

आंबेडकर को चार साल के भीतर अपने थीसिस के लिए लंदन लौटने की अनुमति मिली।  1920 में कोल्हापुर के शाहू महाराज, अपने पारसी मित्र के सहयोग और कुछ निजी बचत के सहयोग से वो एक बार फिर से इंग्लैंड वापस जाने में सफ़ल हो पाए तथा 1921 में विज्ञान स्नातकोत्तर (एम॰एससी॰) प्राप्त की ।

BR Ambedkar young ,ambedkar essay in hindi, ambedkar film, ambedkar hindi, ambedkar history, ambedkar history in hindi, ambedkar in hindi, ambedkar information, ambedkar information in hindi, ambedkar jayanti speech in hindi, ambedkar ji, ambedkar jivani, ambedkar jivani in hindi, ambedkar ki photo, ambedkar life history in hindi, ambedkar movie, ambedkar punyatithi, ambedkar punyatithi date, ambedkar saheb, ambedkar shayri photo, ambedkar speech in hindi, ambedkar story, ambedker, ambedkhar, ambedkr, amberkar, ambethkar, ambethkar history, ambetkar, amdekar, amedkar, history of babasaheb ambedkar, history of babasaheb ambedkar in hindi, history of br ambedkar in hindi, history of dr ambedkar in hindi, history of dr bhimrao ambedkar, history of dr br ambedkar in hindi, how ambedkar died, information about ambedkar, information about ambedkar in hindi, information about br ambedkar, information about br ambedkar in hindi, information about dr br ambedkar, information about dr br ambedkar in hindi, movies in bhimavaram, nayaki movie story, nayaki story, speech on ambedkar jayanti in hindi, speech on bhimrao ambedkar in hindi, speech on dr br ambedkar in hindi, vidvan, अम्बेडकर, अम्बेडकर की जीवनी, आंबेडकर, डा भीमराव अम्बेडकर, डॉ आंबेडकर, डॉ बर आंबेडकर, डॉ बाबा साहेब आंबेडकर, डॉ बी आर अम्बेडकर, डॉ ब्र आंबेडकर, डॉ भीमराव अंबेडकर, डॉ भीमराव अम्बेडकर, डॉ भीमराव आंबेडकर, डॉ भीमराव आंबेडकर जीवनी, डॉ भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी, डॉक्टर भीमराव अंबेडकर, बर आंबेडकर, बाबा भीमराव अम्बेडकर, बाबा साहब, बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर, बाबा साहेब, बाबा साहेब अम्बेडकर, बाबा साहेब आंबेडकर, बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर, भिमराव आंबेडकर, भीम राव आंबेडकर, भीमराव, भीमराव अंबेडकर, भीमराव अम्बेडकर, भीमराव अम्बेडकर की जीवनी, भीमराव अम्बेडकर के बारे में, भीमराव आंबेडकर,

1922 में  उन्हें ग्रेज इन ने बैरिस्टर-एट-लॉज डिग्री प्रदान की और उन्हें ब्रिटिश बार में बैरिस्टर के रूप में प्रवेश मिल गया। 1923 में उन्होंने अर्थशास्त्र में डी॰एससी॰ (डॉक्टर ऑफ साईंस) उपाधि प्राप्त की।

छुआछूत के विरुद्ध संघर्ष | BR Ambedkar untouchability Fight

आम्बेडकर ने कहा था “छुआछूत गुलामी से भी बदतर है।” आम्बेडकर बड़ौदा के रियासत राज्य द्वारा शिक्षित थे, अतः उनकी सेवा करने के लिए बाध्य थे। उन्हें महाराजा गायकवाड़ का सैन्य सचिव नियुक्त किया गया, लेकिन जातिगत भेदभाव के कारण कुछ ही समय में उन्हें यह नौकरी छोड़नी पडी। उन्होंने इस घटना को अपनी आत्मकथा, वेटिंग फॉर अ वीजा में वर्णित किया।

इसके बाद उन्होंने अपने बढ़ते परिवार के लिए जीविका साधन खोजने के पुनः प्रयास किये, जिसके लिये उन्होंने लेखाकार के रूप में, व एक निजी शिक्षक के रूप में भी काम किया, और एक निवेश परामर्श व्यवसाय की स्थापना की, किन्तु ये सभी प्रयास तब विफल हो गये जब उनके ग्राहकों ने जाना कि ये अछूत हैं

भारत सरकार अधिनियम १९१९, तैयार कर रही साउथबरो समिति के समक्ष आम्बेडकर ने दलितों और अन्य धार्मिक समुदायों के लिये पृथक निर्वाचिका और आरक्षण देने की वकालत की।  1920 में बंबई से, उन्होंने साप्ताहिक मूकनायक के प्रकाशन की शुरूआत की। यह प्रकाशन शीघ्र ही पाठकों मे लोकप्रिय हो गया.  तब आम्बेडकर ने इसका प्रयोग रूढ़िवादी हिंदू राजनेताओं व जातीय भेदभाव से लड़ने के प्रति भारतीय राजनैतिक समुदाय की अनिच्छा की आलोचना करने के लिये किया ।

बॉम्बे हाईकोर्ट में विधि का अभ्यास करते हुए, उन्होंने अछूतों की शिक्षा को बढ़ावा देने और उन्हें ऊपर उठाने के प्रयास किये। उनका पहला संगठित प्रयास केंद्रीय संस्थान बहिष्कृत हितकारिणी सभा की स्थापना था

सन 1925 में उन्हें बम्बई प्रेसीडेंसी समिति में सभी यूरोपीय सदस्यों वाले साइमन कमीशन में काम करने के लिए नियुक्त किया गया । आम्बेडकर ने अलग से भविष्य के संवैधानिक सुधारों के लिये सिफारिश लिखकर भेजीं ।

सन 1927 तक, डॉ॰ आम्बेडकर ने छुआछूत के विरुद्ध एक व्यापक एवं सक्रिय आंदोलन आरम्भ करने का निर्णय किया। उन्होंने सार्वजनिक आंदोलनों, सत्याग्रहों और जलूसों के द्वारा, पेयजल के सार्वजनिक संसाधन समाज के सभी वर्गों के लिये खुलवाने के साथ ही उन्होनें अछूतों को भी हिंदू मन्दिरों में प्रवेश करने का अधिकार दिलाने के लिये संघर्ष किया। 

1930 में आम्बेडकर ने तीन महीने की तैयारी के बाद कालाराम मन्दिर सत्याग्रह शुरू किया। कालाराम मन्दिर आंदोलन में लगभग 15,000 स्वयंसेवक इकट्ठे हुए, जिससे नाशिक की सबसे बड़ी प्रक्रियाएं हुईं।

Puna Pact Ambedkar

अब तक भीमराव आम्बेडकर आज तक की सबसे बडी़ अछूत राजनीतिक हस्ती बन चुके थे। उन्होंने मुख्यधारा के महत्वपूर्ण राजनीतिक दलों की जाति व्यवस्था के उन्मूलन के प्रति उनकी कथित उदासीनता की कटु आलोचना की।

आम्बेडकर ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और उसके नेता महात्मा गांधी की भी आलोचना की, उन्होंने उन पर अछूत समुदाय को एक करुणा की वस्तु के रूप मे प्रस्तुत करने का आरोप लगाया। उन्होंने अछूत समुदाय के लिये एक ऐसी अलग राजनीतिक पहचान की वकालत की जिसमे कांग्रेस और ब्रिटिश दोनों की ही कोई दखल ना हो ।

 लंदन में 8 अगस्त, 1930 को एक शोषित वर्ग के सम्मेलन यानी प्रथम गोलमेज सम्मेलन के दौरान आम्बेडकर ने अपनी राजनीतिक दृष्टि को दुनिया के सामने रखा, जिसके अनुसार शोषित वर्ग की सुरक्षा उसके सरकार और कांग्रेस दोनों से स्वतंत्र होने में है ।

हमें अपना रास्ता स्वयँ बनाना होगा और स्वयँ… राजनीतिक शक्ति शोषितो की समस्याओं का निवारण नहीं हो सकती, उनका उद्धार समाज मे उनका उचित स्थान पाने में निहित है। उनको अपना रहने का बुरा तरीका बदलना होगा… उनको शिक्षित होना चाहिए॰.. एक बड़ी आवश्यकता उनकी हीनता की भावना को झकझोरने और उनके अंदर उस दैवीय असंतोष की स्थापना करने की है जो सभी उँचाइयों का स्रोत है ।

1932 में जब ब्रिटिशों ने आम्बेडकर के विचारों के साथ सहमति व्यक्त करते हुये अछूतों को पृथक निर्वाचिका देने की घोषणा की। कम्युनल अवार्ड की घोषणा गोलमेज सम्मेलन में हुए विचार विमर्श का ही परिणाम था। इस समझौते के तहत आम्बेडकर द्वारा उठाई गई राजनैतिक प्रतिनिधित्व की मांग को मानते हुए पृथक निर्वाचिका में दलित वर्ग को दो वोटों का अधिकार प्रदान किया गया ।

देश में बढ़ते दबाव को देख आम्बेडकर 24 सितम्बर 1932 को शाम पांच बजे येरवडा जेल पहुँचे। यहां गांधी और आम्बेडकर के बीच समझौता हुआ, जो बाद में पूना पैक्ट के नाम से जाना गया। इस समझौते मे आम्बेडकर ने दलितों को कम्यूनल अवॉर्ड में मिले पृथक निर्वाचन के अधिकार को छोड़ने की घोषणा की। लेकिन इसके साथ हीं कम्युनल अवार्ड से मिली 78 आरक्षित सीटों की बजाय पूना पैक्ट में आरक्षित सीटों की संख्या बढ़ा कर 148 करवा ली।

इसके साथ ही अछूत लोगो के लिए प्रत्येक प्रांत मे शिक्षा अनुदान मे पर्याप्त राशि नियत करवाईं और सरकारी नौकरियों से बिना किसी भेदभाव के दलित वर्ग के लोगों की भर्ती को सुनिश्चित किया और इस तरह से आम्बेडकर ने महात्मा गांधी की जान बचाई।  आम्बेडकर इस समझौते से असमाधानी थे, उन्होंने गाँधी के इस अनशन को अछूतों को उनके राजनीतिक अधिकारों से वंचित करने और उन्हें उनकी माँग से पीछे हटने के लिये दवाब डालने के लिये गांधी द्वारा खेला गया एक नाटक करार दिया।

राजनीतिक जीवन | BR Ambedkar political life

आंबेडकर का राजनीतिक कैरियर 1926 में शुरू हुआ और 1956 तक वो राजनीतिक क्षेत्र में विभिन्न पदों पर रहे। दिसंबर 1926 में बॉम्बे के गवर्नर ने उन्हें बॉम्बे विधान परिषद के सदस्य के रूप में नामित किया; उन्होंने अपने कर्तव्यों को गंभीरता से लिया, और अक्सर आर्थिक मामलों पर भाषण दिये। वे 1936 तक बॉम्बे लेजिस्लेटिव काउंसिल के सदस्य थे

1942 में आंबेडकर द्वारा एक सामाजिक-राजनीतिक संगठन ,ऑल इंडिया शेड्यूल्ड कास्ट्स फेडरेशन की गई थी।वर्ष 1942 से 1946 के दौरान, आंबेडकर ने रक्षा सलाहकार समिति और वाइसराय की कार्यकारी परिषद में श्रम मंत्री के रूप में सेवारत रहे।

पाकिस्तान की मांग कर रहे मुस्लिम लीग के लाहौर रिज़ोल्यूशन (1940) के बाद, आम्बेडकर ने “थॉट्स ऑन पाकिस्तान नामक 400 पृष्ठों वाला एक पुस्तक लिखा, जिसने अपने सभी पहलुओं में “पाकिस्तान” की अवधारणा का विश्लेषण किया। इसमें उन्होंने मुस्लिम लीग की मुसलमानों के लिए एक अलग देश पाकिस्तान की मांग की आलोचना की।

आम्बेडकर ने अपनी राजनीतिक पार्टी को अखिल भारतीय अनुसूचित जाति फेडरेशन (शेड्युल्ड कास्ट फेडरेशन) में बदलते देखा, हालांकि 1946 में आयोजित भारत के संविधान सभा के लिए हुये चुनाव में खराब प्रदर्शन किया। बाद में वह बंगाल जहां मुस्लिम लीग सत्ता में थी वहां से संविधान सभा में चुने गए थे।

BR Ambedkar in office,b. r. ambedkar, baba ambedkar, baba bheem rao ambedkar, baba bhim rao ambedkar, baba bhimrao ambedkar, baba bhimrao ambedkar in hindi, baba bhimrao ambedkar photo, baba saheb, baba saheb aambedkar, baba saheb ambedakar, baba saheb ambedkar, baba saheb bhim rao ambedkar, baba saheb bhim rao ambedkar in hindi, baba saheb dr bhim rao ambedkar, baba saheb in hindi, babasaheb ambedkar biography in hindi, babasaheb ambedkar hindi, babasaheb ambedkar history in hindi, babasaheb ambedkar in hindi, babasaheb ambedkar speech in hindi, babasaheb bhimrao ambedkar, babasaheb doctor bhimrao ambedkar, bheem rao ambedkar, bheem rao ambedkar in hindi, bheem rav ambedkar, bheem raw ambedkar, bheemaram, bhim ambedkar, bhim rao, bhim rao ambedkar, bhim rao ambedkar biography in hindi, bhim rao ambedkar death, bhim rao ambedkar history, bhim rao ambedkar history in hindi, bhim rao ambedkar in hindi, bhim rao ambedkar jayanti, bhim rao ambedkar life history in hindi, bhim rao ambedkar movie, bhim shayari hindi, bhimavaram movies, bhimrao, bhimrao ambedkar, bhimrao ambedkar hindi, bhimrao ambedkar image, bhimrao ambedkar in hindi, bhimrao ambedkar jivani in hindi, bhimrao ambedkar ki jivani, bhimrao ambedkar movie hindi, bhimrao ambedkar photo, bhimrao ek no, bhimrav, biography of ambedkar in hindi, biography of bhim rao ambedkar in hindi, biography of br ambedkar in hindi, biography of dr ambedkar in hindi, biography of dr bhim rao ambedkar in hindi, biography of dr br ambedkar in hindi, br ambedhkar, br ambedkar, br ambedkar biography in hindi, br ambedkar death reason, br ambedkar history in hindi, br ambedkar in hindi, br ambedkar movie, br ambethkar, br ambetkar, br amedkar, br dr ambedkar, do bhimrao ambedkar, doctor bhim rao ambedkar, dr ambedkar, dr ambedkar biography in hindi, dr ambedkar essay in hindi, dr ambedkar hindi, dr ambedkar history, dr ambedkar history in hindi, dr ambedkar in hindi, dr ambedkar information in hindi, dr ambedkar movie, dr ambedkar shayari, dr ambedkar shayari in hindi, dr ambedkar speech in hindi, dr ambedkar story in hindi, dr ambethkar, dr babasaheb ambedkar biography in hindi, dr babasaheb ambedkar full movie hindi, dr babasaheb ambedkar hindi, dr babasaheb ambedkar history in hindi, dr babasaheb ambedkar in hindi, dr babasaheb ambedkar information in hindi, dr babasaheb ambedkar movie hindi, dr babasaheb ambedkar punyatithi, dr babasaheb ambedkar shayari, dr babasaheb ambedkar shayari in hindi, dr babasaheb bhimrao ambedkar, dr bheem rao, dr bheem rao ambedkar, dr bheem rao ambedkar history, dr bheem rao ambedkar in hindi, dr bheem rao ambedker, dr bhim ambedkar, dr bhim rao, dr bhim rao ambedkar biography in hindi, dr bhim rao ambedkar death, dr bhim rao ambedkar hindi, dr bhim rao ambedkar history, dr bhim rao ambedkar history in hindi, dr bhim rao ambedkar in hindi, dr bhim rao ambedkar jayanti, dr bhim rao ambedkar ki jivani, dr bhim rao ambedkar life history in hindi, dr bhim rao ambedkar story in hindi, dr bhim rao ambedkar thoughts in hindi, dr bhimrao, dr bhimrao ambedkar hindi, dr bhimrao ambedkar history, dr bhimrao ambedkar history in hindi, dr bhimrao ambedkar in hindi, dr bhimrao ambedkar jivani, dr bhimrao ambedkar jivani in hindi, dr bhimrao ambedkar ka photo, dr bhimrao ambedkar ki jivani, dr bhimrao ambedkar ki jivani in hindi, dr bhimrao ambedkar ki photo, dr bhimrao ambedkar life story in hindi, dr bhimrao ambedkar movie hindi, dr bhimrav, dr br ambedkar biography in hindi, dr br ambedkar death date, dr br ambedkar death reason, dr br ambedkar essay in hindi, dr br ambedkar history hindi, dr br ambedkar in hindi, dr br ambedkar information in hindi, dr br ambedkar life history in hindi, dr br ambedkar movie, dr br ambedkar movie in hindi, dr br ambedkar shayari, dr br ambedkar speech in hindi, dr brambedkar, dr vikatan, dr. b.r. ambedkar, dr. bhim rao ambedkar, dr. bhimrao ambedkar, dr. br ambedkar, drambedkar, ek aur atyachar movie, essay on ambedkar in hindi, essay on bhimrao ambedkar in hindi, history of ambedkar, history of ambedkar in hindi,
BR Ambedkar

आम्बेडकर ने बॉम्बे उत्तर में से 1952 का पहला भारतीय लोकसभा चुनाव लड़ा, लेकिन उनके पूर्व सहायक और कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार नारायण काजोलकर से हार गए। 1952 में आम्बेडकर राज्य सभा के सदस्य बन गए। उन्होंने भंडारा से 1954 के उपचुनाव में फिर से लोकसभा में प्रवेश करने की कोशिश की, लेकिन वे तीसरे स्थान पर रहे (कांग्रेस पार्टी जीती)। 1957 में दूसरे आम चुनाव के समय तक आम्बेडकर की निर्वाण (मृत्यु) हो गया था।

धर्म परिवर्तन की घोषणा | BR Ambedkar religion conversion in hindi

10-12 साल हिन्दू धर्म के अन्तर्गत रहते हुए बाबासाहब आम्बेडकर ने हिन्दू धर्म तथा हिन्दु समाज को सुधारने, समता तथा सम्मान प्राप्त करने के लिए तमाम प्रयत्न किए, परन्तु सवर्ण हिन्दुओं का ह्रदय परिवर्तन न हुआ।

 उल्टे उन्हें निंदित किया गया और हिन्दू धर्म विनाशक तक कहा गया। उसेके बाद उन्होंने कहा था की, “हमने हिन्दू समाज में समानता का स्तर प्राप्त करने के लिए हर तरह के प्रयत्न और सत्याग्रह किए, परन्तु सब निरर्थक सिद्ध हुए। हिन्दू समाज में समानता के लिए कोई स्थान नहीं है।”

हिन्दू समाज का यह कहना था कि “मनुष्य धर्म के लिए हैं” जबकि आम्बेडकर का मानना था कि “धर्म मनुष्य के लिए हैं।”

 आम्बेडकर ने कहा कि ऐसे धर्म का कोई मतलब नहीं जिसमें मनुष्यता का कुछ भी मूल्य नहीं। जो अपने ही धर्म के अनुयायिओं (अछूतों को) को धर्म शिक्षा प्राप्त नहीं करने देता, नौकरी करने में बाधा पहुँचाता है, बात-बात पर अपमानित करता है और यहाँ तक कि पानी तक नहीं मिलने देता ऐसे धर्म में रहने का कोई मतलब नहीं

13 अक्टूबर 1935 को नासिक के निकट येवला में एक सम्मेलन में बोलते हुए आम्बेडकर ने धर्म परिवर्तन करने की घोषणा की,

“हालांकि मैं एक अछूत हिन्दू के रूप में पैदा हुआ हूँ, लेकिन मैं एक हिन्दू के रूप में हरगिज नहीं मरूँगा!”

उन्होंने अपने अनुयायियों से भी हिंदू धर्म छोड़ कोई और धर्म अपनाने का आह्वान किया

आम्बेडकर ने धर्म परिवर्तन की घोषणा करने के बाद 21 वर्ष तक के समय के बीच उन्होंने ने विश्व के सभी प्रमुख धर्मों का गहन अध्ययन किया। उनके द्वारा इतना लंबा समय लेने का मुख्य कारण यह भी था कि वो चाहते थे कि जिस समय वो धर्म परिवर्तन करें उनके साथ ज्यादा से ज्यादा उनके अनुयायी धर्मान्तरण करें। आम्बेडकर बौद्ध धर्म को पसन्द करते थे क्योंकि उसमें तीन सिद्धांतों का समन्वित रूप मिलता है जो किसी अन्य धर्म में नहीं मिलता। बौद्ध धर्म प्रज्ञा (अंधविश्वास तथा अतिप्रकृतिवाद के स्थान पर बुद्धि का प्रयोग), करुणा (प्रेम) और समता (समानता) की शिक्षा देता है

मैं बुद्ध के धम्म को सबसे अच्छा मानता हूं। इससे किसी धर्म की तुलना नहीं की जा सकती है। यदि एक आधुनिक व्यक्ति जो विज्ञान को मानता है, उसका धर्म कोई होना चाहिए, तो वह धर्म केवल बौद्ध धर्म ही हो सकता है। सभी धर्मों के घनिष्ठ अध्ययन के पच्चीस वर्षों के बाद यह दृढ़ विश्वास मेरे बीच बढ़ गया है

14 अक्टूबर 1956 को नागपुर शहर में डॉ॰ भीमराव आम्बेडकर ने खुद और उनके समर्थकों के लिए एक औपचारिक सार्वजनिक धर्मांतरण समारोह का आयोजन किया।

संविधान निर्माण |Ambedkar Indian constitution in hindi

गांधी व कांग्रेस की कटु आलोचना के बावजूद आम्बेडकर की प्रतिष्ठा एक अद्वितीय विद्वान और विधिवेत्ता की थी भारत की स्वतंत्रता के बाद, कांग्रेस के नेतृत्व वाली नई सरकार अस्तित्व में आई तो उसने आम्बेडकर को देश के पहले क़ानून एवं न्याय मंत्री के रूप में सेवा करने के लिए आमंत्रित किया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया।

29 अगस्त 1947 को आम्बेडकर को स्वतंत्र भारत के नए संविधान की रचना के लिए बनी संविधान की मसौदा समिति के अध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया। इस कार्य में आम्बेडकर का शुरुआती बौद्ध संघ रीतियों और अन्य बौद्ध ग्रंथों का अध्ययन भी काम आया

उन्होंने लगभग 60 देशों के संविधानों का अध्ययन किया था। आम्बेडकर को “भारत के संविधान का पिता” के रूप में मान्यता प्राप्त है।

दूसरा विवाह | BR Ambedkar Second Marriage

आम्बेडकर की पहली पत्नी रमाबाई की लंबी बीमारी के बाद 1935 में निधन हो गया। 1940 के दशक के अंत में भारतीय संविधान के मसौदे को पूरा करने के बाद वह नीन्द की कमी से पीड़ित थे ।

 उनके पैरों में न्यूरोपैथिक दर्द था, और इंसुलिन और होम्योपैथिक दवाएं ले रहे थे। वह इलाज के लिए बॉम्बे (मुम्बई) गए, और वहां डॉक्टर शारदा कबीर से मिले जिनके साथ उन्होंने 15 अप्रैल 1948 को नई दिल्ली में अपने घर पर विवाह किया था।

डॉ॰ शारदा कबीर ने शादी के बाद सविता आम्बेडकर नाम अपनाया और उनके बाकी जीवन में उनकी देखभाल की। सविता आम्बेडकर  को  ‘माई’ या ‘माइसाहेब’ कहा जाता था। उनका  निधन 29 मई 2003 को नई दिल्ली के मेहरौली में 93 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

परिवार | Ambedkar Family

रमाबाई और भीमराव को पाँच बच्चे भी हुए – जिनमें चार पुत्र: यशवंत, रमेश, गंगाधर, राजरत्न और एक पुत्री: इन्दु थी। किंतु ‘यशवंत’ को छोड़कर सभी संतानों की बचपन में ही मृत्यु हो गई थीं। प्रकाश, रमाबाई, आनंदराज तथा भीमराव यह चारो यशवंत आम्बेडकर की संताने हैं।

गुरु और उपास्य देवता | Ambedkar Guru in hindi

आम्बेडकर ने कहां था की उनका जीवन तीन गुरुओं और तीन उपास्यों से सफल बना है। उन्होंने जिन तीन महान व्यक्तियों को अपना गुरु माना, उसमे उनके पहले गुरु थे =गौतम बुद्ध, दूसरे थे संत कबीर और तीसरे गुरु थे महात्मा ज्योतिराव फुले थे।

निधन | BR Ambedkar Death in hindi


1948 से, आम्बेडकर मधुमेह से पीड़ित थे। जून से अक्टूबर 1954 तक वो बहुत बीमार रहे इस दौरान वो कमजोर होती दृष्टि से ग्रस्त थे| 1955 के दौरान किये गये लगातार काम ने उन्हें तोड़ कर रख दिया ( ambedkar death reason ) । अपनी अंतिम पांडुलिपि भगवान बुद्ध और उनका धम्म को पूरा करने के तीन दिन के बाद 6 दिसम्बर 1956 को आम्बेडकर का नींद में दिल्ली में उनके घर मे हो गया। तब उनकी आयु 64 वर्ष एवं 7 महिने की थी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: