Advertisements

bashir badr shayari in hindi – बशीर बद्र की शायरी और ग़ज़ल

bashir badr poetry

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए
ज़िंदगी तू ने मुझे क़ब्र से कम दी है ज़मीं
पाँव फैलाऊँ तो दीवार में सर लगता है

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता

न जी भर के देखा न कुछ बात की
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की

ankhon men raha dil men utar kar nahin dekha
kashti ke musafir ne samundar nahin dekha

tumhen zarur koi chahaton se dekhega
magar vo ankhen hamari kahan se laega

isi liye to yahan ab bhi ajnabi huun main
tamam log farishte hain aadmi huun main

dushmani ka safar ik qadam do qadam
tum bhi thak jaoge ham bhi thak jaenge

bashir badr kavita kosh

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला

तुम मुझे छोड़ के जाओगे तो मर जाऊँगा
यूँ करो जाने से पहले मुझे पागल कर दो

ख़ुदा की इतनी बड़ी काएनात में मैं ने
बस एक शख़्स को माँगा मुझे वही न मिला

guftugu un se roz hoti hai
muddaton samna nahin hota

na tum hosh men ho na ham hosh men hain
chalo mai-kade men vahin baat hogi

ashiqi men bahut zaruri hai
bevafai kabhi kabhi karna

bhuul shayad bahut baDi kar li
dil ne duniya se dosti kar li

बशीर बद्र के शेर

हम तो कुछ देर हँस भी लेते हैं
दिल हमेशा उदास रहता है

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा

तुम मोहब्बत को खेल कहते हो
हम ने बर्बाद ज़िंदगी कर ली

हसीं तो और हैं लेकिन कोई कहाँ तुझ सा
जो दिल जलाए बहुत फिर भी दिलरुबा ही लगे

इतनी मिलती है मिरी ग़ज़लों से सूरत तेरी
लोग तुझ को मिरा महबूब समझते होंगे

घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला

उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते

बशीर बद्र की चुनिंदा शायरी

मैं जब सो जाऊँ इन आँखों पे अपने होंट रख देना
यक़ीं आ जाएगा पलकों तले भी दिल धड़कता है

भला हम मिले भी तो क्या मिले वही दूरियाँ वही फ़ासले
न कभी हमारे क़दम बढ़े न कभी तुम्हारी झिजक गई
अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जाएगा
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझ को चाहेगा

जी बहुत चाहता है सच बोलें
क्या करें हौसला नहीं होता

बहुत दिनों से मिरे साथ थी मगर कल शाम
मुझे पता चला वो कितनी ख़ूबसूरत है

dr bashir badr poetry

uDne do parindon ko abhi shokh hava men
phir lauT ke bachpan ke zamane nahin aate

bhala ham mile bhi to kya mile vahi duriyan vahi fasle
na kabhi hamare qadam baDhe na kabhi tumhari jhijak gai

agar talash karun koi mil hi jaega
magar tumhari tarah kaun mujh ko chahega

patthar mujhe kahta hai mira chahne vaala
main mom huun us ne mujhe chhu kar nahin dekha

abhi raah men kai moD hain koi aaega koi jaega
tumhen jis ne dil se bhula diya use bhulne ki dua karo

bashir badr sher

एक औरत से वफ़ा करने का ये तोहफ़ा मिला
जाने कितनी औरतों की बद-दुआएँ साथ हैं

सात संदूक़ों में भर कर दफ़्न कर दो नफ़रतें
आज इंसाँ को मोहब्बत की ज़रूरत है बहुत

अच्छा तुम्हारे शहर का दस्तूर हो गया
जिस को गले लगा लिया वो दूर हो गया

कभी कभी तो छलक पड़ती हैं यूँही आँखें
उदास होने का कोई सबब नहीं होता

ujale apni yadon ke hamare saath rahne do
na jaane kis gali men zindagi ki shaam ho jaae

har dhaDakte patthar ko log dil samajhte hain
umren biit jaati hain dil ko dil banane men

बशीर बद्र के मशहूर शेर

दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे
जब कभी हम दोस्त हो जाएँ तो शर्मिंदा न हों

बड़े लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
जहाँ दरिया समुंदर से मिला दरिया नहीं रहता

मुसाफ़िर हैं हम भी मुसाफ़िर हो तुम भी
किसी मोड़ पर फिर मुलाक़ात होगी

koi haath bhi na milaega jo gale miloge tapak se
ye nae mizaj ka shahr hai zara fasle se mila karo

mohabbaton men dikhave ki dosti na mila
agar gale nahin milta to haath bhi na mila

tum mujhe chhoD ke jaoge to mar jaunga
yuun karo jaane se pahle mujhe pagal kar do

bashir badr shayari on dosti

अजब चराग़ हूँ दिन रात जलता रहता हूँ
मैं थक गया हूँ हवा से कहो बुझाए मुझे

पत्थर मुझे कहता है मिरा चाहने वाला
मैं मोम हूँ उस ने मुझे छू कर नहीं देखा

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जाएगा
तुम्हें जिस ने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो

bashir badr ghazals in hindi

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में

शोहरत की बुलंदी भी पल भर का तमाशा है
जिस डाल पे बैठे हो वो टूट भी सकती है

वो चेहरा किताबी रहा सामने
बड़ी ख़ूबसूरत पढ़ाई हुई

पत्थर के जिगर वालो ग़म में वो रवानी है
ख़ुद राह बना लेगा बहता हुआ पानी है

bashir badr ki shayari in hindi

इसी शहर में कई साल से मिरे कुछ क़रीबी अज़ीज़ हैं
उन्हें मेरी कोई ख़बर नहीं मुझे उन का कोई पता नहीं

गुफ़्तुगू उन से रोज़ होती है
मुद्दतों सामना नहीं होता

न तुम होश में हो न हम होश में हैं
चलो मय-कदे में वहीं बात होगी

आशिक़ी में बहुत ज़रूरी है
बेवफ़ाई कभी कभी करना

ham to kuchh der hans bhi lete hain
dil hamesha udaas rahta hai

sar jhukaoge to patthar devta ho jaega
itna mat chaho use vo bevafa ho jaega

tum mohabbat ko khel kahte ho
ham ne barbad zindagi kar li

musafir hain ham bhi musafir ho tum bhi
kisi moD par phir mulaqat hogi

yahan libas ki qimat hai aadmi ki nahin
mujhe gilas baDe de sharab kam kar de

log TuuT jaate hain ek ghar banane men
tum taras nahin khate bastiyan jalane men

shohrat ki bulandi bhi pal bhar ka tamasha hai
jis Daal pe baiThe ho vo TuuT bhi sakti hai

bashir badr ghazals

भूल शायद बहुत बड़ी कर ली
दिल ने दुनिया से दोस्ती कर ली

आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफ़िर ने समुंदर नहीं देखा

तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा
मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लाएगा

इसी लिए तो यहाँ अब भी अजनबी हूँ मैं
तमाम लोग फ़रिश्ते हैं आदमी हूँ मैं

zindagi tu ne mujhe qabr se kam di hai zamin
paanv phailaun to divar men sar lagta hai

kuchh to majburiyan rahi hongi
yuun koi bevafa nahin hota

na ji bhar ke dekha na kuchh baat ki
baDi aarzu thi mulaqat ki

dushmani jam kar karo lekin ye gunjaish rahe
jab kabhi ham dost ho jaaen to sharminda na hon

baDe logon se milne men hamesha fasla rakhna
jahan dariya samundar se mila dariya nahin rahta

bashir badr ki shayari in hindi

दुश्मनी का सफ़र इक क़दम दो क़दम
तुम भी थक जाओगे हम भी थक जाएँगे

मोहब्बत एक ख़ुशबू है हमेशा साथ चलती है
कोई इंसान तन्हाई में भी तन्हा नहीं रहता

ख़ुदा ऐसे एहसास का नाम है
रहे सामने और दिखाई न दे

khuda ki itni baDi kaenat men main ne
bas ek shakhs ko manga mujhe vahi na mila

hasin to aur hain lekin koi kahan tujh sa
jo dil jalae bahut phir bhi dilruba hi lage

shayari of bashir badr

itni milti hai miri ġhazlon se surat teri
log tujh ko mira mahbub samajhte honge

gharon pe naam the namon ke saath ohde the
bahut talash kiya koi aadmi na mila

vo chehra kitabi raha samne
baDi khubsurat paDhai hui

patthar ke jigar vaalo ġham men vo ravani hai
khud raah bana lega bahta hua paani hai

isi shahr men kai saal se mire kuchh qaribi aziiz hain
unhen meri koi khabar nahin mujhe un ka koi pata nahin

mohabbat ek khushbu hai hamesha saath chalti hai
koi insan tanhai men bhi tanha nahin rahta

ji bahut chahta hai sach bolen
kya karen hausla nahin hota

bahut dinon se mire saath thi magar kal shaam
mujhe pata chala vo kitni khubsurat hai

ek aurat se vafa karne ka ye tohfa mila
jaane kitni auraton ki bad-duaen saath hain

saat sanduqon men bhar kar dafn kar do nafraten
aaj insan ko mohabbat ki zarurat hai bahut

achchha tumhare shahar ka dastur ho gaya
jis ko gale laga liya vo duur ho gaya

kabhi kabhi to chhalak paDti hain yunhi ankhen
udaas hone ka koi sabab nahin hota

ajab charaġh huun din raat jalta rahta huun
main thak gaya huun hava se kaho bujhae mujhe

khuda aise ehsas ka naam hai
rahe samne aur dikhai na de

यहाँ लिबास की क़ीमत है आदमी की नहीं
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे

हर धड़कते पत्थर को लोग दिल समझते हैं
उम्रें बीत जाती हैं दिल को दिल बनाने में

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से
ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो

agar fursat mile paani ki tahriron ko paDh lena
har ik dariya hazaron saal ka afsana likhta hai

rone valon ne uTha rakkha tha ghar sar par magar
umr bhar ka jagne vaala paDa sota raha

jis din se chala huun miri manzil pe nazar hai
ankhon ne kabhi miil ka patthar nahin dekha

Leave a Comment