Akbar birbal Story in hindi for kids | गलत आदत

Akbar birbal hindi Story for kids

अकबर बीरबल के किस्से बहुत ही मशहूर हुआ करते थे और साथ साथ ज्ञान भी देते थे। अकबर बीरबल की कहानियां मनोरंजन का ऐसा साधन हैं, जो हँसी मजाक तो देते ही हैं साथ ही जीवन का सत्य भी बताते हैं। ऐसा ही एक किस्सा इस कहानी में लिखा गया है।

एक दिन बादशाह अकबर काफी परेशान थे, कारण उनके बेटे की अंगूठा चूसने की आदत था । बादशाह अकबर ने कई तरीके आजमाए लेकिन शहजादे की आदत पर कोई असर नहीं हुआ।

Akbar Birbal Stories In Hindi Bad Habit | गलत आदत अकबर और बीरबल की कहानी
Advertisements

अकबर अपने दरबार में बैठे थे तब उन्हें एक फ़क़ीर के बारे में पता चला जिनकी बातें बहुत अच्छी होती हैं जिससे टेड़े से टेड़ा व्यक्ति भी सही दिशा में चलने लगता हैं। अकबर ने उस फ़क़ीर को दरबार में पेश करने का हुक्म दिया। फ़क़ीर दरबार में आया उसे अकबर ने अपने बेटे की गलत आदत के बारे में बताया और कोई उपाय करने का आग्रह किया।

दरबार में सभी दरबारी और बीरबल के साथ अकबर और उनका बेटा भी था। फ़क़ीर ने थोड़ी देर सोचा और कहा कि मैं एक हफ़्ते बाद आऊंगा और वहां से चला गया। अकबर और सभी दरबारियों को यह बात अजीब लगी कि फ़क़ीर बिना शहजादे से मिले ही चले गए।

Akbar birbal kahani

सप्ताह भर के बाद फ़क़ीर दरबार में आये और शहज़ादे से मिले और उन्होंने शहज़ादे को प्यार से मुहं में अंगूठा लेने से होने वाली तकलीफ़ों के बारे में समझाया और शहज़ादे ने कभी भी अंगूठा ना चूसने का वादा किया।

अकबर ने फ़क़ीर से कहा कि यह काम तो आप पिछले हफ़्ते ही कर सकते थे। सभी दरबारियों ने भी नाराज़गी व्यक्त की, कि इस फ़क़ीर ने हम सभी का वक्त बरबाद किया, और इसे सजा मिलनी चाहिए क्यूंकि इसने दरबार की तौहीन की है।

अकबर को भी यही सही लगा और उसने सजा सुनाने का तय किया। सभी दरबारियों ने अपना अपना सुझाव दिया। अकबर ने बीरबल से कहा – बीरबल तुम चुप क्यूँ हो ? तुम भी बताओं की क्या सजा देनी चाहिए ?

बीरबल ने जवाब दिया जहांपनाह! हम सभी को इस फ़क़ीर से सीख लेनी चाहिए और इन्हें एक गुरु का दर्जा देकर आशीर्वाद लेना चाहिए।

अकबर ने गुस्से में कहा बीरबल ! तुम हमारी और सभी दरबारियों की तौहिन कर रहें हो।

बीरबल ने कहा जहांपनाह ! गुस्ताखी माफ़ हो। लेकिन यही उचित न्याय हैं। जिस दिन फ़क़ीर पहली बार दरबार में आये थे और आप जब शहजादे के बारे में उनसे कह रहे थे तब आप सभी ने फ़क़ीर को बार बार कुछ खाते देखा होगा। दरअसल फ़क़ीर को चूना खाने की गलत आदत थी।

baccho ki kahani

जब आपने शहज़ादे के बारे में कहा तब उन्हें उनकी गलत आदत का अहसास हुआ और उन्होंने पहले खुद की गलत आदत को सुधारा। इस बार जब फ़क़ीर आये तब उन्होंने एक बार भी चूने की डिबिया को हाथ नहीं लगाया।

यह सुनकर सभी दरबारियों को अपनी गलती समझ आई और सभी से फ़क़ीर का आदर पूर्वक सम्मान किया।

हमें भी हमेशा दूसरों को ज्ञान देने से पहले खुद की कमियों को सुधारना चाहिए और सही उदाहरण पेश करना चाहिए, तभी हम दूसरों को ज्ञान देने के काबिल हो सकते हैं।

यह कहानी आपको कैसी लगी कमेंट अवश्य करें।